मौसम अपडेट : उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड, शीतलहर की चेतावनी...

सोमवार, 28 जनवरी 2019 (10:41 IST)
देशभर में ठंड अपने तीखे तेवर दिखा रही है जो थमने का नाम नहीं ले रही है। हिमालयी क्षेत्रों में बर्फबारी से तेज हवाएं चल रही हैं और शीतलहर का प्रकोप जारी है। दिल्ली में रविवार की सुबह बेहद सर्द रही। जम्मू एवं कश्मीर का लद्दाख क्षेत्र सबसे ठंडा स्थान रहा। वहीं मध्य प्रदेश में भोपाल समेत राज्य के कई अन्य हिस्सों में चल रही हवाओं ने यहां ठिठुरन बढ़ा दी है। क्षेत्र में अगले कुछ दिनों में कहीं-कहीं बारिश भी हो सकती है। मप्र में कई स्थानों पर ओले गिरे। दमोह में आलू, टमाटर, मिर्च की फसलें और दलहनी फसलें इस क्षेत्र में अचानक ओलावृष्टि के कारण नष्ट हो गईं। किसानों का कहना है कि सभी फसलें पूरी तरह से नष्ट हो गई हैं। किसानों ने सरकार से मुआवजे की मांग की।
 
ठंड से कांप उठी दिल्‍ली : दिल्ली में रविवार की सुबह बेहद सर्द रही। मौसम अधिकारी ने बताया कि अधिकतम तापमान 19 डिग्री के आसपास रह सकता है। राजधानी में खराब मौसम के कारण कई उड़ानें रद्द हुईं तो वहीं दूसरी ओर कुछ ट्रेनें देरी से चल रही हैं। दिल्‍ली में वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में दर्ज की गई। दिल्ली में रविवार की सुबह बेहद सर्द रहने से लोग कांप उठे।

दिल्ली-एनसीआर में न्यूनतम तापमान 5 डिग्री के आसपास बना हुआ है। इसके दो तीन दिन में और गिरने की संभावना है। मौसम विभाग के मुताबिक, सोमवार को दिल्ली में घना कोहरा नजर आ सकता है। हवा की गुणवत्ता भी खराब स्तर पर है। एक्यूआई 218 दर्ज किया गया।
 
मध्यप्रदेश में हवाओं ने बढ़ाई ठिठुरन : मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल समेत राज्य के कई अन्य हिस्सों में चल रही हवाओं ने ठिठुरन बढ़ा दी है। मौसम विभाग ने गरज चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना जताई है। राज्य के कई हिस्सों में हुई बारिश से ठंड बढ़ गई है जिससे तापमान में गिरावट आई है। धार जिला सबसे ठंडा रहा जहां तापमान 4.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है।
 
इंदौर में रविवार को दिन के तापमान ने बीते 10 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। इंदौर, उज्जैन, सतना, रीवा, छिंदवाड़ा, सागर, ग्वालियर, रतलाम, शिवपुरी, खरगोन, खजुराहो, नौगांव, खंडवा आदि शहरों में दिन का पारा सामान्य से 5 से 7 डिग्री तक नीचे रहा, जिसके कारण कोल्ड डे की स्थिति बनी। इंदौर, उज्जैन और रतलाम में जिला प्रशासन ने सोमवार को स्कूलों की छुट्‌टी कर दी। इस सीजन में यह ठंड का चौथा दौर है। 

शीतलहर की चेतावनी :  मध्यप्रदेश में लगातार तीन दिनों से पड़ रही कड़ाके की ठंड के बीच आज भी ज्यादातर हिस्सों में ठंड से राहत की उम्मीद नहीं है। मौसम विभाग ने आज आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर शीतलहर चलने की चेतावनी दी है।
 
प्रदेश में कई स्थानों पर हल्की बारिश और ओला गिरने के बाद अब आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर शीतलहर चलने की संभावना है। राज्य के पूर्वी और पश्चिमी हिस्से में आने वाले अधिकांश स्थानों पर दोनों ही तापमान में गिरावट आने से ठंड और बढ़ गई है।
 
मौसम वैज्ञानिकों ने बताया कि मौसम का रुख अभी बदलने की उम्मीद नहीं है। आगामी दो दिन तक यही स्थिति बनी रह सकती है। राज्य के नरसिंहपुर, खजुराहो, सागर, टीकमगढ़, दमोह, इंदौर, धार, शाजापुर और श्योपुर में कड़ाके की ठंड का असर अभी बना रहेगा।
 
इसके अलावा राजधानी भोपाल सहित नौगांव, बैतूल, राजगढ़, खंडवा, रतलाम व उज्जैन में भी ठंड से राहत मिलने की उम्मीद नही है। स्थानीय मौसम विज्ञान केन्द्र के अनुसार आज प्रदेश के ग्वालियर, चंबल, सागर, उज्जैन, व इंदौर संभागों के जिलों में कहीं-कहीं शीतलहर चलने की आशंका है। 
 
इसके अलावा ग्वालियर, चंबल, सागर, भोपाल, उज्जैन और इंदौर संभागों के जिलों में कुछ स्थानों पर ठंड का प्रभाव दूसरे स्थानों की तुलना ज्यादा रहेगा। वैज्ञानिकों ने आशंका व्यक्त की है कि ग्वालियर, चंबल, सागर संभागों के जिलों में कहीं-कहीं पाला पड़ने की उम्मीद है।
 
जम्मू एवं कश्मीर में अगले तीन दिनों तक मौसम शुष्क रहने के आसार : जम्मू एवं कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां न्यूनतम तापमान शून्य से 28.7 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। राज्य में न्यूनतम तापमान में और गिरावट आने की संभावना है और मौसम अगले तीन दिनों तक शुष्क रहने के आसार हैं। लाहौल स्पीति के केलांग में पारा जनवरी में 10 साल बाद सबसे कम माइनस 17 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। बर्फबारी से मैदानी इलाकों में ठिठुरन बढ़ गई है।

हिमाचल प्रदेश में 350 से ज्यादा सड़कें बंद हैं। लाहौल स्पीति के केलॉन्ग में पारा जनवरी में 10 साल बाद सबसे कम माइनस 17 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। लद्दाख का द्रास देश में सबसे ठंडा रहा। यहां सबसे कम तापमान माइनस 28.7 रिकॉर्ड किया गया।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख हार्दिक पटेल ने रचाई शादी, बचपन की दोस्त के साथ लिए सात फेरे