केरल में भूस्खलन, तेज बहाव में बह गए मंदिर और चर्च, 25 की मौत, कोच्चि एयरपोर्ट भी बंद

शुक्रवार, 9 अगस्त 2019 (08:03 IST)
वायनाड। केरल में वायनाड के पुटुमाला इलाके में गुरुवार शाम को आए भूस्खलन के चलते मलबे के नीचे दब जाने और पानी के तेज बहाव में बह जाने से करीब 25 लोगों की मौत हो गई। भूस्खलन इतना भीषण था कि उसमे एक चर्च तथा मंदिर भी बह गए।
 
रिपोर्ट्स के अनुसार भारी बारिश की वजह से कल्लाप्पादम मार्ग पूरी तरह से जलमग्न हो गया है जिसके कारण हज़ारो लोग दुर्गम परिस्थितियों में फंस गए है। 
 
रात के अंधेरे तथा सड़को के जलमग्न होने की वजह से मुसीबत में फंसे लोगों से संपर्क नहीं सका है जिसके वजह पुलिस और आग एवं आपदा कर्मियों को बचाव अभियान में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकारी हालांकि लोगों के बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे है। 
 
कोच्चि हवाईअड्डे में बाढ़ का पानी घुसा, उड़ानें स्थगित : केरल के कोच्चि में अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के पार्किंग क्षेत्र में बाढ़ का पानी भरने के बाद उड़ानों का परिचालन 11 अगस्त शाम 3 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने ट्वीट कर कहा कि यात्रियों की जानकारी के लिए आपातकालीन नियंत्रण कक्ष की सहायता उपलब्ध करा दी गई है।

बारिश के कारण सभी स्कूल-कॉलेज बंद : भारी बारिश को देखते हुए केरल में सभी शैक्षणिक संस्थानों में छुट्टी घोषित कर दी गई। आधिकारिक विज्ञप्ति के मुताबिक कॉलेज और मदरसा समेत सभी शैक्षणिक संस्थान अगले आदेश तक बंद रहेंगे। पूर्व में घोषित विश्वविद्यालय और बोर्ड परीक्षाओं के लिए छुट्टी लागू नहीं होगी एवं ये परीक्षाएं पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार होंगी।

रेल यातायात भी प्रभावित : मरारीकुलम-अलप्पुझा रेल मार्ग में पटरी पर पेड़ गिर जाने से शुक्रवार को सुबह कुछ घंटों के लिए ट्रेन सेवाएं बाधित रहीं। कम से कम चार ट्रेनें- मावेली एक्सप्रेस, राजधानी, धनबाद एक्सप्रेस और गुरुवायुर- विभिन्न स्थानों पर रुकी रहीं।
 
मकान गिरने से 4 की मौत : मलप्पुरम जिले के एदावन्ना में एक मकान के ढह जाने से 2 बच्चों समेत 1 परिवार के 4 सदस्यों की मौत हो गई। कोझिकोड जिले के वाटकरा में भूस्खलन के बाद से तीन लोग लापता बताए जा रहे हैं। कोट्टायम के पाला में बाढ़ के कारण यातायात बाधित हो गया है। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख महाराष्ट्र, केरल और तमिलनाडु में भारी बारिश से हाहाकार, 40 लोगों की मौत