Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Exclusive : 100 करोड़ की लागत से ढाई साल में बनकर तैयार हो जाएगा Ayodhya में भव्य राम मंदिर

राममंदिर का मॉडल बनाने वाले आर्किटेक्ट चंद्रकांत सोमपुरा से Exclusive बातचीत

webdunia
webdunia

विकास सिंह

गुरुवार, 20 फ़रवरी 2020 (13:40 IST)
अयोध्या में भव्य राममंदिर बनाने के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास की पहली बैठक में विश्व हिंदू परिषद के बनवाए गए मॉडल पर ही राममंदिर बनाने पर सहमति बन गई है। बैठक में ट्रस्ट के सदस्यों में इस बात पर आम राय बन गई कि मंदिर का मॉडल वही हो जो विहिप ने बनवाया था।

हाालांकि बैठक में प्रस्तावित राम मंदिर मॉडल की ऊंचाई बढ़ाने पर भी चर्चा हुई लेकिन इस पर कोई अंतिम फैसला नहीं हो सका। वेबदुनिया ने अयोध्या में राममंदिर का मॉडल (नक्शा) बनाने वाले गुजरात के मशूहर वास्तुशिल्पी चंद्रकांत सोमपुरा से राम मंदिर निर्मणा को लेकर खास बातचीत की। 
राम मंदिर मॉडल की बढ़ सकती है ऊंचाई : वेबदुनिया से खास बातचीत में वास्तुशिल्पी चंद्रकांत सोमपुरा कहते हैं कि आज के समय के हिसाब से राममंदिर का मॉडल पूरी तरह ठीक है लेकिन अगर ट्रस्ट राममंदिर मॉडल की ऊंचाई बढ़ाना चाहेगा तो इसमें कहीं भी कोई परेशानी नहीं आएगी।

वेबदुनिया से बातचीत में सोमपुरा कहते हैं कि अगर ट्रस्ट अयोध्या में राममंदिर को विश्व का सबसे बड़ा मंदिर बनाने की योजना बना रहा है तो प्रस्तावित राम मंदिर मॉडल में कुछ परिवर्तन किया जा सकता है। वह कहते हैं कि प्रस्तावित  मॉडल की ऊंचाई बढ़ाने के लिए वो पूरी तरह तैयार है जैसा ट्रस्ट कहेगा वैसा होगा।  
 
राम मंदिर निर्माण में 100 करोड़ का खर्च : राममंदिर का ब्लू प्रिंट यानि नक्शा तैयार करने वाले चंद्रकांत सोमपुरा वेबदुनिया से बातचीत में कहते हैं कि भव्य राममंदिर बनाने के लिए 100 करोड़ से अधिक का खर्च आएगा। वहीं मंदिर निर्माण में लगने वाले समय को लेकर वह कहते हैं कि राममंदिर पूरी तरह बनने में करीब ढाई साल का समय लगेगा। 
 
वेबदुनिया ने जब चंद्रकांत सोमपुरा से राममंदिर बनने में लगने वाले पत्थरों को लेकर बात की तो उन्होंने कहा कि अभी अयोध्या में कारसेवकपुरम में जितने पत्थरों को तराशा गया है, वह आधे भी नहीं हैंं। एक बार मंदिर निर्माण के शिलान्यास की तारीख तय होने के बाद पत्थरों के तराशने का काम तेजी से शुरु होगा और वह खुद अयोध्या जाकर मंदिर निर्माण के काम को देखेंगे। 
 
नागर शैली का अष्टकोणीय राममंदिर : राममंदिर मॉडल का पूरा नक्शा बनाने वाले चंद्रकांत सोमपुरा वेबदुनिया से खास बातचीत में कहते हैं कि अब राममंदिर निर्माण की घड़ी आने के बाद वह बहुत खुशी महसूस कर रहे है।

 वह कहते हैं कि राममंदिर का प्रस्तावित मॉडल नागर शैली का है और यह 270 फीट लंबा, 145 फीट चौड़ा और 141 फीट ऊंचा अष्टकोणीय शिखर वाला मंदिर है। वह कहते हैं कि राममंदिर का मॉडल दो मंजिला है जिसमें नीचे रामलला विराजमान होंगे और ऊपर रामदरबार सजेगा। वह कहते हैं कि राममंदिर काफी भव्य होगा और इसका गर्भगृह सोमनाथ मंदिर से भी बड़ा होगा। 
 
मॉडल पर ही बनेगा मंदिर इसका था विश्वास– वेबदुनिया से बातचीत में चंद्रकांत सोमपुरा कहते हैं कि विहिप के नेता अशोक सिंघल ने उनका राममंदिर के नक्शा बनाने का काम सौंपा था। वह कहते हैं कि अशोक सिंघल के कहने पर उन्होंने इतने भव्य राममंदिर का नक्शा तैयार किया था। वह कहते हैं कि उन्हें पूरा विश्वास था कि अयोध्या में जब भी राममंदिर बनेगा तो उनके मॉडल पर ही बनेगा और अब वह दिन आने वाला है। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

डोनाल्ड ट्रंप के रोड शो में 70 लाख नहीं, 1 लाख लोग