नरेन्द्र मोदी गरजे, सीमापार बैठे आतंकियों और उनके आकाओं को छोड़ेंगे नहीं...

सोमवार, 4 मार्च 2019 (14:30 IST)
जामनगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि आतंकवाद की बीमारी की जड़ पड़ोस (पाकिस्तान) में है और इसे जड़मूल से खत्म किया जाना चाहिए। उन्होंने हाल में पाकिस्तान में आतंकी कैंपों पर हुई भारतीय वायुसेना की कार्रवाई के बारे में विपक्ष के बयानों पर भी कड़ा प्रहार किया और कहा कि विपक्षी दलों का लक्ष्य केवल मोदी को खत्म करने का है जबकि उनका लक्ष्य आतंकवाद को खत्म करने में है।
 
 
मोदी ने सोमवार को यहां एक कार्यक्रम में कहा कि कोई भी देश शक्ति और सार्मथ्य के बिना चल नहीं सकता। गुजरात में ही आए दिन सांप्रदायिक दंगे होते रहते थे पर जब वैमनस्य फैलाने वाले लोगों को ठिकाने लगाया गया तो यह सब थम गया।
 
 
उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि इस देश में जमी हुई आतंकवाद की बीमारी को जड़ मूल से उखाड़ा जाना चाहिए अथवा नहीं। जैसे बीमारी की जड़ का पता  लगाने के बाद ही उसके हिसाब से इलाज होता है वैसे ही आतंकवाद के मूल का इलाज होना चाहिए। आतंकवाद की मूल पड़ोस में है।
 
 
मोदी ने विपक्ष पर प्रहार करते हुए कहा कि इसे अपनी देश की सेना के बयान पर भरोसा नहीं है। उन्होंने कहा, ‘तुम्हें अपने देश की सेना जो कहे उस पर भरोसा है कि नहीं। सच को मानना पड़ेगा। पर कितने लोगों को पेट में  दुखता है ऐसे समय में जब देश को गर्व होना चाहिए कि सेना ताकत दिखा रही है।

 
दिल्ली के एक भाषण में मैंने जब कहा कि सेना ने अदभुत पराक्रम दिखाया और इस पर हमें गर्व है, पर आज वायुसेना के पास राफेल विमान होता तो परिणाम अलग होता। अब जिसको जो समझ आए वह बोलेगा। उन्होंने कहा कि मोदी ने सेना ने जो किया उस पर सवाल खड़ा किया है। अरे भाई सामान्य बुद्धि इस्तेमाल करो। मेरे कहने का मतलब है कि एयर स्ट्राइक यानी हवाई हमले के समय राफेल होता तो हम एक भी गंवाते नहीं और उनका एक भी बचता नहीं।’
 
 
मोदी ने कहा कि उनका संकल्प है कि देश को तबाह करने वाले आतंकियों और उनके सीमापार बैठे आकाओं को छोड़ेंगे नहीं। उन्होंने कहा, ‘मेरे विरोधियों को इस पर आपति है कि मोदी क्या करता है। देख लो ना भाई मोदी क्या करता है। उनका मंत्र है 'आओ साथ मिलो मोदी को खत्म करो।' देश का मंत्र 'आओ एक साथ मिलो आतंकवाद को खत्म करो।' उन्हें मोदी को खत्म करना है मुझे आतंकवाद को खत्म करना है। देश के लोग आतंकवाद खत्म करने वाले के साथ जाएंगे कि नहीं।'
 
 
पीएम मोदी ने इससे पहले अपने लंबे संबोधन में आयुष्मान भारत योजना की चर्चा के दौरान अचानक भूल से पाकिस्तान के कराची शहर का नाम ले लिया। इस पर उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि उनके दिमाग में आज कल यह सब भरा हुआ है क्योंकि यह सब करना पड़ता है। उन्होंने लोगों से पूछा कि यह सही है या नहीं। (वार्ता)
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख लोकसभा चुनाव 2019, भाजपा के संकल्प पत्र के लिए मिले सुझाव