वुहान से लाए गए 200 भारतीय संक्रमण मुक्त, ITBP सेंटर से मिली घर जाने की इजाजत

सोमवार, 17 फ़रवरी 2020 (22:55 IST)
नई दिल्ली। भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) सेंटर में चीन के कोरोना वायरस (Corona virus) प्रभावित वुहान शहर से लाकर पृथक रखे 200 भारतीय संक्रमण मुक्त पाए जाने पर उन्हें अपने घर जाने की इजाजत दे दी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सोमवार को इन भारतीयों से मुलाकात भी की।

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कहा, हर्षवर्धन ने आईटीबीपी के शिविर में रखे गए उन लोगों से बात की, जिन्हें वुहान से निकालकर लाया गया है। इनमें से अधिकतर को घर जाने के लिए छुट्टी दी जा रही है।

इन सभी लोगों में कोरोना वायरस (कोविड 19) के होने की पुष्टि नहीं हुई है और वे चरणबद्ध तरीके से घर जाएंगे। हर्षवर्धन ने कहा, यह हम सभी के लिए गौरव और संतोष का क्षण है कि वुहान से लौटे हमारे नागरिक स्वस्थ पाए गए हैं।
 
स्वास्थ्य मंत्री ने शिविर छोड़कर जाने वालों को गुलाब भेंट किए। उन्होंने वायरस से निपटने के लिए सरकार द्वारा उठाए गए कदमों और इस संदर्भ में बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में लोगों को बताया। आईटीबीपी सेंटर में कुल 406 लोगों को रखा गया जिनमें मालदीव के 7 नागरिक भी शामिल हैं, जिन्हें एयर इंडिया के विमान से वुहान से लाया गया था।

आईटीबीपी के प्रवक्ता विवेक कुमार पांडेय ने कहा, कोरोना वायरस के अंतिम परीक्षण के बाद हमारे केंद्र में रुके सभी 406 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव पाई गई है। इसके बाद पहले समूह को आज छुट्टी दे दी गई। हमें आज रात तक करीब 200 लोगों के जाने की उम्मीद है। बाकी को मंगलवार को या उसके बाद के दिनों में भेजा जाएगा।

हर्षवर्धन ने सूचित किया कि आज की तारीख तक 2996 उड़ानों के 3,21,375 यात्रियों और 125 जहाजों के 6,387 यात्रियों की संदिग्ध संक्रमण की जांच के लिए स्क्रीनिंग की जा चुकी है। भारत में अभी तक कोरोना वायरस के 3 मामलों की पुष्टि हुई है, जो सभी केरल से हैं। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि इन 3 मेडिकल छात्रों में से 2 को छुट्टी दे दी गई है। तीसरे की हालत स्थिर है।

ITBP के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बल उन लोगों को अधिकृत वाहन की सुविधा भी प्रदान कर रहा है, जो हवाईअड्डे, रेलवे स्टेशन या बस अड्डे जाना चाहते हैं। यह सुविधा उन्हें भी दी जा रही है जो राष्ट्रीय राजधानी के निवासी हैं या जिनका कोई रिश्तेदार यहां है।

चीन में कोरोना वायरस के प्रकोप के चलते 1 और 2 फरवरी को एयर इंडिया के दो 747 बोइंग विमानों से कुल 650 लोगों को भारत लाया गया था। इनमें से 406 को आईटीबीपी के शिविर में और शेष अन्य को हरियाणा के मानेसर में सेना के एक केंद्र में पृथक कर रखा गया था।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख CAA मामला, सरकार की तुलना किन्नरों से