Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ममता ने नेताजी को दी श्रद्धांजलि, उनके जन्मदिन पर राष्ट्रीय अवकाश की दोहराई मांग

हमें फॉलो करें webdunia
रविवार, 23 जनवरी 2022 (14:47 IST)
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के अवसर पर उन्हें श्रद्धांजलि दी और कहा कि यह दिन राज्यभर में 'देश नायक दिवस के रूप में मनाया जाएगा।मुख्यमंत्री ने केंद्र से नेताजी की जयंती को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने की दोबारा अपील की।

तृणमूल कांग्रेस (तृकां) प्रमुख ने एक ट्वीट में कहा कि क्रांतिकारी नेता की स्मृति में प्रदेश में जय हिंद विश्वविद्यालय की स्थापना की जाएगी जिसका सारा खर्च राज्य सरकार उठाएगी। ममता ने ट्वीट किया, देशनायक नेताजी सुभाष चंद्र बोस को उनकी 125वीं जयंती पर श्रद्धांजलि।

एक राष्ट्रीय और वैश्विक प्रतीक के तौर पर बंगाल से नेताजी का उदय भारतीय इतिहास में अद्वितीय है। उन्होंने लिखा, हम फिर से केंद्र सरकार से अपील करते हैं कि नेताजी के जन्मदिन को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाए, ताकि पूरे देश में राष्ट्रीय नेता को श्रद्धांजलि दी जा सके और देशनायक दिवस मनाया जा सके।

बनर्जी ने यह भी दोहराया कि नेताजी के राष्ट्रीय योजना आयोग पर विचारों से प्रेरित होकर राज्य में भी एक बंगाल योजना आयोग का गठन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोलकाता में गणतंत्र दिवस परेड में नेताजी पर एक झांकी प्रदर्शित की जाएगी, जिसमें अन्य प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानियों को भी शामिल किया जाएगा।

नेताजी को देशभक्ति, साहस, नेतृत्व, एकता और भाईचारे का प्रतीक बताते हुए उन्होंने कहा कि वह आने वाली पीढ़ियों के लिए प्रेरणा बने रहेंगे। बनर्जी ने ट्वीट किया, इस साल, गणतंत्र दिवस परेड में नेताजी पर एक झांकी प्रदर्शित की जाएगी और हमारे देश की स्वतंत्रता के 75वें वर्ष के उपलक्ष्य में बंगाल के अन्य प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानियों को भी इसमें शामिल किया जाएगा।

केंद्र ने दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड से नेताजी पर राज्य की झांकी को बाहर कर दिया था, जिसकी सत्तारूढ़ तृकां के साथ-साथ कांग्रेस और माकपा ने आलोचना की थी। ममता ने बाद में कहा था कि झांकी को राज्य में प्रदर्शित किया जाएगा।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

क्‍या आप जानते हैं जहां नेताजी की प्रतिमा लगेगी, वहां पहले किस ब्रिटिश शख्‍स की तस्‍वीर लगी थी?