Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

गुजरात दंगे का पाठ NCERT 12वीं की किताब से हटाया, अटलजी की 'नसीहत' भी हटेगी

हमें फॉलो करें webdunia
शुक्रवार, 17 जून 2022 (20:32 IST)
नई दिल्ली। एनसीईआरटी ने (NCERT) ‘पाठ्यक्रम को युक्तिसंगत’ बनाने की प्रक्रिया के तहत 12वीं कक्षा की पाठ्यपुस्तकों से वर्ष 2002 के गुजरात दंगे, आपातकाल, शीतयुद्ध, नक्सल आंदोलन और मुगल दरबार की जानकारी देने वाले कुछ हिस्से हटा दिए हैं।
 
राष्ट्रीय शैक्षणिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) ने पाठ्यक्रम के उन हिस्सों को हटाने के पीछे ‘अतिव्यापी’ और ‘अप्रासंगिक’ होने का हवाला दिया है।
 
इनमें से कई बदलावों की घोषणा इस साल के शुरुआत में तब की गई थी जब केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने अप्रैल में अपने पाठ्यक्रमों को युक्तिसंगत बनाया था। सीबीएसई के अलावा कुछ राज्य भी एनसीईआरटी की किताबों का इस्तेमाल करते हैं।
 
इन बदलावों को सूचीबद्ध करते हुए एनसीईआरटी ने एक नोट में कहा कि पाठ्यपुस्तकों की सामग्री को विभिन्न कारणों से युक्तिसंगत बनाया गया है, जिनमें एक ही कक्षा में एक ही तरह की सामग्री अन्य विषयों में होने, एक तरह ही सामग्री उसी विषय में निचली और ऊपरी कक्षा में होने के कारण शामिल हैं।
 
अटलजी की नसीहत भी हटेगी : 12वीं कक्षा की राजनीति विज्ञान की पाठ्यपुस्तक में से ‘गुजरात दंगों’ की सामग्री को हटाया जाएगा जो ‘भारतीय राजनीति के नवीनतम घटनाक्रम’ शीर्षक अध्याय के तहत शामिल है। पाठ्यपुस्तक से वर्ष 2002 हिंसा पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट का उल्लेख और तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की ‘राजधर्म’ संबंधी टिप्पणी भी हटाई जा रही है।
 
इसी प्रकार इतिहास की पाठ्यपुस्तक से मुगल दरबार का अध्याय हटाया जा रहा है। इसके अलावा राजनीति विज्ञान की किताब से दलित आंदोलन पर लिखी गई कविता और शीत युद्ध से जुड़े अध्याय हटाई जा रही सामग्री में शामिल है।
 
दसवीं कक्षा की धर्म, संप्रदायवाद और राजनीति से कवि फैज अहमद फैज की कविता और लोकतांत्रिक राजनीति-II किताब से संप्रदायवाद, धर्म निरपेक्ष राज्य’ के हिस्से को हटाया जा रहा है। इसके साथ ही ‘लोकतंत्र और विविधता’, ‘लोकप्रिय संघर्ष और आंदोलन’ और ‘लोकतंत्र की चुनौतियां’ शीर्षक के अध्याय भी अब पाठ्यक्रम का हिस्सा नहीं होंगे।
 
सातवीं और 8वीं कक्षा की समाज विज्ञान की पुस्तक से दलित लेखक ओमप्रकाश का संदर्भ हटाया गया है। 7वीं कक्षा की किताब ‘हमारा इतिहास-2’ से ‘सम्राटों के प्रमुख अभियान और घटनाएं’ शीर्षक से पढ़ाए जा रहे अध्याय हटाए जा रहे हैं। (भाषा)
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

'अग्निपथ' विवाद पर गिरिराज सिंह बोले- विपक्षी पार्टियां नवयुवकों को कर रहीं भ्रमित...