Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

रामायण एक्सप्रेस में वेटरों की ड्रेस पर बवाल, IRCTC ने लिया बड़ा फैसला

webdunia
मंगलवार, 23 नवंबर 2021 (07:31 IST)
उज्जैन। रामायण एक्सप्रेस ट्रेन में सवार वेटर की भगवा पोशाक पर बवाल मच गया। उज्जैन के साधु-संतों ने वेटरों की ड्रेस पर आपत्ति जताते हुए ट्रेन को 12 दिसंबर को दिल्ली में रोकने की धमकी दे दी। इस पर IRCTC ने ट्रेन के वेटरों की ड्रेस बदल दी।
 
आईआरसीटीसी ने ट्वीट कर कहा कि सूचित किया जाता है कि इन वेटरों की पोशाक को पूरी तरह से बदलकर अब वेटर की पेशेवर पोशाक कर दिया गया है।’
 
रामायण एक्सप्रेस ट्रेन में सवार वेटर की भगवा पोशाक पर आपत्ति जताते हुए उज्जैन के साधु-संतों ने सोमवार सुबह को कहा था कि यह हिंदू धर्म का अपमान है और धमकी दी कि अगर यह ड्रेस बदली नहीं गई तो वे 12 दिसंबर को दिल्ली में इस ट्रेन को रोकेंगे।
 
उज्जैन अखाड़ा परिषद के पूर्व महामंत्री अवधेशपुरी ने कहा कि हमने दो दिन पहले केंद्रीय रेल मंत्री को पत्र लिखकर रामायण एक्सप्रेस ट्रेन में वेटर द्वारा भगवा ड्रेस में जलपान और भोजन परोसने के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराया। साधु-संतों जैसे भगवा कपड़े और रुद्राक्ष की माला पहन कर इस ट्रेन में वेटर द्वारा यात्रियों को जलपान और भोजन परोसना हिंदू धर्म और उसके संतों का अपमान है।
 
उन्होंने कहा कि अगर वेटर की भगवा ड्रेस बदली नहीं गई तो दिल्ली के सफदरजंग रेलवे स्टेशन पर साधु-संत इस ट्रेन को 12 दिसंबर को रोकेंगे। रेलवे पटरियों पर बैठेंगे। हिंदू धर्म की रक्षा के लिए यह जरूरी है। हमने उज्जैन में इस मुद्दे पर कड़ा रुख अपनाया है।
 
उल्लेखनीय है कि देश की पहली रामायण सर्किट ट्रेन सात नवंबर को सफदरजंग रेलवे स्टेशन से तीर्थयात्रियों को लेकर 17 दिन के सफर पर रवाना हुई थी। यह ट्रेन भगवान राम के जीवन से जुड़े 15 स्थानों पर जाती है। यह ट्रेन 7,500 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय करते हुए तीर्थयात्रियों को अयोध्या, प्रयाग, नंदीग्राम, जनकपुर, चित्रकूट, सीतामढ़ी, नासिक, हम्पी और रामेश्वरम जैसे स्थानों पर ले जाएगी।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

आंध्र में बाढ़ से हाहाकार, मरने वालों की संख्या 34 हुई, रेल सेवा आंशिक बहाल