चौथा विश्व हीलिंग दिवस दुबई में, खुद करें खुद का उपचार

इंदौर। चतुर्थ विश्व हीलिंग दिवस' का आयोजन 11 अगस्त 2019 को दुबई में कृष्णा गुरुजी के मार्गदर्शन में किया जा रहा है। इस आयोजन में देश-विदेश के कई साधक शामिल होंगे। 
 
इस दिन सुबह 11 बजकर 47 मिनट पर दुबई, मलेशिया, अमेरिका, भारत समेत  20 से अधिक देशों के हजारों साधक मिलकर धर्म, जाति और देश से ऊपर मानव धर्म होने का संदेश देंगे। विश्व हीलिंग दिवस की शुरुआत 2016 में हुई थी। वर्ष 2017 में विश्व हीलिंग दिवस मलेशिया की राजधानी क्वालालंपुर में, जबकि 2018 में महाकाल की नगरी उज्जैन में आयोजित किया गया था। 
 
कृष्णा गुरूजी का मानना है कि जब सबकी अरदास, दुआएं, प्रार्थनाएं सभी धर्मों से ऊपर उठकर मानव धर्म की स्थापना हेतु एक साथ मिलेंगी तो अवश्य ही एक स्वस्थ, समृद्ध और शांतिपूर्ण स्वर्णिम-युग का मार्ग प्रशस्त करेंगी। वे कहते हैं कि हर किसी के पास खुद को ठीक करने की शक्ति है। हम न केवल खुद को बल्कि दूसरों को भी ठीक करने की क्षमता रखते हैं।
 
उन्होंने बताया कि इस विशाल शक्तिकुंड के बारे में जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से हर साल 11 अगस्त को 'विश्व हीलिंग दिवस' के रूप में मनाते हैं। यह समारोह हमें हमारे अंदर निहित उस सामर्थ्य को पहचानने का एक वार्षिक अनुष्ठान है, जिसका उपयोग हम मानवता की सहायता और कल्याण के लिए कर सकते हैं। 
 
अपने इस लक्ष्य की सफलता के लिए एवं इस दिन को अंतरराष्ट्रीय हीलिंग दिवस का दर्जा दिलाने के लिए, प्रकृति द्वारा प्रेरित होकर गुरुजी ने एक नई चिकित्सा प्रक्रिया तैयार की है जो किसी भी नकारात्मक ज्योतिषीय स्थिति के लिए एक उपाय के रूप में काम करती है और किसी भी शारीरिक या मानसिक बीमारी को ठीक करने में सहायक बनती है। इसलिए इसे 'डिवाइन एस्ट्रो हीलिंग' के नाम से जाना जाता है।
 
पूर्णत: निशुल्क : कृष्णाजी की सेवाएं पूर्णतः निशुल्क हैं। इस प्रक्रिया में आत्मस्तरीय उपचार के माध्यम से स्वयं और दूसरों को ठीक किया जा सकता है। उनके अनुसार इस संसार में सब कुछ विश्वास पर ही निर्भर करता है। डिवाइन एस्ट्रो हीलिंग ऐसी ही एक विद्या का नाम है, जो इंसान को खुद से जोड़कर उसकी हर समस्या का समाधान करती है।
 
वह दुनिया भर में स्पर्श उपचार के अलावा फोन और वेब पर भी उपचार प्रदान करते हैं। इतना ही नहीं डिवाइन एस्ट्रो हीलिंग प्रक्रिया को इच्छुक लोगों को सिखाकर, वह अपने जैसे कई और हीलर बनाकर मानवता की मदद करना चाहते हैं। उनके अनुसार 'ग्लोबल हीलिंग डे' अधिक से अधिक देश के नागरिकों को जोड़ने और मानव हित के इस महान प्रयोजन के बारे में जागरूकता पैदा करने का अवसर है।
 
कृष्णा गुरुजी ने केन्द्र सरकार को भी सुझाव दिया है कि साल में एक दिन संयुक्त प्रार्थना का होना चाहिए, जिसमें सभी एक साथ, एक समय मानवता एवं विश्व शांति के लिए प्रार्थना करें। 
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख मुंबई फिर पानी-पानी, सड़कें लबालब, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट