Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

भाजपा सरकार के रहते उत्तर प्रदेश कभी 'उत्तम प्रदेश' नहीं बन पाएगा : अखिलेश यादव

हमें फॉलो करें webdunia

अवनीश कुमार

शनिवार, 6 मार्च 2021 (21:20 IST)
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में बातचीत करते हुए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार के रहते उत्तर प्रदेश कभी 'उत्तम प्रदेश' नहीं बन पाएगा और न ही नागरिकों में सुरक्षा का भाव रहेगा।

कानून व्यवस्था पर लम्बे-लम्बे भाषण देने वाले मुख्यमंत्री खुद अपने प्रदेश को सम्हालने में विफल रहे हैं। वे दूसरे प्रदेशों में जाकर अनर्गल प्रलाप कर रहे हैं। उनके मुख्यमंत्री रहते प्रदेश बदनामी और बदहाली से उबर नहीं पाएगा।चारों तरफ जंगलराज है।राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते प्रशासन तंत्र पूर्णतया निष्क्रिय हो चला है।

कानून व्यवस्था की दशा तो यह है कि विधान भवन के सामने ही एक दारोगा ने खुद को गोली मार ली। लोक भवन के सामने आत्मदाह का प्रयास करने वालों की भी संख्या कम नहीं रही है। सम्भल में दुष्कर्म पीडि़ता को लगातार मिल रही धमकी, न्याय न मिलने के चलते खुदकुशी की घटना दुःखद है, साथ ही अत्याचार की सभी हदें पार होने का नमूना भी।

प्रदेश में महिलाओं और बच्चियों के खिलाफ बढ़ते अपराधों पर कोई नियंत्रण नहीं है। रोज बहन-बेटी की अस्मत लूटी जा रही है। समाजवादी पार्टी की सरकार ने अपराध नियंत्रण के लिए यूपी डायल 100 तथा 1090 जैसी योजनाएं बनाई थीं।

भाजपा सरकार ने इन योजनाओं पर भी पानी फेर दिया है और अब वह पिंक बूथ, नारी शक्ति जैसे टोटकों से लोगों को बहकाने में लगी है।गम्भीर मामलों में भी पुलिस का ढुलमुल रवैया, रफादफा करने में ही रहता है।कहां है मिशन शक्ति? कहां है एन्टी रोमियों स्क्वायड?फरियादी को टरकाते रहेंगे फिर कैसे मिलेगा न्याय और कैसे रूकेगा अपराध?

अपराधियों के आगे नतमस्तक और आम नागरिकों पर वर्दी का रौब।जनता ने इसीलिए ठान लिया है कि वह 2022 के विधानसभा चुनाओं में मतदान के जरिए वर्तमान भाजपा सरकार के कुशासन को समाप्त करने के लिए साइकल को ही रफ्तार देगी।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

यूरोप में Corona का कहर, एक सप्ताह आए 10 लाख मामले