चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग के लिए तैयार हैं चंद्रयान-2, खुलेंगे दक्षिणी ध्रुव से जुड़े राज

गुरुवार, 5 सितम्बर 2019 (22:52 IST)
बेंगलुरु। चंद्रयान-2 का लैंडर ‘विक्रम’ शनिवार तड़के चांद की सतह पर ऐतिहासिक ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ करने के लिए तैयार है। भारत का यह दूसरा चंद्र मिशन चांद के अब तक अनदेखे दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र पर प्रकाश डाल सकता है।
 
चांद पर ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ भारत के दूसरे चंद्र मिशन की सर्वाधिक चुनौतीपूर्ण प्रक्रिया है और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अब से पहले इस प्रक्रिया को कभी अंजाम नहीं दिया है।
ALSO READ: इस तरह होगी चांद पर चंद्रयान की सॉफ्ट लैंडिंग
इसरो के अनुसार चांद का दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र बेहद रुचिकर है क्योंकि यह उत्तरी ध्रुव क्षेत्र के मुकाबले काफी बड़ा है और अंधकार में डूबा रहता है। चांद पर स्थायी रूप से अंधकार वाले क्षेत्रों में पानी मौजूद होने की संभावना है। इसके अलावा चांद पर ऐसे गड्ढे हैं जहां कभी धूप नहीं पड़ी है। इन्हें ‘कोल्ड ट्रैप’ कहा जाता है और इनमें पूर्व के सौर मंडल का जीवाश्म रिकॉर्ड मौजूद है।
 
चंद्रयान-2 के लैंडर ‘विक्रम’ को शुक्रवार और शनिवार की दरम्यानी रात एक बजे से दो बजे के बीच चांद की सतह पर उतारने की प्रक्रिया की जाएगी और यह रात डेढ़ से ढाई बजे के बीच चांद पर ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ करेगा।
 
क्या है सॉफ्ट लैंडिंग : अन्वेषण से जुड़े उपकरणों को सुरक्षित रखने के लिए ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ परम आवश्यक होती है। इसमें लैंडर को आराम से धीरे-धीरे सतह पर उतारा जाता है, ताकि लैंडर और रोवर तथा उनके साथ लगे अन्य उपकरण सुरक्षित रहें। ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ इस मिशन की सबसे जटिल प्रक्रिया है और यह इसरो वैज्ञानिकों की ‘दिलों की धड़कनों’ को थमा देने वाली होगी।
 
लैंडर के चांद पर उतरने के बाद सात सितंबर की सुबह साढ़े पांच से साढ़े छह बजे के बीच इसके भीतर से रोवर ‘प्रज्ञान’ बाहर निकलेगा और अपने वैज्ञानिक प्रयोग शुरू करेगा।
 
इसरो को यदि ‘सॉफ्ट लैंडिंग’ में सफलता मिलती है तो रूस, अमेरिका और चीन के बाद भारत ऐसा करने वाला दुनिया का चौथा तथा चांद के दक्षिणी ध्रुव क्षेत्र में पहुंचने वाला दुनिया का पहला देश बन जाएगा।
 
यहां लैंडिंग करेगा चंद्रयान 2 : अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि ‘चंद्रयान-2’ लैंडर और रोवर को लगभग 70 डिग्री दक्षिणी अक्षांश में दो गड्ढों ‘मैंजिनस सी’ और ‘सिंपेलियस एन’ के बीच एक ऊंचे मैदानी इलाके में उतारने का प्रयास करेगा।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख 14 दिन तिहाड़ जेल में रहेंगे चिदंबरम, मिलेगी ये सुविधाएं