Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Weather Updates: बारिश से दिल्ली के न्यूनतम तापमान में गिरावट, बिहार में बाढ़ से 104 लोगों की मौत

webdunia
मंगलवार, 23 जुलाई 2019 (00:35 IST)
नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के कुछ हिस्सों में हल्की से भारी बारिश के बाद शहर के न्यूनतम तापमान में सामान्य से 3 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई लेकिन आर्द्रता का स्तर 100 फीसदी तक पहुंच गया।
 
मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि अधिकतम तापमान 36.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो कि सामान्य से 2 डिग्री सेल्सियस अधिक है, वहीं न्यूनतम तापमान 24.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो कि सामान्य से 3 डिग्री सेल्सियस कम है। आर्द्रता का स्तर 56 से 100 फीसदी के बीच रहा।
 
मौसम के संबंध में शहर का आधिकारिक आंकड़ा दर्ज करने वाली सफदरजंग वेधशाला ने सुबह से 3.6 मिमी बारिश दर्ज की जबकि पालम वेधशाला में बारिश नहीं दर्ज की गई। वहीं लोधी रोड, आया नगर और रिज क्षेत्र की वेधशालाओं ने क्रमश: 4.5 मिमी, 1.1 मिमी और 25 मिमी बारिश दर्ज की।
 
मौसम विज्ञानियों ने मंगलवार को आकाश में बादल छाए रहने और बारिश का पूर्वानुमान जताया है। रविवार को न्यूनतम तापमान 26.8 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान 36.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
 
बिहार में बाढ़ से अब तक 104 लोगों की मौत : पटना से मिले समाचारों के अनुसार बिहार के 12 जिलों में आई बाढ़ से अब तक 104 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 76 लाख 85 हजार से अधिक की आबादी प्रभावित हुई है।
 
आपदा प्रबंधन विभाग से बुधवार को प्राप्त जानकारी के मुताबिक बिहार के 12 जिलों (शिवहर, सीतामढ़ी, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, दरभंगा, सहरसा, सुपौल, किशनगंज, अररिया, पूर्णिया एवं कटिहार) में अब तक 104 लोगों की मौत हुई है जबकि 76 लाख 85 हजार से अधिक की आबादी प्रभावित हुई है।
 
बिहार में बाढ़ से मरने वाले 102 लोगों में सीतामढ़ी के 27, मधुबनी के 23, अररिया के 12, शिवहर एवं दरभंगा के 10-10, पूर्णिया के 9, किशनगंज के 5, सुपौल के 3, पूर्वी चंपारण एवं मुजफ्फरपुर के 2-2 और सहरसा के 1 व्यक्ति शामिल हैं।
webdunia
इन 12 जिलों में कुल 81 राहत शिविर चलाए जा रहे हैं, जहां 76,400 लोग शरण लिए हुए हैं और उनके भोजन की व्यवस्था के लिए 712 सामुदायिक रसोई चलाई जा रही है। बाढ़ प्रभावित इलाके में राहत एवं बचाव कार्य के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की कुल 26 टीमें लगाई गई हैं तथा 125 मोटरबोटों का इस्तेमाल किया जा रहा है।
 
केंद्रीय जल आयोग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बिहार की कई नदियां (बूढ़ी गंडक, बागमती, अधवारा समूह, कमला बलान, कोसी, महानंदा और परमान) विभिन्न स्थानों पर सोमवार को सुबह खतरे के निशान से ऊपर बह रही थीं। भारत मौसम विभाग के अनुसार बिहार की सभी नदियों के जलग्रहण क्षेत्रों में शुक्रवार की सुबह तक हल्की से साधारण बारिश की संभावना जताई गई है। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

डोनाल्ड ट्रंप ने कश्मीर मुद्दे पर की 'मध्यस्थता' की पेशकश, भारत के विदेश मंत्रालय ने नकारा