Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

139 डॉलर प्रति बैरल पहुंचा कच्चे तेल का दाम, 2008 के बाद सबसे बड़ा उछाल

हमें फॉलो करें webdunia
सोमवार, 7 मार्च 2022 (09:26 IST)
टोक्यो। रूस के खिलाफ कड़े प्रतिबंधों की बढ़ती मांग के बीच तेल की कीमत में 10 डॉलर प्रति बैरल से अधिक का उछाल आया और सोमवार को शेयर बाजार में तेजी से गिरावट आई। ब्रेंट कच्चा तेल सोमवार तड़के कुछ समय के लिए 10 डॉलर से बढ़कर लगभग 130 डॉलर प्रति बैरल के पार हो गया है।

इसके लिए रूस के खिलाफ कठोर प्रतिबंधों के बढ़ते आह्वान के बीच यूक्रेन में संघर्ष के गहराने को जिम्मेदार माना जा रहा है। इस बीच, लीबिया की राष्ट्रीय तेल कंपनी ने कहा कि एक सशस्त्र समूह ने दो महत्वपूर्ण तेल क्षेत्रों को बंद कर दिया था, जिसके बाद तेल की कीमतें बढ़ रही हैं।

रूस और यूक्रेन के बीच चलते युद्ध से ईरान से कच्चे तेल की संभावित सप्लाई में देरी से ब्रेंट क्रूड 2008 के बाद से 14 साल के उच्चतम स्तर 139.13 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया है। गौरतलब है कि 2008 में कच्चे तेल के दाम ने 147 डॉलर प्रति बैरल के रिकॉर्ड स्तर को छूआ था।

खबरों के अनुसार, अमेरिका और यूरोपीय यूनियन रूसी तेल के आयात पर प्रतिबंध लगाने पर विचार कर रहे हैं। जिसके चलते कच्‍चे तेल के दामों में ये उछाल आया है। वैश्विक बाजारों में ईरानी कच्चे तेल की संभावित सप्लाई में देरी के कारण तेल की कीमतें 2008 के बाद से अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं। ब्रेंट क्रूड के दाम 139 डॉलर प्रति बैरल के रिकॉर्ड लेवल पर जा पहुंचे हैं।

रूस के आने वाले सप्लाई अगर 2022 में पूरे साल जारी रही तो इस वर्ष कच्चे तेल का भाव 185 डॉलर प्रति बैरल के भाव को भी छू सकता है। उल्‍लेखनीय है कि रूस यूरोप को उसके कुल खपत का 35 से 40 फीसदी कच्चा तेल सप्लाई करता है। भारत भी रूस से कच्चा तेल खरीदता है। दुनिया में 10 बैरल तेल जो सप्लाई की जाती है उसमें एक डॉलर रूस से आता है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

NSE Scam: एनएसई की पूर्व एमडी-सीईओ चित्रा रामकृष्ण पर CBI का शिकंजा, देर रात किया गिरफ्तार