अभिनंदन की जांबाजी की कहानी, जानिए 10 बड़ी बातें...

शुक्रवार, 1 मार्च 2019 (13:02 IST)
भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान की जांबाजी का पूरा देश कायल हो गया है। यदि वे मिग-21 से यह बहादुरी का कारनामा नहीं कर दिखाते तो भारतीय सेना को बहुत बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता था। आइए, 10 पॉइंट में जानते हैं इस भारतीय हीरो के साहस की कहानी...
 
 
1. नौशेरा सेक्टर जब 27 फरवरी 2019 बुधवार को पाकिस्तान के लड़ाकू विमान घुसे तो उस समय पेट्रोलिंग कर रहे भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान ने तुरंत एक्शन लिया और शत्रु विमानों को अपने मिग 21 विमान से खदेड़ने निकल पड़े। उन्होंने इसकी भी परवाह नहीं की कि उनके मुकाबला एफ16 विमानों से है जो कि मिग 21 से कहीं ज्यादा उन्नत हैं।
 
 
2. उन्होंने दोनों विमानों का पीछा किया और पाकिस्तान का एक लड़ाकू विमान मार गिराया। यह लड़ाकू विमान पीओके में जाकर गिरा जबकि इसमें उपयोग होने वाली मिसाइल के कुछ टुकड़े भारतीय क्षेत्र में गिरे। इन्हीं टुकड़ों को को भारतीय सेना ने गुरुवार की प्रेस कॉन्फ्रेंस में सबूत के तौर पर दिखाया था।
 
 
3. विंग कमांडर नहीं रुके उन्होंने दूसरे विमान का भी पीछे किया और उन्हें पता ही नहीं चला कि वे सीमा पार कर गए है। तभी उनका विमान क्रैश हो गया। इसके बाद अभिनंदन पैराशूट के साथ विमान से कूद गए। कूदने के बाद वे पीओके के एक गांव होर्रान के तालाब के पास उतरे। यह गांव भिंबर जिले में आता है।
 
 
4. गांव वालों ने विमान का मलबा गिरता देखा और पैराशूट से सुरक्षित उतरते हुए पायलट को भी देख लिया। गांव वालों ने उन्हें घेर लिया। अभिनंदन ने पूछा कि 'ये भारत है या पाकिस्तान'। इस पर एक पाकिस्तानी लड़के ने झूठ बोलते हुए जवाब दिया कि ये भारत है। इसके बाद पायलट ने भारत माता की जय के नारे लगाए, इसके जवाब में गांव के लोगों ने 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे लगाए तो उन्हें समझते देर नहीं लगी कि वे पाकिस्तान की सीमा में हैं। 
 
 
5. भारतीय पायलट ने कहा कि उनकी पीठ में चोट लगी है और उन्होंने पीने के लिए पानी मांगा। भारत माता की जय के नारों से नाराज गांव के लड़कों ने हाथ में पत्थर उठा लिए। यह देखते ही अभिनंदन ने लड़कों को डराने के लिए हवा में गोलियां चलाईं। 
 
 
5. विंग कमांडर पिस्तौल का निशाना नौजवानों पर लगाए हुए वहां से पीछे की ओर आधा किलोमीटर भागे। गांव के लड़के भी उनके पीछे भागे। आधा किलोमीटर भागने के बाद उन्होंने एक तालाब में छलांग लगा दी। 
 
 
6. मीडिया खबरों के अनुसार वहां पर विंग कमांडर अपने पास मौजूद कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों को पानी में डाल  दिया और कुछ को वे चबा गए। लेकिन, इसी दौरना गांव के लड़कों ने पायलट को पकड़ लिया। उन्होंने उनको लात-घूंसे मारे घूसे मारे जबकि कुछ लोगों ने उन्हें बचाने की भी कोशिश की। पिटाई की वजह से उन्हें काफी चोटें आईं और उनका मुंह खून से रंग गया।
 
 
7. इसी बीच, पाकिस्तानी सेना के लोग भी पहुंचे और विंग कमांडर अभिनंदन को अपनी हिरासत में ले लिया। हिरासत में लेने के बाद विंग कमांडर को भिंबर की सैन्य इकाई में ले जाया गया, जहां उनसे प्रारंभिक तौर पर पूछताछ की गई। पाकिस्तानी सेना ने उनसे जो भी पूछा उसका वीडियो वायरल हो गए जिसमें वे पूर्णत: निर्भीक होकर जवाब दे रहे थे। उन्होंने कुछ सवालों के तो जवाब दिए, लेकिन कुछ सवालों के जवाब देने से उन्होंने स्पष्ट इंकार कर दिया। 
 
 
8. बाद में उन्हें मुजफ्फराबाद ले जाया गया। वहां उन्हें चाय पिलाई गई और फिर से वही सवाल पूछे लेकिन उन्होंने फिर से वही जवाब दिए और जिन सवालों के जवाब वे नहीं देना चाहते थे, उससे इनकार कर दिया। खास बात यह थी कि इस दौरान उन्हें विश्वास था कि वे रिहा होकर पुन: भारत लौट जाएंगे। इसीलिए उन्होंने पाकिस्तानी सैनिकों से यह भी कहा था कि आपने मेरे साथ अच्छा सलूक किया, यह बात में हिन्दुस्तान में जाकर भी बताऊंगा।
 
 
9. बुधवार 27 फरवरी को गिरफ्तार होने के बाद भारतीय कूटनीति और दबाव के चलते पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अपनी संसद में यह घोषणा करना पड़ी की हम भारतीय पायलट को शुक्रवार को रिहा कर देंगे।
 
 
10. आज शुक्रवार 1 मार्च को वाघा बॉर्डर पर अभिनंदन का अभिनंदन करने के लिए पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, वायुसेना के वरिष्ठ अधिकारी, अभिनंदन के माता पिता और समूचा देश खड़ा है।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख अभिनंदन के ‘महा अभिनंदन' के लिए वाघा सीमा पर उमड़ा हिंदुस्तान