कांग्रेस ने की गुजरात चुनाव जैसी गलती, मोदी ने बनाया चुनावी मुद्दा

भोपाल। चुनाव आते ही नेताओं की बयानबाजी तेज हो जाती है। हर चुनाव में कुछ ऐसे बयान होते हैं जो चुनाव के समय सबसे अधिक चर्चा का विषय बन जाते हैं। नेताओं के कुछ ऐसे बयान भी होते हैं जो चुनाव में पार्टियों की दशा और वोटरों की दिशा भी बदल देते हैं।


चुनावी मौसम में कुछ नेताओं के बयान ऐसे होते हैं, जो पार्टी के लिए मुसीबत का सबब बन जाते हैं। गुजरात चुनाव का समय तो आपको याद ही होगा। गुजरात में जब चुनावी प्रचार अंतिम दौर में था तभी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर एक ऐसा बयान दिया, जिसने गुजरात में कांग्रेस को काफी नुकसान पहुंचाया।

रअसल कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने गुजरात में वोटिंग से ठीक पहले अपने एक बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नीच बता दिया था, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी ने देखते ही देखते चुनावी मुद्दा बना दिया था।

अय्यर के इस बयान के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी हर सभा में अय्यर के बयान का जिक्र करते हुए इसे गुजरात की अस्मिता और देश के गौरव से जोड़ दिया। ऐसा नहीं था कि अय्यर ने चुनाव के समय कोई पहली बार बयान दिया हो जिससे कांग्रेस को मुश्किल हो।

थोड़ा और पहले की बात करें तो 2014 में लोकसभा चुनाव के समय मणिशंकर अय्यर ने उस समय के भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को चायवाला कहा था, जिसको भाजपा ने चुनावी मुद्दा बनाया था।

नतीजा भी सबके सामने था। नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने और कांग्रेस 44 सांसदों पर आकर सिमट गई। अब बात इस वक्त के सियासी माहौल की। इस वक्त देश के तीन बड़े हिन्दीभाषी राज्यों मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। तीनों ही राज्यों में भाजपा सत्तारुढ़ पार्टी और चुनाव में उसकी कांग्रेस से कांटे की टक्कर है। तीनों ही राज्यों में भाजपा को एंटी इनकमबेंसी फेक्टर से जूझना पड़ रहा है। ऐसे में भाजपा को अपनी सरकार बचाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ रही है।

चुनाव में अब तक कांग्रेस ने रणनीतिक रूप से भाजपा को घेरने का कोई मौका नहीं छोड़ा है। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल ने अब तक मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में ताबड़तोड़ सभाएं की हैं। राहुल की इन सभाओं से अब तक तो कांग्रेस को फायदा भी मिलता दिख रहा है।

राहुल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर राफेल, नोटबंदी और जीएसटी को लेकर सीधा अटैक कर रहे हैं, वहीं प्रधानमंत्री मोदी भी राहुल पर काउंटर अटैक कर रहे हैं, लेकिन इस बीच चुनाव के चढ़ते पारे के बीच कांग्रेस के बड़े नेता और सांसद शशि थरूर ने एक ऐसा बयान दे दिया है, जिसे अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी हर सभा में मुद्दा बना रहे हैं।

दरअसल कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने एक कार्यक्रम में देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित नेहरू की तारीफ करते हुए कहा था कि नेहरू की नीतियों के चलते आज एक 'चायवाला' देश का प्रधानमंत्री है। शशि थरूर के इस बयान के आते ही मौके की तलाश में बैठी बीजेपी ने इस मुद्दे को बिना किसी देरी के लपक लिया और इसे प्रधानमंत्री पद का अपमान बता डाला। इतना ही नहीं अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद अपनी हर चुनावी जनसभा में अपने को 'चायवाला' बताकर कांग्रेस पर निशाना साध रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्यप्रदेश में पिछली अपनी चार जनसभाओं में खुद को 'चायवाला' बताते हुए कहा कि आज कांग्रेस बर्दाश्त नहीं कर ना रही है कि एक 'चायवाला' देश का प्रधानमंत्री बना है। राहुल गांधी के पीएम से चार साल का कामकाज का हिसाब लेने के सवाल पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस साठ साल का हिसाब दें तो ये 'चायवाला' चार साल का हिसाब देने को तैयार है।

थरूर के 'चायवाला' बयान के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्यप्रदेश में पिछले चार जनसभाओं शहडोल, ग्वालियर, छिंदवाड़ा और इंदौर में मंच से सीधे गांधी परिवार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस अपनी चार पीढ़ियों का हिसाब दे तो 'चायवाला' साढ़े चार सालों का हिसाब देने को तैयार है।

मध्यप्रदेश में अब जब चुनाव में ज्यादा वक्त नहीं बचा है तो भाजपा और नरेंद्र मोदी 'चायवाला' को प्रधानमंत्री पद और नरेंद्र मोदी का अपमान बताकर एक बार फिर लोगों की सहानुभूति लेना चाहते हैं। भाजपा इस वक्त 'चायवाला' को ठीक उसी तरह चुनावी मुद्दा बना रही है जैसा उसने 2014 के लोकसभा चुनाव के समय किया था।

भाजपा 'चायवाला' शब्द का बार-बार प्रयोग कर लोगों को भावनात्मक रूप से सीधे पीएम मोदी से जोड़ना चाह रही है। अब देखना होगा कि चुनावी प्रचार के अंतिम दौर में कांग्रेस पार्टी और उसके राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जो पहले से ही भाजपा पर हमलावर हैं कैसे भाजपा पर काउंटर अटैक करते हैं और 'चायवाला' के फेर में फंसने से बचते हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING