मध्यप्रदेश में मतदान के बाद अब EVM पर घमासान

शनिवार, 1 दिसंबर 2018 (16:35 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश विधानसभा की 230 सीटों के लिए मतदान तो संपन्न हो चुका है, लेकिन अब EVM को लेकर घमासान शुरू हो गया है। सागर में जहां देर से ईवीएम पहुंचने के मामले में कांग्रेसियों ने हंगामा किया, वहीं खरगोन में भी उन्होंने मतदान मशीन में छेड़छाड़ का आरोप लगाया। 
 
भोपाल में बंद हुई एलईडी : राजधानी भोपाल शुक्रवार की सुबह स्ट्रांगरूम के बाहर लगी एलईडी के अचानक बंद हो जाने से हड़कंप मच गया। यहां ईवीएम पुराने जेल परिसर में रखी गई हैं। कांग्रेस ने जहां गड़बड़ी की आशंका जताई है, वहीं प्रशासन ने बिजली गुल होने की बात कही है। शुक्रवार सुबह आठ बजे अचानक स्ट्रांगरूम के बाहर चलने वाली एलईडी स्क्रीन बंद हो गई। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ऐतराज जताते हुए ईवीएम में गड़बड़ी का आरोप लगाया।
 
सागर में देर से पहुंचीं ईवीएम : दूसरी ओर सागर से ईवीएम के मतदान के 48 घंटे बाद मुख्यालय पर पहुंचने पर भी कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं। कांग्रेस का आरोप है कि ये मशीनें खुरई विधानसभा क्षेत्र से आई हैं। खुरई से प्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्रसिंह चुनाव लड़ रहे हैं। बताया जाता है कि जिस वाहन में ये मशीनें पहुंचीं, उस पर नंबर भी नहीं था। कांग्रेस ने देर से मशीन लेकर पहुंचने वाले अफसरों को बर्खास्त करने की मांग की है। मशीनें जिलाधिकारी कार्यालय में स्थित कोषालय के स्ट्रांगरूम में रखी गई हैं। 
 
खरगोन में भी हंगामा :  खरगोन जिला मुख्यालय में कांग्रेस नेताओं ने ईवीएम में हेराफेरी का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। हालांकि बाद में अधिकारियों द्वारा स्थिति स्पष्ट करने पर वे संतुष्ट नजर आए। शुक्रवार रात खरगोन जिला मुख्यालय स्थित शासकीय महाविद्यालय परिसर में कुछ ईवीएम के आने के बाद खरगोन विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी रवि जोशी तथा कांग्रेस की जिला अध्यक्ष झूमा सोलंकी वहां अपने समर्थकों के साथ पहुंच गए और उन्होंने हंगामा खड़ा कर दिया।
 
रवि जोशी ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि खराब मशीनों को महाविद्यालय परिसर स्थित स्ट्रांग रूम के अंदर सील्ड ईवीएम के साथ रखने के लिए पहुंचाया गया है। उन्होंने तथा श्रीमती सोलंकी ने आशंका व्यक्त की कि खरगोन जिले की समस्त छह विधानसभा सीटों की ईवीएम में छेड़खानी हुई है। इसके बाद वे धरने पर बैठ गए।
 
बाद में खरगोन के पुलिस अधीक्षक डी. कल्याण चक्रवर्ती, अतिरिक्त कलेक्टर एमएल कनेल और अनुविभागीय दंडाधिकारी अभिषेक गहलोद ने उन्हें महाविद्यालय परिसर में स्थापित स्ट्रांग रूम तथा अतिरिक्त मशीनों के लिए स्थापित वेयरहाउस का निरीक्षण कराया और समस्त प्रक्रिया समझाई। इस पर कांग्रेसियों ने संतुष्टि जाहिर की और धरना समाप्त कर दिया।
 
खरगोन के अनुविभागीय दंडाधिकारी अभिषेक गहलोद ने बताया कि प्रत्येक विधानसभा से उक्त रिजर्व ईवीएम शुक्रवार रात वापस आई थीं, जिन्हें महाविद्यालय परिसर में स्ट्रांग रूम के अलावा बनाए गए वेयरहाउस में रखा गया था। उन्होंने बताया कि कांग्रेस को यह आशंका हो गई कि उक्त ईवीएम खराब हैं तथा उन्हें स्ट्रांग रूम में रखी सील्ड ईवीएम के साथ मिलाया जा रहा है। 
 
दूसरी ओर कांग्रेस द्वारा किए गए हंगामे पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए राज्य शासन के मंत्री तथा खरगोन से भाजपा प्रत्याशी बालकृष्ण पाटीदार ने कहा कि दरअसल कांग्रेस हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ने का पूर्वाभ्यास कर रही है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख आईएसएल फुटबॉल टूर्नामेंट में बेंगलुरु ने पुणे सिटी को हराकर कमाए तीन अंक