Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

नरेंद्र मोदी ने कहा- CAA पर भ्रम और झूठ फैला रहा है विपक्ष

webdunia
सोमवार, 20 जनवरी 2020 (19:00 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर देशभर में चल रहे आंदोलनों की ओर इशारा करते हुए सोमवार को कहा कि चुनाव में नकारे गए विपक्षी दलों के पास भ्रम एवं झूठ फैलाने के अलावा अब कुछ नहीं बचा है।

मोदी ने यहां भाजपा के नवनिर्वाचित अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा के प्रथम अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि हमारी मुसीबत यह नहीं है कि हम कोई खराब या गलत काम कर रहे हैं। हमारी मुसीबत यह है कि हमें जनता का खूब आशीर्वाद मिल रहा है।

अभिनंदन समारोह में पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, डॉ. मुरली मनोहर जोशी, निवर्तमान अध्यक्ष अमित शाह, पूर्व अध्यक्ष एवं केन्द्रीय मंत्री राजनाथ सिंह एवं नितिन गडकरी, पार्टी के संगठन महासचिव बीएल संतोष, केन्द्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, पार्टी उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान समेत अनेक केन्द्रीय मंत्री, विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, पार्टी के केन्द्रीय एवं प्रदेश के पदाधिकारी, सांसद, विधायक आदि बड़ी संख्या में मौजूद थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि चुनाव में जिन लोगों को जनता ने नकार दिया और जिनकी बात देश सुनने को तैयार नहीं है, उनके पास अब बहुत कम शस्त्र रह गए हैं। उनमें से एक हैं भ्रम और झूठ फैलाना। हर बात को रूप रंग दिया जा रहा है और बार-बार इन बातों को अपने सिस्टम के माध्यम से हवा दी जा रही है। ऐसे समय में भाजपा का कार्यकर्ता क्या करे।

उन्होंने कहा कि भाजपा को माध्यमों से जीने की आदत नहीं है। हमारा लालन-पालन जनता से सीधे संवाद से बना है। भाजपा के कार्यकर्ताओं का हर घर से नाता है, संवाद है और आपसी विश्वास कायम है। उसी की ताकत से हमें पूर्ण बहुमत मिला है और पुन: अधिक बहुमत से सत्ता में आए हैं। आज जो हमारे सामने हैं, वे चुनाव में भी पूरी ताकत से लड़े थे, लेकिन आज भी वे इस विश्वास को डिगा नहीं पाए हैं।

मोदी ने कहा कि हमारे लिए और भी सक्रियता से काम करने और जन-जन तक पहुंचने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी की ओर से प्रतिदिन 10 से 15 सभाएं आयोजित कीं जा रहीं हैं लेकिन 50 हजार से एक लाख लोग आ रहे हैं और वे सरकार को समर्थन दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये खेल चलता रहेगा और हम भी चलते रहेंगे।

प्रधानमंत्री ने भाजपा की राजनीतिक यात्रा को याद करते हुए कहा कि हम सबके लिए अत्यंत गौरव का विषय है कि राजनीति में जिन आदर्शों और मूल्यों को लेकर हम चले थे, जिन आदर्शों, मूल्यों के लिए 4-5 पीढ़ियां खप गईं, उन्हीं आदर्शों और मूल्यों को लेकर और राष्ट्र की आशा-आकांक्षों को लेकर भाजपा ने अपने आप को ढाला, अपना विस्तार किया।

उन्होंने कहा कि प्रारंभ से ही पार्टी का स्वभाव रहा कि पार्टी का जितना क्षैतिज विस्तार हो, वो करेगी और कार्यकर्ता का लंबवत विस्तार होता रहे, उसी परंपरा के कारण भाजपा को नई-नई पीढ़ी मिल रही है। जो पार्टी को आगे बढ़ाने में सफल होती है।

उन्होंने कहा, मेरा सौभाग्य रहा है कि यहां बैठे हुए सभी वरिष्ठजनों के हाथ के नीचे मुझे पार्टी का काम करने का अवसर मिला है। कभी राज्य स्तर पर और कभी राष्ट्रीय स्तर पर इन सबकी अंगुली पकड़कर चलने का मुझे मौका मिला है।

मोदी ने कहा कि पार्टी को नड्डा के नेतृत्व में और बड़ी चुनौतियों को पार करना है। उन्होंने यह भी कहा कि चुनाव कोई बड़ी चुनौती नहीं होती है। राजनीतिक दलों के लिए चुनाव अब लगातार चलने वाली प्रक्रिया हो गई है। अकेले में तो सब दल बोलते हैं कि बार-बार चुनाव, लेकिन जब एक सामूहिक रुख तय करना होता है तो हर एक को कुछ न कुछ कठिनाई आती है।

उन्होंने कहा कि भाजपा संघर्ष और संगठन इन पटरियों पर चलती रही है। देशहित की समस्याओं को लेकर संघर्ष करना, संगठन को बढ़ाना, कार्यकर्ता का विकास करना ये पार्टी का उद्देश्य है, लेकिन सत्ता में रहते हुए दल को चलाना ये अपने आप में बड़ी चुनौती होती है।

उन्होंने कहा कि भाजपा की दूसरी विशेषता रही है कि पार्टी को लोकतांत्रिक मूल्यों के आधार को मजबूती मिलती रही। भाजपा की विशेषता रही है कि हमें एक सुचारू रूप से चलने वाली व्यवस्था से जुड़ने वाले दल की तरह आगे बढ़ना चाहिए।

मोदी ने कहा कि इतने कम समय में भाजपा ने विस्तार भी किया है, जनाकांक्षाओं से खुद को  जोड़ा है और समयानुकूल परिवर्तन भी किया है। एक जीती जागती चेतन वृंद पार्टी, सिर्फ संख्या बल पर बनी हुई सबसे बड़ी पार्टी नहीं बल्कि जन सामान्य के दिलों में जगह बनाकर बनी हुई पार्टी है। उन्होंने कहा, हम लंबे समय तक मां भारती की सेवा करने के लिए आए लोग हैं। हमें सदियों तक ये काम करना है। और जिन आशा-आकांक्षाओं के कारण इस दल का जन्म हुआ है, उसे पूरे किए बिना चैन से बैठना नहीं है।

उन्होंने कहा कि एक कार्यकर्ता, लगातार जो भी उसकी शक्ति-सामर्थ है, उसे लेकर चलता रहे, जब जो जिम्मेदारी मिले उसे निभाता रहे और अपना उत्तम से उत्तम देने का प्रयास करता रहे, यह नड्डा में हमने भलीभांति देखा है। उसी विश्वास से हमें आगे बढ़ना है, नड्डा का नेतृत्व हमें नई प्रेरणा और ऊर्जा देगा और हम सब कार्यकर्ताओं का काम है कि नड्डा यशस्वी हों। वह जो भी चाहें, हम उसे पूरा करके दें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

सामाजिक बदलाव सूचकांक में भारत 76वें पायदान पर, डेनमार्क सबसे ऊपर