Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Vaccination में भारत ने अमेरिका को पीछे छोड़ा

webdunia
शनिवार, 5 जून 2021 (00:02 IST)
नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 रोधी टीके (Covid 19 Vaccine) की कम से कम एक खुराक ले चुके लोगों की संख्या के लिहाज से भारत ने अमेरिका को पीछे छोड़ दिया है। इसके साथ ही सरकार ने कहा कि आने वाले दिनों में टीकाकरण अभियान में और तेजी लायी जाएगी।
 
नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी के पॉल ने कहा कि अब तक 60 वर्ष से अधिक आयु की करीब 43 प्रतिशत आबादी और 45 साल से ज्यादा उम्र की 37 फीसदी आबादी को कोविड-19 रोधी टीके लगाए जा चुके हैं। ताजा आंकड़ों के अनुसार भारत में कोविड टीके की कम से कम एक खुराक लेने वाले लोगों की संख्या 17.2 करोड़ हो गई है, जबकि अमेरिका में यह संख्या 16.9 करोड़ है।
 
पॉल ने कहा कि हमने कोविड टीके की कम से कम एक खुराक लेने वाले लोगों की संख्या के मामले में अमेरिका को पीछे छोड़ दिया है। यह आश्वस्त करता है कि हम टीका अभियान में लगातार सुधार कर रहे हैं और इसे तेज कर रहे हैं। आने वाले दिनों में इसे और भी तेज किया जाएगा।
 
पॉल ने कहा कि दूसरी लहर वैश्विक आंकड़ों के संदर्भ में घट रही है और यह उल्लेखनीय है कि भारत में प्रति 10 लाख जनसंख्या पर कोविड ​​​​के मामले 20 हजार 519 हैं, जबकि विश्व औसत अब भी 22 हजार 181 से ज्यादा है। उन्होंने कहा कि यदि कोविड-19 की रोकथाम के उपायों, कोविड उपयुक्त व्यवहार या टीकाकरण में ढिलाई बरती गई तो मामले एक बार फिर बढ़ सकते हैं।
 
स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि कोविड के नए मामलों में रोजाना गिरावट आ रही है। उन्होंने कहा कि सात मई को संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले सामने आने के बाद से नए मामलों में करीब 68 प्रतिशत की कमी आयी है।
 
उन्होंने कहा कि 10 मई को कोविड-19 के उपचाराधीन रोगियों की संख्या चरम पर पहुंचने के बाद से अब तक इनकी तादाद में 21 लाख से अधिक की कमी दर्ज की गई है। सरकार ने कहा कि फिलहाल देश के 377 जिलों में कोविड-19 की संक्रमण दर पांच प्रतिशत से कम है। सात मई को समाप्त हुए सप्ताह में ऐसे जिलों की संख्या 92 थी।
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

भारतीय नौसेना का जल सर्वेक्षण पोत संधायक 40 साल बाद हुआ सेवामुक्त