कानपुर एनकाउंटर, एडीजी प्रशांत कुमार ने निरीक्षण कर कहा- होगी सख्त से सख्त कार्रवाई

अवनीश कुमार

शुक्रवार, 3 जुलाई 2020 (10:10 IST)
कानपुर। उत्तरप्रदेश के कानपुर में थाना चौबेपुर के अंतर्गत हिस्ट्रीशीटर बदमाश व पुलिस के बीच हुई मुठभेड़ में शहीद हुए पुलिसकर्मियों की जानकारी के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कड़े निर्देश के चलते घटनास्थल पर पहुंचे एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने घटनास्थल का निरीक्षण कर पुलिसकर्मियों के साथ-साथ गांव वालों से भी बातचीत कर घटना की जानकारी ली।
ALSO READ: कानपुर एनकाउंटर में 8 पुलिसकर्मी शहीद, सीएम योगी सख्त, अधिकारियों को दिए निर्देश
फिर पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि थाना चौबेपुर के अंतर्गत बिकरू गांव में हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे को दबिश देकर गिरफ्तार करने के लिए पुलिस की टीम पहुंची थी। इस दौरान हिस्ट्रीशीटर बदमाश के साथियों ने पुलिस पर हमला कर दिया जिसमें हमारे 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए हैं।
 
उन्होंने कहा कि एसटीएफ के साथ कई टीमें लगी हैं। हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे को खोजा जा रहा है जिसके चलते कानपुर शहर के साथ ही देहात तथा पास के जिलों में लगातार छापा मारा जा रहा है और बॉर्डर सील करने के साथ हर वाहन की चेकिंग की जा रही है और हर हाल में हिस्ट्रीशीटर बदमाश व उसके साथियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।
ALSO READ: कानपुर में हिस्ट्रीशीटर बदमाश को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला, सीओ समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद
पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि घटना में कहां चूक हुई है, इसकी भी जांच कराई जा रही है और वहीं पुलिस की दबिश की सूचना बदमाशों तक कैसे पहुंची, इसकी भी जांच कराई जा रही है। जांच में अगर कोई दोषी पाया जाता है तो उसके ऊपर सख्त से सख्त कार्रवाई होगी। उन्होंने स्पष्ट कहा कि घटना की उच्चस्तरीय जांच होगी।
 
बताते चलें कि चौबेपुर के बिकरू गांव में हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे को गुरुवार आधी रात को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया था। घरों की छत से पुलिस पर गोलियां बरसाई गईं जिसमें सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा समेत 3 सब इंस्पेक्टर और 4 सिपाही शहीद हो गए। हमले में 7 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं जिन्हें कानपुर नगर के रीजेंसी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायलों में एक पुलिसकर्मी की हालत गंभीर बनी हुई है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख सिंधिया के ‘टाइगर अभी जिंदा है’ पर दिग्विजय का जवाब, मैंने शेर का शिकार किया है !