कोरोना वायरस से चीन में 200 लोगों की मौत, 10 हजार पीड़ित, भारत ने मास्क के निर्यात पर लगाया प्रतिबंध

शुक्रवार, 31 जनवरी 2020 (23:35 IST)
नई दिल्ली। चीन में कोरोना वायरस (Coronavirus) फैलने के बाद दुनिया के बड़े-बड़े मुल्कों में दहशत का माहौल है। कोरोना वायरस से चीन में अब तक 200 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है जबकि इससे प्रभावित लोगों की संख्या करीब 10,000 तक पहुंच गई है। भारत में भी अब कई राज्यों से इसके संक्रमण से पीड़ित मरीज सामने आने लगे हैं जिससे सरकार सतर्क हो गई है।
ALSO READ: इंदौर में 2 और भोपाल में कोरोना वायरस का 1 संदिग्ध मरीज मिला
मास्क के निर्यात पर प्रतिबंध : भारत सरकार ने वायु में फैले सूक्ष्म कणों से व्यक्ति की सुरक्षा के लिए धारण किए जाने वाले सभी तरह के मास्क के निर्यात पर शुक्रवार को प्रतिबंध लगा दिया। इसमें एन-95 मास्क समेत अन्य सभी तरह के सुरक्षा मास्क और कपड़े के रुमाल इत्यादि शामिल हैं। इनके निर्यात पर अगले आदेश तक तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया गया है।
 
कागज के आयात पर भी रोक : चीन में कोरोना वायरस फैलने के बाद इस तरह के उत्पादों की मांग बढ़ने की संभावना देखते हुए सरकार ने यह कदम उठाया है। एक अन्य आदेश में डीजीएफटी ने चीन से कागज के आयात पर भी रोक लगा दी है।

ALSO READ: कोरोना वायरस से संक्रमण का सबसे ज़्यादा ख़तरा किन्हें है?
एयर इंडिया का बी-747 विमान चीन रवाना : सरकार ने चीन के वुहान से भारतीयों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए शुक्रवार को दिल्ली से एयर इंडिया के बी-747 को रवाना कर दिया है, जो शनिवार की सुबह वापसी की उड़ान भरेगा। इस विमान में 423 सीटें हैं। करीब 400 भारतीयों को वहां से सुरक्षित बाहर निकाले जाने की संभावना है। सरकार ने चीन के हुबेई प्रांत में फंसे 600 से अधिक भारतीयों से स्वदेश वापसी के लिए संपर्क किया है।
 
400 भारतीय छात्रों को एयरलिफ्ट किया जाएगा : भारत ने चीन के हुबेई प्रांत में रहने वाले 400 भारतीय छात्रों को एयरलिफ्ट कराने के लिए वुहान से 2 विमानों के परिचालन की घोषणा की है। हुबेई प्रांत कोरोना वायरस का केंद्र है जिसे आधिकारिक तौर पर 2019-एनसीओवी के नाम से जाना जाता है। वुहान हुबेई की प्रांतीय राजधानी है। 700 से अधिक भारतीय यहां रहते हैं। इनमें से अधिकतर मेडिकल छात्र एवं रिसर्च स्कॉलर हैं, जो यहां के स्थानीय विश्वविद्यालयों में अध्ययनरत हैं।
 
विमान में रहेंगी ये सावधानियां : शुक्रवार सुबह एयर इंडिया के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक अश्विनी लोहानी ने कहा कि विमान के भीतर यात्रियों को कोई सेवा नहीं दी जाएगी। यात्रियों और चालक दल के सदस्यों के बीच कोई संपर्क नहीं होगा। उन्हें जो भी खाना इत्यादि दिया जाएगा, वह पहले से उनके सीट के पॉकेट में रख दिया जाएगा। यात्रियों और चालक दल के सदस्यों के लिए मास्क की भी व्यवस्था कर ली गई है।
ALSO READ: कोरोना वायरस : जिसकी फ़िलहाल कोई दवा नहीं, एहतियात ही बचाव है
दिल्ली में 5 लोग भर्ती : दिल्ली के राममनोहर लोहिया अस्पताल में कोरोना वायरस से संक्रमित होने के संदेह में 6 लोगों को भर्ती कराया गया है जिनकी जांच रिपोर्ट अभी आना बाकी है। ये सभी मरीज कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आने की आशंका के चलते खुद भर्ती हुए हैं। इनमें से एक 24 वर्षीय महिला भी है, जो 2015 से चीन में रह रही थी। यह महिला 29 जनवरी को भारत लौटी थी।
 
अस्पताल में भर्ती होने वालों में 32 साल का युवक भी है, जो 4 से 11 जनवरी तक चीन में रहा था। इसके अलावा 3 अन्य पुरुष मरीज भी लंबे समय से चीन में रह रहे थे। इन मरीजों की उम्र 19, 35 और 45 वर्ष है।
जारी हुए हेल्पलाइन नंबर : सरकार ने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित होने की आशंका के लिए 21 हवाई अड्डों, बंदरगाहों और सीमाओं पर मरीजों की जांच अधिकारी कर रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने उन मरीजों के लिए 24x7 हेल्पलाइन नंबर 011-23978046 जारी किया है जिन्हें जुकाम तथा सांस लेने में दिक्कत हो रही है।
ALSO READ: केरल में मिला कोरोना वायरस का पहला मरीज, मलेशिया में त्रिपुरा के युवक की मौत

भारत के साथ पूरा सहयोग : चीन के दूत सन वेइदॉन्ग ने शुक्रवार को कहा कि हमने कोरोना वायरस की महामारी जानकारी विश्व स्वास्थ्य संगठन के अलावा विभिन्न देशों के साथ साझा की है। उन्होंने कहा कि महामारी से लड़ने के दौरान चीनी सरकार ने खुलेपन, पारदर्शिता और जिम्मेदारी की उच्च भावना के साथ अंतरराष्ट्रीय सहयोग किया है। कैरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में हम भारत के साथ पूरा सहयोग कर रहे हैं।
 
केरल में मरीज की हालत स्थिर : देश में कोरोना वायरस का पहला मामला केरल में सामने आने के 1 दिन बाद राज्य सरकार ने शुक्रवार को लोगों को खतरे के प्रति आगाह किया है। सूत्रों ने बताया कि मरीज की हालत स्थिर है। इससे पहले दिन में स्वास्थ्य अधिकारियों ने छात्रा को अस्पताल से सरकारी मेडिकल कॉलेज में भेज दिया। मंत्री ने हालिया दिनों में चीन से आए लोगों से खुद ही निकटवर्ती अस्पतालों को अवगत कराने का अनुरोध किया है।
ALSO READ: कोरोना वायरस: इंसानियत पर भारी चीन की बीमार मानसिकता
महाराष्ट्र में निगरानी में रखे गए 9 लोगों के नमूने नेगेटिव : महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के संक्रमण की संभावना के मद्देनजर निगरानी में रखे गए 12 में से 9 लोगों के नमूने नकारात्मक पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। राज्य में अभी तक कोई भी व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं पाया गया है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख Weather Predict: उत्तर भारत में बढ़ी सर्दी की ठिठुरन, दिल्ली में न्यूनतम तापमान 7.2 डिग्री दर्ज