कश्मीर में एक स्नाइपर हमलावर समेत तीन जैश आतंकी ढेर

सुरेश डुग्गर

मंगलवार, 30 अक्टूबर 2018 (20:29 IST)
श्रीनगर। कश्मीर के त्राल में छिपे जैश-ए-मोहम्मद के तीन आतंकवादियों को सुरक्षाबलों ने ढेर कर दिया है। इन आतंकियों में वह एक स्नाइपर हमलावर भी शामिल है, जिन्होंने पिछले एक माह के दौरान तीन सुरक्षाकर्मियों को स्नाइपर शॉट से मार गिराया था। हालांकि मरने वाले आतंकियों में स्नाइपर हमलावर है या नहीं, इसकी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है।
 
कश्मीर के त्राल में सुरक्षाबलों ने जैश के तीन आतंकियों को मार गिराया। इसमें एक आतंकी स्नाइपर बताया जा राह है। जिसने बीते दिनों कई वारदातों को अंजाम भी दिया था। जानकारी के अनुसार सुरक्षाबलों को त्राल के मंदूरा गांव संदिग्ध गतिविधियों की खबर मिली थी। सेना की 42 आरआर, जम्मू कश्मीर पुलिस के एसओजी और सीआरपीएफ ने संयुक्त रूप से तलाशी अभियान चलाया तो आतंकियों ने गोलीबारी शुरू कर दी जिससे मुठभेड़ शुरू हो गई।
 
मंगलवार तड़के से ही सुरक्षाबलों को आतंकियों के त्राल में छिपे होने की सूचना के बाद से ही ऑपरेशन चलाया जा रहा था। जिसमें दोपहर को आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी थी। करीब 10 घंटों तक चले इस ऑपरेशन में सुरक्षाबलों ने आतंकियों को सरेंडर करने को बोला मगर उन्होंने दोबारा फायरिंग शुरू कर दी। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने उस घर को ही उड़ा दिया, जिसमे आतंकी छिपे हुए थे।
 
इस बीच सोमवार देर रात आतंकियों ने सेना के कैंप पर हमला भी किया था। सोमवार देर रात आतंकियों ने त्राल क्षेत्र में सेना की 42 आरआर कैंप पर फायरिंग की। सेना के जवानों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए गोलियां चलाईं, लेकिन आतंकी अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गए। रात करीब 10.10 मिनट पर उत्तरी कश्मीर के मडरू क्षेत्र में आतंकियों ने सेना कैंप पर हमला कर दिया।
 
हमले में किसी नुकसान की कोई सूचना नहीं है। सेना ने क्षेत्र को घेर लिया और तलाशी अभियान देर रात तक जारी था। एक सप्ताह में त्राल में सुरक्षाबलों के कैंप पर यह पांचवां हमला है। इससे पहले दो सेना कैंप और दो सीआरपीएफ कैंप पर आतंकी हमला कर चुके हैं। यह हमले मडूरा, बटगुंड, पंजू, बजवानी क्षेत्र किए गए थे।
 
धमाके में मेजर समेत 8 सैनिक घायल : दूसरी ओर कश्मीर के हंदवारा में एक धमाके में मेजर सहित आठ जवान गंभीर रूप से घायल हो गए। 21 आरआर की टुकड़ी कुपवाड़ा के जंगलों में ट्रेनिंग कर रही थी। इस दौरान उनका ही एक ग्रेनेड फट गया। जिसके बाद यह हादसा हुआ। सभी जवानों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
 
सूत्रों की मानें तो यह हादसा तब घटित हुआ जब राजवर में वह जंगलों में ट्रेनिंग के दौरान लकड़ियों से गुजर रहे थे। यह टुकड़ी मेजर सौरभ सुमन द्वारा लीड की जा रही थी। सूत्रों ने बताया कि यह ग्रेनेड तब फटा जब लकड़ियों के बीच जवानों को ट्रेनिंग दी जा रही थी। सभी घायल जवानों को पहले ड्रगमुला के मिलिट्री अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां मेजर सहित दो गंभीर घायलों को 92 बेस अस्पताल रेफर कर दिया गया है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING