Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

पुराने साथी पीके पर भड़के बिहार के सीएम नीतीश कुमार, कहा जो मन में आता है बोलता है वो...

हमें फॉलो करें webdunia
शुक्रवार, 21 अक्टूबर 2022 (19:51 IST)
पटना, कभी राजनीतिक दोस्‍त और साथी रहे प्रशांत किशोर पर बिहार के सीएम नीतीश कुमार जमकर भड़क गए। दरअसल नीतीश कुमार तब पीके यानी प्रशांत किशोर से नाराज हुए जब उन्‍होंने यह दावा किया कि नीतीश कुमार अब भी भाजपा के कॉन्‍टेक्‍ट में हैं। पीके के दावे को खारिज करते हुए मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को कहा कि ‘उसके जो मन में आता है, बोलता रहता है।’

बता दें कि चुनाव और राजनीति के अच्‍छे जानकार माने जाने वाले प्रशांत किशोर ने गुरुवार को दावा किया था कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार भाजपा से अलग तो हो गए, लेकिन वे अब भी भाजपा के संपर्क में हैं। उन्‍होंने यह भी कहा था कि अगर परिस्थितियां बनती हैं तो वह फिर पार्टी के साथ गठबंधन कर सकते हैं।

पीके के इस दावे पर मीडिया के सवालों के जवाब देते हुए नीतीश ने कहा, ‘मैं इस पर क्या कहूं। उसके जो मन में आता है, बोलता रहता है। वह सिर्फ पब्लिसिटी (प्रचार) के लिए ऐसे बयान देता है। सभी को पता है कि वह किस पार्टी के लिए काम करता रहता है।’

बता दें कि प्रशांत किशोर ने बुधवार को पीटीआई/भाषा से कहा था कि जदयू (जनता दल यूनाइटेड) के सांसद और राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश के माध्यम से नीतीश कुमार अभी भी भाजपा के संपर्क में बने हुए हैं।

चंपारण सभा में लगाया था आरोप
प्रशांत किशोर ने पश्चिम चंपारण में बुधवार को जनसभा में आरोप लगाया था, ‘भाजपा के साथ संबंध तोड़ने के बाद नीतीश कुमार को हरिवंश से पद छोड़ने को कहना चाहिए था। अगर वह पद पर बने रहने की जिद कर रहे थे तो उन्हें जदयू से निकाला जा सकता था। लेकिन नीतीश कुमार भविष्य के लिए यह विकल्प खुला रखे हुए हैं।’

वहीं सीएम नीतीश कुमार ने कहा, ‘वह जो भी बोलना चाहता है, बोलने दीजिए। हमारा उससे कोई मतलब नहीं है। वह मेरे साथ काम करता था। लेकिन, मैंने जिन लोगों की इज्जत की है, उन्होंने मेरे साथ कितना दुर्व्यवहार किया है, ये तो आपको पता ही है ना।’
Edited: By Navin Rangiyal (भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

जियो का शुद्ध लाभ सितंबर तिमाही में 28 प्रतिशत बढ़कर 4,518 करोड़ रुपए