Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

आश्रय गृह से लड़कियों के लापता होने पर केरल सरकार को एनएचआरसी का नोटिस

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 17 नवंबर 2022 (00:36 IST)
नई दिल्ली। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने बुधवार को कहा कि केरल के कोट्टायम जिले के आश्रय गृहों से लड़कियों के बार-बार लापता होने के मामले में उसने राज्य सरकार को नोटिस जारी किया।एनएचआरसी ने घटना के बारे में जानकारी के साथ-साथ लड़कियों के गायब होने के बाद की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है।

कोट्टायम जिले के मंगनम स्थित एक आश्रय गृह से 9 लड़कियों के लापता होने की मीडिया रिपोर्टों पर स्वत: संज्ञान लेते हुए एनएचआरसी ने कहा कि उसने राज्य के मुख्य सचिव को एक नोटिस जारी कर घटना के बारे में जानकारी के साथ-साथ लड़कियों के गायब होने के बाद की गई कार्रवाई की रिपोर्ट मांगी है।

एनएचआरसी ने यह भी रिपोर्ट मांगी कि क्या सामाजिक न्याय विभाग या बाल कल्याण समिति के किसी लोक सेवक की संलिप्तता लड़कियों को आश्रय गृह से भगाने में है। इसके अलावा एनएचआरसी लापता लड़कियों के असंतोष के बारे में भी जानकारी मांगी है।

ऐसा प्रतीत होता है कि महिला सामाख्या नामक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) द्वारा चलाए जा रहे आश्रय गृह के पर्यवेक्षण और प्रभावी निगरानी की खामी है। इसके बावजूद इसे सामाजिक न्याय विभाग और बाल कल्याण समिति से मान्यता प्राप्त है। आयोग ने कहा कि ऐसा लगता है कि कैदी इस आश्रय गृह में रहने से संतुष्ट या खुश नहीं हैं।

आयोग ने कहा कि ऐसा लगता है कि इन लड़कियों के साथ किसी तरह का अमानवीय और अशोभनीय व्यवहार हुआ है, जिससे उन्हें आश्रय गृह छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा है। एनएचआरसी ने कहा, कोट्टायम स्थित मंगानम से लापता लड़कियों के लिए दर्ज मामले की स्थिति और गिरफ्तारी (यदि कोई हो तो) के बारे में राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को भी एक नोटिस जारी किया गया है।

रिपोर्ट में समाज के कमजोर वर्गों की तस्करी को रोकने के लिए आयोग द्वारा वर्ष 2017 में मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) के कार्यान्वयन की स्थिति भी अवश्य शामिल होनी चाहिए। इस संबंध में अधिकारियों से दो सप्ताह के अंदर जवाब देने को कहा गया है।

कोट्टयम का दौरा और जांच के बाद विशेष प्रतिवेदक हरिसेन वर्मा को आयोग के समक्ष दो महीने के भीतर रिपोर्ट भी पेश करनी होगी। इस रिपोर्ट में वर्तमान मामले की जांच भी शामिल की जाएगी। इसके अलावा आयोग ने यह भी कहा है कि उम्मीद है कि वह भविष्य में ऐसी घटनाओं से बचने के उपाय भी सुझाएंगे। रिपोर्ट में कथित आश्रय गृह में रहने को लेकर लापता लड़कियों के असंतोष और मोहभंग के कारणों को स्पष्ट करना चाहिए।

गौरतलब है कि सोमवार को कोट्टयम के महिला सामाख्या से नौ लड़कियों के लापता होने को लेकर खबर सामने आई थी। ऐसा दावा किया गया था कि इसमें रहने वाली लड़कियां पिछले काफी दिनों से वहां रहने को लेकर विरोध कर रही थीं। इसके बाद यहां से फरार पाई गईं। केरल में इस तरह की ये तीसरी घटना थी। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी है।(वार्ता)
Edited by : Chetan Gour

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

श्रद्धा वालकर हत्याकांड : आरोपी का नार्को टेस्ट कराना चाहती है पुलिस