Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

MTNL इमारत में भीषण आग, दमकल विभाग ने सभी 84 लोगों को सुरक्षित बचाया

webdunia
सोमवार, 22 जुलाई 2019 (22:25 IST)
मुंबई। मुंबई में सोमवार को एक टेलीफोन एक्सचेंज इमारत में आग लग गई। इमारत की छत पर हवाई सीढ़ी की मदद से यहां फंसे सभी 84 लोगों को बाहर निकाला गया है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। वहीं 25 वर्षीय एक दमकलकर्मी सागर साल्वे अभियान के दौरान धुएं की चपेट में आ गए। इसके बाद उन्हें भाभा अस्पताल में भर्ती किया गया। उनकी हालत स्थित है और खतरे से बाहर है।
 
अधिकारी ने बताया कि ऐसी आशंका है कि आग से प्रभावित तीसरी, चौथी, पांचवीं और अन्य मंजिलों पर लोग फंसे हुए हो सकते हैं और उन्हें बाहर निकालने के लिए तलाश जारी है। यह इमारत उपनगरीय बांद्रा इलाके में स्थित है।
 
इससे 1 दिन पहले ही दक्षिणी मुंबई में स्थित प्रसिद्ध ताजमहल पैलेस होटल के पीछे स्थित एक चार मंजिला आवासीय इमारत में आग लग गई थी। इसमें 1 व्यक्ति की मौत हो गई और 2 अन्य घायल हो गए।
 
एक अधिकारी ने बताया कि अग्निशमनकर्मी इमारत में ऑक्सीजन मास्क और सर्चलाइट से लैस होकर घुसे हैं। पहली बार एक नए तरह का रोबोट रोबोफायर का इस्तेमाल आग पर काबू पाने के अभियान में किया गया। उपनगरीय बांद्रा में स्थित एमटीएनएल की इमारत में दोपहर 3 बजे आग लग गई थी। सुरक्षित बाहर निकाले गए लोगों ने बताया कि कामकाज का दिन होने की वजह से ज्यादा लोग इमारत में थे। इनमें से ज्यादातर एमटीएनएल के कर्मचारी ही थे।
webdunia
 
 
अधिकारी ने बताया कि आग तीसरी और चौथी मंजिल से शुरू हुई थी जिसके बाद लोग घबराई हुई स्थिति में इमारत से बाहर निकलने की कोशिश में लग गए थे। वहीं जो लोग ऊपरी मंजिल पर थे, वे खुद को बचाने के लिए छत पर पहुंच गए। इसके बाद छत पर फंसे सभी 84 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया।
 
उन्होंने बताया कि दमकल के 14 वाहनों, एक रोबोफायर, एक एम्बुलेंस, एक हवाई सीढ़ी समेत अन्य उपकरण आग को बुझाने और लोगों को बाहर निकालने के काम में लगाए गए। अधिकारी ने बताया कि हवा तेज होने और धुएं की मोटी चादर होने से अग्निशमनकर्मियों को आग पर काबू पाने में चुनौतियों का सामना करना पड़ा। आग की वजह से निकट की इमारत भी प्रभावित हुई। हालांकि आग लगने के पीछे का वास्तविक पता अभी तक नहीं चला है।
 
पिछले 1 दशक में मुंबई में आग से जुड़ी 49,000 घटनाएं हो चुकी हैं और 600 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। महाराष्ट्र सरकार ने विधानसभा में 2018 में यह जानकारी दी थी। (भाषा) (चित्र : मुंबई से गिरीश श्रीवास्तव) 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

सीओए पर भड़के जम्मू कश्मीर के पूर्व क्रिकेटर, कहा- लोढ़ा समिति की सिफारिशें जल्द लागू करें