रक्षाबंधन पर निबंध

नम्रता जायसवाल
भारत त्योहारों का देश है और इसके प्रमुख त्योहारों में से एक है रक्षाबंधन। इस दिन सभी बहनेंं अपने भाइयों को राखी बांधती हैं, चाहे उनका भाई उनसे उम्र में छोटा हो या बड़ा। इस दिन सभी उम्र के  भाई अपनी बहनों से राखी बंधवाने के बाद उन्हें वचन देते हैं कि वे हर परिस्थिति में उनकी रक्षा करेंगे।
 
हर साल रक्षाबंधन के त्योहार का सभी बहनों को बेसब्री से इंतजार रहता है। इस दिन भाई जहां कहीं भी हो, वे अपनी बहन से मिलने और उनसे राखी बंधवाने उनके पास पहुंच ही जाते हैं। मौका और भी खास हो जाता यदि बहन की शादी हो चुकी हो और वह दूसरे किसी शहर में रहती हो। ऐसे में तो इस त्योहार का इंतज़ार महीनों पहले से ही शुरू हो जाता है। कई दिनों पहले से बहन को ससुराल से मायके लाने की तारीख निश्चित कर ली जाती है।
 
बच्चे भी राखी के त्योहार के लिए बहुत उत्साहित रहते हैं। यह दिन भाई-बहन के बीच प्रेम के अटूट रिश्ते को दर्शाता है। इस दिन सभी बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती हैं, उन्हें मिठाई खिलाकर उनका मुंह मीठा करती हैं और अपनी रक्षा का वचन लेती हैं। राखी बांधने से पहले उनकी आरती उतारने के लिए सुंदर सी थाली सजाती हैं। भाई भी राखी बंधवाने के बाद अपनी बहनों को वचन देने के साथ ही कोई तोहफा व लिफाफा भी देते हैं। इसी तरह हंसी-ठिठोली के बीच परिवार के सभी सदस्य साथ बैठकर राखी के त्योहार को मनाते हैं।

ALSO READ: स्वतंत्रता दिवस 2018 पर निबंध: आइए मनाएं आजादी का 72वां साल

गरुड़ पुराण की बस 1 बात ध्यान में रख ली तो धन बरसेगा, सौभाग्य चमकेगा

देवप्रबोधिनी एकादशी : जरुर करें इस दिन ये 11 काम, जीवन के सारे सपने होंगे आसान

कैसे पहचानें कि दैवीय शक्ति आपकी मदद कर रही है, जानिए 11 संकेत

जो लोग अकेले रहने का दम रखते हैं, ये 9 गुण केवल उन्हीं में हो सकते हैं

अक्षय कुमार की फिल्म 'लक्ष्मी' से हाथ जले, अब फिल्म देख कर ही सौदा

सम्बंधित जानकारी

देवउठनी एकादशी व्रत करने के 10 फायदे

देवउठनी एकादशी विशेष : नमो नमो तुलसी महारानी, इस मधुर स्तुति से करें Tulsi पूजन

देवउठनी एकादशी पर पढ़ें श्री तुलसी चालीसा, मिलेगा सेहत और सौभाग्य का वरदान

श्री तुलसी जी की आरती : जय जय तुलसी माता, सब जग की सुख दाता

विवाह योग 2020 : इस बार देवउठनी एकादशी के बाद भी कम हैं शादी के मुहूर्त

25 नवंबर 2020 : आपका जन्मदिन

25 नवंबर 2020, बुधवार के शुभ मुहूर्त

महाभारत में पराशर ऋषि के पिता को जब खा गया एक राक्षस, पढ़िये पौराणिक कथा

देव दिवाली पर करें ये 10 कार्य, वर्षभर रहेंगे खुशहाल

देवउठनी एकादशी पर किस दिशा में बनाएं कौन सी रंगोली, जानिए धार्मिक लाभ

अगला लेख