Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

पांच भाषाएं बोलती हैं ‘नवनीत राणा’, राजनीति में एंट्री से पहले थीं तेलुगू एक्‍ट्रेस, शि‍वसेना पर आरोप से आई सुर्खि‍यों में

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share

नवीन रांगियाल

मंगलवार, 23 मार्च 2021 (14:13 IST)
कई भाषाओं की जानकार, फिल्‍मों एक्‍ट्रेस और मॉडलिंग के बाद राजनीति में की एंट्री। निर्दलीय चुनाव लड़ीं और सामुहिक विवाह समारोह में शादी करने वाली नवनीत कौर राणा एक बार फि‍र से शि‍वसेना पर आरोप लगाकर सुर्खि‍यों में हैं।

महाराष्‍ट्र की नि‍र्दलीय राजनीति में राणा एक उभरता हुआ चेहरा है, अमरावती क्षेत्र में उनके पति रवि राणा की अच्‍छी पक मानी जाती है। खूबसूरत चेहरा और कई भाषाओं की जानकार राणा महिलाओं में काफी लोकप्र‍िय हैं।

अमरावती की सांसद नवनीत कौर ने शिवसेना के सांसद अरविंद सावंत पर धमकी देने का आरोप लगाया है। नवनीत ने कहा कि उन्‍होंने संसद में सचिन वजे का मामला उठाया था जिससे शि‍वसेना के अरविंद सावंत नाराज हो गया और उन्‍हें महाराष्‍ट्र में घूमने पर धमकी दे डाली। नवनीत पहले भी आरोप लगाती रही हैं कि शिवसेना के खिलाफ संसद में बोलने पर उन्‍हें धमकी भरे पत्र मिले हैं।

नवनीत राणा दो दिनों से अपने इस मामले को लेकर सुर्खि‍यों में हैं। आइए जानते हैं आखि‍र कौन हैं नवनीत राणा और क्‍या रहा है उनका फि‍ल्‍मी और राजनीतिक सफर।

नवनीत कौर का जन्‍म मुंबई में हुआ है। 12वीं के बाद उन्‍होंने पढ़ाई छोड़ मॉडलिंग शुरू कर दी थी। राजनीति में आने से पहले वे एक्‍ट्रेस थीं और तेलुगू फिल्‍मों के अलावा कन्‍नड़, मलयालम और पंजाबी फिल्‍मों में काम कर चुकी हैं। नवनीत कौर मराठी, पंजाबी, तेलुगू, हिंदी और अंग्रेजी बोल लेती हैं।

साल 2011 में उन्‍होंने अमरावती के बड़नेरा विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय एमएलए रवि राणा से शादी की। इस शादी के बाद वे नवनीत कौर से नवनीत राणा हो गईं। उस समय इस शादी की महाराष्‍ट्र में काफी चर्चा थी, क्‍योंकि उनके साथ करीब 3 हजार 720 जोड़ों ने एक सामूहिक विवाह समारोह में शादी की थी। जिसमें तत्‍कालीन सीएम पृथ्‍वीराज चव्हाण और बाबा रामदेव भी बतौर अतिथि मौजूद थे।

शादी के बाद नवनीत कौर ने राजनीति का रुख किया और साल 2014 में उन्‍होंने एनसीपी के टिकट पर चुनाव लड़ा, लेकिन वह हार गईं। साल 2019 में निर्दलीय प्रत्‍याशी के तौर पर चुनाव लड़ा। उन्‍हें कांग्रेस और एनसीपी का सपोर्ट मिला और वह अमरावती से सांसद के रूप में चुन ली गईं। नवनीत ने शिवसेना के दिग्‍गज नेता आनंदराव अडसुल को हराया था।

नवनीत कौर पिछले साल मार्च के महीने में ही चर्चा में आई थीं, जब वे मास्‍क लगाकर संसद पहुंची थीं। उन्‍होंने इस संक्रमण काल में मास्‍क लगाने और स्‍क्र‍ि‍निंग कराने पर जोर दिया था।

हालांकि इसके पहले इसी साल फरवरी में नवनीत ने शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके घर पर धमकी भरा पत्र छोड़ा गया है। पत्र में उन्‍हें संसद में शिवसेना के खिलाफ बोलने पर धमकी देने और इसके लिए गंभीर परिणाम भुगतने की बात की गई थी। पुलिस ने मामले में राणा के कहने पर थाने में शिकायत दर्ज की थी। नवनीत का आरोप था कि शिवसेना नेता संजय राउत और शिवसेना के पूर्व सांसद आनंदराव अडसुल ने यह पत्र भिजवाया है।

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
राम मंदिर समर्पण निधि के लिए 5.5 लाख गांवों के 12.50 करोड़ परिवारों तक पहुंचा संघ