Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

वैशाख पूर्णिमा : जानिए आज किन 5 देवताओं की पूजा करें

हमें फॉलो करें webdunia
gods worship
पौराणिक शास्त्रों में पूर्णिमा तिथि का बहुत अधिक महत्व माना गया है। वैशाख पूर्णिमा के दिन ही भगवान श्री विष्णु के नौवें अवतार भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था। इस दिन को बुद्ध पूर्णिमा या बुद्ध जयंती के नाम से भी जाना जाता है। हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि को बेहद ही शुभ माना जाता है। इस दिन स्नान-दान का भी बहुत अधिक महत्व होता है। 
 
पूर्णिमा के दिन श्री हरि विष्णु, धन की देवी माता लक्ष्मी, चंद्र देव, भोलेनाथ और श्री कृष्ण की आराधना करने का विशेष महत्व है। पूर्णिमा के दिन चंद्र की शुभ्र किरणें जब आपके घर के आंगन में बिखरेंगी तब खुशियां बरसेगी और मिलेगा सभी देवताओं का शुभ आशीष। आइए जानें मंत्र-
 
1. पूर्णिमा की रात मां लक्ष्मी को मनाने का मंत्र- 
 
ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः
 
2.  विष्णु मंत्र-
 
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
 
3. पूर्णिमा पर भगवान शिव की इस मंत्र से पूजा करें-
 
शिवलिंग का जल स्नान कराने के बाद पंचोपचार पूजा यानी सफेद चंदन, अक्षत, बिल्वपत्र, आंकडे के फूल व मिठाई का भोग लगाकर इस आसान शिव मंत्र का ध्यान कर जीवन में शुभ-लाभ की कामना करें। 
 
यह शिव मंत्र मृत्यु भय, दरिद्रता व हानि से रक्षा करने वाला माना गया है- 
 
पंचवक्त्र: कराग्रै: स्वैर्दशभिश्चैव धारयन्।
अभयं प्रसादं शक्तिं शूलं खट्वाङ्गमीश्वर:।।
दक्षै: करैर्वामकैश्च भुजंग चाक्षसूत्रकम्।
डमरुकं नीलोत्पलं बीजपूरकमुक्तमम्।। 
 
4. गोपीकृष्ण मंत्र-  
 
कहते हैं पूर्णिमा की रात भगवान श्री कृष्ण ने गोपियों संग रास रचाया था। इसमें हर गोपी के साथ एक कृष्ण नाच रहे थे। गोपियों को लगता रहा कि कान्हा बस उनके साथ ही थिरक रहे हैं। अत: इस रात गोपीकृष्ण मंत्र का पाठ करने का महत्व है। 
 
ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं श्रीकृष्णाय गोविंदाय गोपीजन वल्लभाय श्रीं श्रीं श्री' 
 
5. पूर्णिमा की रात मिलेगी चंद्र देव की कृपा
 
ॐ चं चंद्रमस्यै नम: 
दधिशंखतुषाराभं क्षीरोदार्णव सम्भवम ।
नमामि शशिनं सोमं शंभोर्मुकुट भूषणं ।। 
 
पूर्णिमा की रात इन सबके अलावा आप खास तौर पर कुबेर मंत्र का भी जाप करके उन्हें प्रसन्न कर सकते हैं। 
 
ॐ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन धान्याधिपतये 
धन धान्य समृद्धिं मे देहि दापय स्वाहा।। 


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

लाल किताब : यदि आपने किया है यह कार्य तो निर्दयता का ऋण करेगा आपका पीछा