महाराष्ट्र में बारिश का दौर जारी, उफनाई गोदावरी से आंध्र के जिलों में बाढ़

सोमवार, 5 अगस्त 2019 (11:48 IST)
नई दिल्ली। महाराष्ट्र के कई भागों में बारिश जारी रहने से आम जनजीवन प्रभावित हुआ, जबकि गोदावरी नदी में उफान से आंध्र प्रदेश के 74 हजार से अधिक लोग प्रभावित हुए। असम में हालांकि बाढ़ की स्थिति में कुछ सुधार हुआ है। मुंबई और इसके आसपास के क्षेत्रों में लगातार दूसरे दिन भारी बारिश से सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ।

बारिश के कारण ट्रेन सेवा और हवाई यातायात प्रभावित हुआ। पड़ोसी ठाणे और पालघर जिलों में बिजली गुल हो गई। मुंबई, पुणे और पालघर जिलों में बारिश जनित घटनाओं में कम से कम 4 लोगों की मौत हो गई जबकि मध्य मुंबई के धारावी में नाले में गिरने से एक व्यक्ति लापता हो गया।

नासिक, रायगढ़ और रत्नागिरी जिलों में भी बारिश हुई जहां विभिन्न इलाकों में पानी भर गया क्योंकि नदियां पूरे उफान पर हैं। गुजरात के वडोदरा में भारी बारिश का दौर जारी रहा। हालांकि विश्वामित्री नदी में पानी का स्तर घटने से स्थिति में कुछ सुधार हुआ है।

जिला के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। वडोदरा की जिला कलेक्टर शालिनी अग्रवाल ने बताया कि बाढ़ के बाद स्वच्छता अभियान शुरू कर दिया गया है जिसके तहत नगर निकाय के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी जलजनित बीमारियों को रोकने के लिए काम कर रहे हैं। आंध्रप्रदेश में गोदावरी नदी में उफान आने से रविवार को आंध्र प्रदेश के पूर्वी और पश्चिमी गोदावरी जिले में 74,000 लोग प्रभावित हुए और उनमें से करीब 18,000 लोगों को राहत शिविरों में भेजा गया।

पिछले सप्ताह से भारी बारिश के कारण गोदावरी नदी में पानी का स्तर रविवार सुबह 13 लाख क्यूसेक से ऊपर चले जाने के बाद दोवलेश्वरम में सर आर्थर कॉटन बैराज में दूसरी चेतावनी जारी की गई। हालांकि किसी के हताहत होने की खबर नहीं है और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल और राज्य आपदा मोचन बल के दल आवश्यक सामान और भोजन के साथ प्रभावित इलाकों में पहुंच गए।

असम में बाढ़ की स्थिति में सुधार हो रहा है। राज्य में रविवार को बाढ़ से एक और व्यक्ति की मौत होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 90 हो गई है। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) के मुताबिक, राज्य के 33 जिलों में से 10 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। बाढ़ग्रस्त 10 जिलों में शनिवार तक लगभग 1.22 लाख लोग प्रभावित थे।

प्राधिकरण ने बताया कि बाढ़ से जुड़ी घटनाओं में धेमाजी जिले के गोगामुख में एक व्यक्ति की मौत हो गई। बारपेटा सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है, जहां 46000 लोग इससे प्रभावित हैं। महाराष्ट्र के कोयना बांध से 2 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने तथा क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश के कारण उत्तरी कर्नाटक के सैकड़ों गांव जलमग्न हो गए हैं और प्रशासन को राहत कार्य के लिए सेना बुलानी पड़ी है।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बाढ़ के कारण किसी व्यक्ति की मौत की सूचना नहीं है। उन्होंने बताया कि प्रशासन सतर्क था। कृष्णा नदी, मालाप्रभा और मार्कण्डेय नदी पूरे उफान पर है और इस वजह से कम से कम पांच जिले बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। इनमें बेलगावी, बगलकोट, रायचूर, विजयपुरम और यादगीर शामिल हैं। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आसमान में रविवार को बादल छाए रहे और यहां का न्यूनतम तापमान 27.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो इस मौसम के लिए सामान्य है।

मौसम विभाग के अनुसार दिल्ली का अधिकतम तापमान 35.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है जो सामान्य से 2 डिग्री अधिक है, हालांकि दिन में आसमान में बादल छाए रहे। विभाग ने बताया कि शहर में 0.6 मिमी बारिश दर्ज की गई। अधिकारी ने बताया कि आर्द्रता 89 से 58 फीसदी के बीच रही। राजस्थान के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख जम्मू-कश्मीर अब केन्द्र शासित प्रदेश, लद्दाख हुआ अलग