बारिश का कहर, तेज बहाव में बही गाय, केदारनाथ हाईवे पर आवाजाही ठप

बुधवार, 31 जुलाई 2019 (00:18 IST)
रुद्रप्रयाग। उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में बारिश का कहर जारी है और मंगलवार को दिनभर हुई बारिश के कारण केदारनाथ राजमार्ग बांसबाड़ा में लगातार बंद होता रहा, जिसके कारण आम जनता के साथ ही केदारनाथ आने-जाने वाले तीर्थ यात्रियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। चंद्रपुर में बारिश के तेज बहाव में एक गाय बह गई।
 
वहीं दूसरी ओर जिला मुख्यालय के नए बस अडडे पर ऊपरी पहाड़ी से भारी-भरकम बोल्डर गिरने से पार्किंग में खड़ा एक वाहन बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुआ। गनीमत यह रही कि जिस समय बोल्डर गिरे, उस समय सड़क पर कोई नहीं था वरना एक बड़ी अनहोनी हो सकती थी।
 
लगातार हो रही बारिश अब आम जनता के साथ ही केदारनाथ यात्रा के लिए आफत बनती जा रही है। दो दिनों से जिले में रुक-रुककर हो रही बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। बारिश के कारण केदारनाथ राजमार्ग पर बांसबाड़ा में लगातार पहाड़ी टूटकर हाईवे पर आ रही है। जिस कारण यातायात बार-बार प्रभावित हो रहा है। मंगलवार सुबह 4 घंटे तक बांसबाड़ा में आवाजाही प्रभावित रही।
 
4 घंटे बाद हाईवे को खोला गया, लेकिन दोबारा पहाड़ी टूटने के कारण हाईवे पर आवाजाही बंद हो गई। बांसबाड़ा में वैकल्पिक मार्ग से भी आवाजाही कराई गई, लेकिन वैकल्पिक मार्ग भी बंद हो गया। बांसबाड़ा बरसाती सीजन में नासूर बन गया है। यहां लगातार पहाड़ी टूट रही हैं। वाहन चालक, स्थानीय लोग और यात्री जान जोखिम में डालकर आवाजाही कर रहे हैं। बांसबाड़ा में स्थिति यह बन गई है कि कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है।
 
वहीं दूसरी ओर रुद्रप्रयाग जिला मुख्यालय में नए बस अडडे पर सुबह 4 बजे के समय बारिश के कारण पहाड़ी से बड़े-बड़े बोल्डर गिर गए। बोल्डर की चपेट में सड़क पर खड़ी एक यूटीलीटी वाहन भी आ गया। वाहन बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया। 
 
बोल्डर इतने बड़े थे कि उन्हें किनारे करने के लिए जेसीबी बुलानी पड़ी। रुद्रप्रयाग शहर के बीच में बहने वाला पुनाड़ गदेरा भी उफान पर आ गया है। गदेरे किनारे बसे लोगों के लिए भी अब खतरा पैदा होने लग गया है। 
 
मुंबई में भारी बारिश की चेतावनी : मौसम विभाग ने मुंबई में अगले 2 दिनों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। नासिक में भी लगातार बारिश के कारण बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। चंद्रपुर में बारिश के तेज बहाव में एक गाय बह गई। इस बहाव में एक बच्चा भी जा गिरा, जिसे समय रहते सुरक्षित बचा लिया गया।
 
गुजरात के भी कई हिस्सों से बाढ़ के कहर की खबरें प्राप्त हो रहीं हैं। राजस्थान के बूंदी में बारिश के कारण कई स्थानों पर बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। इसी कारण एक बच्चे की गड्ढे में गिरने से मौत हो गई।
 
छत्तीसगढ़ के सुकमा में भी पूरा हाईवे पानी में डूबा हुआ है, जिसकी वजह से वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गई हैं। हिमाचल प्रदेश के मंडी में भी लगातार हो रही बारिश के कारण पहाड़ों से गिर रहे मलबे की वजह से हाईवे पर जाम लगा हुआ है।
 
मध्यप्रदेश के सीहोर में बाढ़ के हालात : मध्यप्रदेश में कल रात से हो रही व्यापक वर्षा आज भी कई स्थानों पर जारी रही। सीहोर में बाढ़ के हालात बन गए हैं। सीहोर में पिछले चौबीस घंटों में 250 मिलीमीटर से अधिक पानी बरसा है। यहां नर्मदा नदी खतरे के निशान से 12 फीट ऊपर बह रही है। सीहोर शहर में बाढ़ के हालात है और कई घरों में पानी घुस गया है जिसकी निकासी के लिए लोग बाग दिन भर जुटे रहे। पार्वती नदी भी ऊफन रही है।
 
सीहोर की कुलांस नदी भी ऊफन रही है। इस नदी का पानी सीधे भोपाल के बड़े तालाब में पहुंच रहा है। बुरहानपुर में ताप्ती नदी का पानी उतर गया है और कल जिन तीन परिवारों को जिला प्रशासन ने सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया था, वे आज घर लौटने लगे हैं। इस बीच वर्षा भी हो रही है।
 
इस बीच मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों के दौरान मध्यप्रदेश में भारी बारिश होने की फिर चेतावनी जारी कर दी है। इनमें कहीं-कहीं भारी से भारी बारिश भी हो सकती है। 
 
इंदौर, धार, अलीराजपुर, झाबुआ, खंडवा, खरगोन, बड़वानी, बुरहानपुर, होशंगाबाद, हरदा, बैतूल, छिंदवाड़ा, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, नरसिंहपुर, सिवनी, कटनी, भोपाल, रायसेन, राजगढ़, विदिशा, सीहोर, पन्ना, सागर, टीकमगढ़, दमोह और छतरपुर जिलों में कहीं-कहीं भारी और भारी से भारी बारिश हो सकती है।
 
राजस्थान में बारिश के तेवर धीमें पड़े :  राजस्थान में पिछले तीन-चार दिन से चल रहा तेज बारिश का दौर अब धीमा पड़ गया है और पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश दर्ज की गई।
 
मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटों के दौरान चित्तौड़गढ़ के कपासन में 4 सेंटीमीटर, झालावाड़ के मनोहर थाना में 3 सेंटीमीटर जबकि कुछ अन्य स्थानों पर 2 सेंटीमीटर तक बारिश दर्ज की गई। वहीं, आज सुबह से शाम तक कोटा में बूंदाबांदी दर्ज की गई। विभाग ने आगामी 24 घंटों के दौरान राज्य के कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना जताई है।
 
बाढ़ पीड़ितों के बीच 135.6 करोड़ का वितरण : बिहार में दरभंगा जिले के बाढ़ से प्रभावित 2 लाख 26 हजार परिवारों को 6-6 हजार रुपए की दर से कुल 135.6 करोड़ रुपए उनके बैंक खाते में भेज दिए गए हैं।
 
जिलाधिकारी त्यागराजन ने बताया कि आपदा प्रबंधन विभाग के प्रावधान के अनुसार बाढ़ पीड़ित परिवारों को 135 करोड़ 60 लाख रुपए की सहायता राशि उनके बैंक खाते में भेज दी गई है। वहीं, छूटे हुए बाढ़ पीड़ित परिवारों के सर्वेक्षण का कार्य तेजी से किया जा रहा है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर और आंध्र प्रदेश के कप्तान वेणुगोपाल राव ने भी क्रिकेट को कहा अलविदा