Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

वाराणसी पहुंचीं प्रियंका गांधी, रविदास मंदिर में लेंगी आशीर्वाद

webdunia
रविवार, 9 फ़रवरी 2020 (13:58 IST)
वाराणसी। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा रविवार को 14वीं शताब्दी के महान संत शिरोमणी रविदास की जन्मस्थली सिरगोवर्धनपुर (बीएचयू परिसर के पास) में उनके मंदिर में मत्था टेकने यहां एक दिवसीय दौरे पर पहुंचीं।

श्रीमती वाड्रा ने प्राचीन धार्मिक नगरी पहुंचने से पहले अपने टि्वटर हैंडल से संत श्री गुरु रविदास को उनके जन्मदिन पर नमन करते हुए यहां आने की जानकारी देते हुए लोगों को बधाई दी। उन्होंने लिखा, ऐसा चाहूं राज मैं, जहां मिले सबन को अन्न। छोटे-बड़ों सब सम बसै, रैदास रहे प्रसन्न। जगत पितामा, साहिबे कमाल, सद्गुरु श्री रविदास जी महाराज की जयंती की आप सबको लख-लख बधाइयां।

उन्होंने लिखा, संत शिरोमणि गुरु रविदास जन्म स्थान मंदिर की चौखट पर मत्था टेकने आज बनारस में रहूंगी। वाड्रा के अपने निर्धारित कार्यक्रम पर अपराह्न करीब सवा 12 बजे वाराणसी में बाबतपुर के लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पहुंचने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व विधायक अजय राय, पार्टी के नवनियुक्त जिला अध्यक्ष राजेश्वर सिंह पटेल, नगर अध्यक्ष राधवेंद्र चौबे समेत सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने उनका गर्मजोशी के साथ स्वागत किया।

राय ने कहा कि पार्टी महासचिव एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी श्रीमती वाड्रा वाराणसी के सीरगोवर्धनपुर के श्री गुरु रविदास की जन्मस्थली पर स्थित उनके मंदिर में मत्था टेकेंगी तथा देश-विदेश से आए श्रद्धालुओं के साथ लंगर (प्रसाद) चखेंगीं। श्री गुरु संत रविदास का जन्म करीब साढ़े 6 सौ साल पहले माघी पूर्णिमा के दिन वाराणसी के सीरगोवर्धनपुर में हुआ था।

वर्तमान में काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) परिसर इलाके में स्थित संत के जन्मस्थल पर उनके मंदिर एवं आसपास के इलाकों को भव्य तरीके से सजाया गया है। उनकी भव्य जयंती मनाई जा रही है। जन्मोत्सव की पूर्व संध्या पर शनिवार को संत रविवाद के अनुयाइयों ने दीप जलाकर उत्सव मनाया।

समारोह में भाग लेने देश-विदेश से लाखों लोग आए हुए हैं। जयंती समारोह में भाग लेने पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, उत्तराखंड समेत कई राज्यों के अलावा अमेरिका, फ्रांस, ब्रिटेन समेत अनेक देशों में रह रहे प्रवासी भारतीय भी आए हैं।
फोटो सौजन्‍य : टि्वटर

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

पश्चिम बंगाल में मिली सदियों पुरानी सुरंग, देखने के लिए उमड़ी भीड़