वित्तीय संकट, जेट एयरवेज की अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द

शुक्रवार, 12 अप्रैल 2019 (19:57 IST)
नई दिल्ली। आर्थिक संकट से जूझ रही निजी विमान सेवा कंपनी जेट एयरवेज ने सोमवार तक अपनी सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी हैं।
 
एयरलाइंस ने शुक्रवार को बताया कि 12 अप्रैल से 15 अप्रैल तक उसकी सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द रहेंगी। इससे पहले उसने गुरुवार शाम से शुक्रवार सुबह तक के लिए सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द की थीं और विदेश गए विमानों की वापसी सुनिश्चित करने के लिए सिर्फ भारत आने वाली अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का ही परिचालन करने की बात कही थी।
 
नकदी की कमी के के चलते विमानों का किराया नहीं चुका पाने के कारण पट्टेदारों ने बड़ी संख्या में उसके विमान ग्राउंडेड कर दिए हैं। वित्तीय संकट गहराने से पहले 120 विमानों का परिचालन करने वाली कंपनी के पास इस समय 15 से भी कम विमान परिचालन में हैं।
 
ऋण समाधान योजना के तहत एयरलाइंस की हिस्सेदारी बेचने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और प्राथमिक बोली (अभिरुचि पत्र) जमा कराने की अंतिम समय सीमा शुक्रवार शाम छह बजे समाप्त हो चुकी है।
 
पीएमओ में आपात बैठक : इस बीच विमानन सचिव ने कहा कि जेट एयरवेज अभी 11 विमानों का परिचालन कर रही है। उन्होंने कहा कि कंपनी को यात्रियों से संबंधित मुद्दों पर विचार करने को कहा गया है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, जेट एयरवेज का संकट गहराने को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने स्थिति पर चर्चा के लिए आपात बैठक बुलाई है। 
 
इस बीच, दूसरी विमानन कंपनी स्पाइसजेट ने उड़ानों के निलंबन में कमी लाने के लिए ड्राई लीज पर 16 बोइंग 737-800 एनजी विमानों को अपने बेड़े में शामिल करने की शुक्रवार को घोषणा की।
 
ऋणदाताओं को जारी किए शेयर : जेट एयरवेज ने ऋणदाताओं के कंसोर्टियम को 58.95 लाख शेयर जारी किए हैं। कंपनी ने शुक्रवार को शेयर बाजार को बताया कि उसने एसबीआईकैप ट्रस्टी कंपनी लिमिटेड के माध्यम से ऋणदाताओं को 58,95,704 शेयर जारी किए हैं। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के नेतृत्व में ऋणदाताओं के कंसोर्टियम ने एसबीआईकैप को जेट एयरलाइंस की हिस्सेदारी बेचने के लिए सलाहकार नियुक्त किया है।
 
बैंकों का ऋण चुकाने में विफल जेट एयरवेज ने बताया कि उसने गुरुवार को ये शेयर एसबीआईकैप ट्रस्टी कंपनी को हस्तांतरित किए हैं। इससे एयरलाइंस में ऋणदाताओं को 5.19 प्रतिशत हिस्सेदारी मिल गई है। कंपनी के निदेशक मंडल ने कंसोर्टियम को 11 करोड़ 40 लाख शेयर जारी करने का अनुमोदन किया है, जिससे उसे विमान सेवा कंपनी ने 50.01 प्रतिशत हिस्सेदारी मिल जाएगी। 
 
इससे पहले जेट एयरवेज के शेयरों की कुल संख्या 11,35,97,383 थी। ऋणदाताओं को शेयर जारी करने के बाद कुल शेयरों की संख्या 11,94,93,087 हो गई है। (एजेंसियां)
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख आरएसएस के वरिष्ठ नेता की हत्या के विरोध में जम्मू कश्मीर के किश्तवाड़ में चौथे दिन भी कर्फ्यू लगा रहा