मध्यप्रदेश : कांग्रेस की सरकार में ये विधायक बन सकते हैं मंत्री

विशेष प्रतिनिधि

गुरुवार, 13 दिसंबर 2018 (10:36 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश में कांग्रेस अपना 15 साल का वनवास खत्म करने के बाद अब सरकार बनाने जा रही है। कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद इतना तय माना जा रहा है कि कमलनाथ ही प्रदेश में नई कांग्रेस सरकार का नेतृत्व करेंगे। कमलनाथ खरमास शुरू होने से पहले शुक्रवार या शनिवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। कमलनाथ के साथ लगभग एक दर्जन विधायक भी मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं।


कमलनाथ के मंत्रिमंडल में जहां वरिष्ठ विधायकों को मौका मिलेगा तो दूसरी ओर युवा विधायक भी मंत्री पद की शपथ लेते दिखाई दे सकते हैं। संभावना है कि शुरुआत में छोटी कैबिनेट शपथ लेगी, जिसमें वरिष्ठ विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई जाएगी। बाद में कैबिनेट का विस्तार कर नए विधायकों को मंत्री बनाया जाएगा।

वेबदुनिया पर कांग्रेस का संभावित मंत्रिमंडल कमलनाथ : सूबे में 15 साल बाद कांग्रेस की वापसी कराने वाले कमलनाथ ही मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, यह लगभग तय माना जा रहा है। कमलनाथ के नाम पर आज राहुल गांधी अंतिम मोहर लगा सकते हैं।

डॉक्टर गोविंद सिंह : कांग्रेस के सीनियर नेता और लहार से फिर विधायक चुन कर आए गोविंद सिंह को पार्टी विधानसभा अध्यक्ष बना सकती है। इस बार विधानसभा का फ्लोर मैनेजमेंट करना विधानसभा अध्यक्ष के लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहेगा, जहां विपक्षी दल भाजपा 109 विधायकों के साथ मजबूती से सरकार को घेरने की तैयारी में अभी से जुट गई है।

इसके लिए ये जरूरी हो गया है कि विधानसभा संचालन का काम किसी ऐसे वरिष्ठ कांग्रेस विधायक को सौंपा जाए, जो अनुभवी हो और विधानसभा का संचालन यहीं तरीके से कर सके। सात बार से लगातार विधायक चुने जा रहे हैं गोविंद सिंह कांग्रेस के उन दिग्गज नेताओं में शामिल हैं, जो दिग्विजय सरकार में भी मंत्री रहे हैं। गोविंद सिंह अगर विधानसभा अध्यक्ष नहीं बनते हैं तो उनका कैबिनेट मंत्री बनना तय है।

बाला बच्चन : राजपुर से कांग्रेस से सीनियर विधायक बाला बच्चन को भी पार्टी  विधानसभा अध्यक्ष बना सकती है। बाला बच्चन के तेजतर्रार और मृदभाषी स्वभाव होना विधानसभा अध्यक्ष बनने के लिए अनुकूल माना जा रहा है, वहीं अगर बाला बच्चन विधानसभा अध्यक्ष नहीं बनते हैं तो नई सरकार में उनका कैबिनेट मंत्री तय है। बाला बच्चन की वरिष्ठता को देखते हुए उनको अहम मंत्रालय की जिम्मेदारी मिलना तय मानी जा रही है।

सज्जन सिंह वर्मा : कमलनाथ के काफी करीबी माने जाने वाले पूर्व सांसद और इस बार विधानसभा में सोनकच्छ से विधायक चुनकर पहुंचे सज्जन सिंह वर्मा का मंत्री बनना तय है। सज्जन सिंह वर्मा दिग्विजय सरकार में नगरीय प्रशासन जैसे महत्त्वपूर्ण विभाग का कामकाज संभाल चुके हैं।

विजयलक्ष्मी साधौ : महेश्वर से विधायक बन कर विधानसभा पहुंची कांग्रेस की वरिष्ठ नेता विजयलक्ष्मी साधौ का भी कैबिनेट मंत्री बनना तय माना जा रहा है। विजयलक्ष्मी साधौ कैबिनेट मंत्री की शपथ ले सकती हैं।

आरिफ अकील : वर्तमान में कांग्रेस के एक मात्र मुस्लिम विधायक और इस बार भी भोपाल उत्तर से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे आरिफ अकील का कांग्रेस की सरकार में मंत्री बनना तय है। दिग्विजय सिंह सरकार में अल्पसंख्यक मंत्रालय का कामकाज संभाल चुके आरिफ अकील इस बार भी अहम मंत्रालय के दावेदार हैं।

कमलेश्वर पटेल : सूबे में नई कांग्रेस की सरकार में कमलेश्वर पटेल भी मंत्री पद की दौड़ में हैं। जीतू पटवारी : कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और राऊ से फिर लगातार दूसरी बार कांग्रेस विधायक बनकर विधानसभा पहुंचे जीतू पटवारी का मंत्री बनना भी तय माना जा रहा है।

जयवर्धन सिंह : कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के बेटे राघौगढ़ से कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह भी कांग्रेस की नई सरकार में मंत्री बनने के प्रबल दावेदार है।

बृजेन्द्र सिंह : पृथ्वीपुर से वरिष्ठ कांग्रेस विधायक और पार्टी के बड़े नेता बृजेन्द्र सिंह का कैबिनेट मंत्री बनना तय माना जा रहा है।  बृजेन्द्र सिंह को अहम मंत्रालय की जिम्मेदारी मिल सकती है।

दीपक सक्सेना : छिंदवाड़ा से कांग्रेस विधायक और कमलनाथ के काफी करीबी दीपक सक्सेना का भी कैबिनेट मंत्री बनना तय माना जा रहा है। दीपक सक्सेना को अहम मंत्रालय की जिम्मेदारी मिल सकती है।

तुलसी सिलावट : इंदौर की सांवेर सीट से विधायक चुने गए तुलसी सिलावट भी मंत्री बन सकते हैं। तुलसी सिलावट कांग्रेस के चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया का काफी करीबी माना जाता है।

लक्ष्मण सिंह : चांचौड़ा विधानसभा सीट से कांग्रेस के विधायक चुने गए और दिग्विजय सिंह के भाई लक्ष्मण सिंह का मंत्री बनना लगभग तय माना जा रहा है।

बिसाहूलाल सिंह : अनूपपुर से कांग्रेस विधायक और पार्टी के सीनियर नेता बिसाहूलाल सिंह का मंत्री बनना लगभग तय माना जा रहा है।

गोविंद राजपूत : सुरखी से कांग्रेस विधायक बनकर विधानसभा पहुंचे पार्टी के बड़े नेता गोविंद राजपूत भी मंत्री बन सकते हैं।

लखन घनघोरिया : जबलपुर पूर्व से कांग्रेस विधायक लखन घनघोरिया भी कैबिनेट मंत्री की शपथ ले सकते हैं।

इमरती देवी : कांग्रेस की महिला विधायक इमारती देवी भी कांग्रेस की नई सरकार में मंत्री पद की शपथ ले सकती हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख मध्यप्रदेश : चुनाव आयोग के आंकड़ों से खुलासा, कांग्रेस नहीं NOTA से हारी भाजपा