राहुल की हठ के बाद प्रियंका गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष बनाने की मांग तेज हुई

गुरुवार, 18 जुलाई 2019 (00:03 IST)
नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष पद से राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद पार्टी में प्रियंका गांधी वाड्रा को इस संकटपूर्ण समय में सबसे पुरानी पार्टी का प्रमुख बनाने की मांग उठ रही है।
 
पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बेटे और पूर्व सांसद अभिजीत मुखर्जी ने प्रियंका गांधी वाड्रा के पक्ष में खुली अपील करते हुए कहा कि उन्हें पार्टी की कमान संभालने की देशभर के कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मांग को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।
 
पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अनिल शास्त्री ने कहा कि इस वक्त पार्टी की अगुवाई करने के लिए प्रियंका गांधी बेहतरीन शख्सियत हैं और राहुल गांधी के पद छोड़ने पर अडिग रहने के मद्देनजर प्रियंका गांधी को कांग्रेस का नया प्रमुख चुना जाना चाहिए।
 
शास्त्री ने कहा कि अब राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर अड़े हैं, यह पार्टी के अस्तित्व का सवाल है। अगर पार्टी को बचे रहना है तो हमें जल्द से जल्द एक अध्यक्ष बनाना होगा। पार्टी का नेतृत्व करने के लिए प्रियंका गांधी से बेहतर शख्स कोई और नहीं हो सकता है और एआईसीसी को उन्हें चुनना चाहिए।
 
गौरतलब है कि राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस ने अब तक अपने नए अध्यक्ष पर फैसला नहीं किया है।
 
गांधी ने 25 मई को हुई कांग्रेस कार्यसमिति की अहम बैठक में पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था और स्पष्ट कर दिया था कि देश की सबसे पुरानी पार्टी को नया अध्यक्ष चुनना चाहिए, जो गांधी परिवार से बाहर का हो। उन्होंने प्रियंका गांधी को कांग्रेस प्रमुख बनाने की पार्टी कार्यकर्ताओं की मांग को भी खारिज कर दिया था।
 
अभिजीत मुखर्जी ने कहा कि पार्टी अस्तित्व के संकट से जूझ रही है और प्रियंका गांधी को पार्टी की कमान अपने हाथ में लेनी चाहिए और इसकी किस्मत बदलनी चाहिए। वे पार्टी को जबर्दस्त जीत के मार्ग पर वापस ले जाएंगी, जैसा उनकी दादी एवं पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने किया था।
 
अन्य नेताओं के विचार से सहमति जताते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जयसवाल ने भी प्रियंका गांधी को पार्टी का अध्यक्ष बनाने की जोरदार वकालत की। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख बिहार और असम में बाढ़ से 94 लोगों की मौत, 1 करोड़ से ज्यादा आबादी प्रभावित