नीमच में फैल रहा है अवैध वायदा कारोबार, कड़ी कार्रवाई की मांग

एमपी के राजस्थान से लगा नीमच जिला अफीम और ड्रग्स के काले कारोबार के बाद अब अवैध वायदा कारोबार के लिए भी कुख्यात होता जा रहा है। इस मामले की गंभीरता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि यह अवैध डिब्बा कारोबारियों ने विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा प्रत्याशी और तीसरी बार विधायक चुने गए दिलीप सिंह परिहार को भी धमकाने का प्रयास किया। सबसे गंभीर बात यह है कि अवैध वायदा कारोबार माफियाओं के डोडा चूरा गैंगस्टर्स के साथ सम्पर्क ने इस इलाके में बड़ी क़ानून और व्यवस्था की स्थिति पैदा कर दी है।


हालात की गंभीरता का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि नीमच विधायक दिलीप सिंह परिहार को कहना पड़ा कि यदि पुलिस प्रशासन इस पूरे मामले में गंभीरता से एक्शन नहीं लेता है तो मैं यह मामला विधानसभा मेँ उठाऊंगा। अवैध वायदा कारोबार यानी सेबी के समानांतर व्यवस्था, जिसमें नीमच जिले में दर्जनभर गैंग सक्रिय हैं। इस वायदा कारोबार को आम बोलचाल में डिब्बा व्यापार कहते हैं। सेबी इस कारोबार के लिए लाइसेंस देती है लेकिन यह डिब्बा माफिया सेबी के समानांतर अपनी व्यवस्था चलाते हैं और निजी तौर पर सौदे उतारते हैं।

आरटीआई कार्यकर्ता एडवोकेट अमित शर्मा का कहना है कि इस अवैध डिब्बा कारोबार के मकड़जाल में नीमच जिले के हज़ारो नौजवान फंसे हैं। ये नौजवान जल्दी अमीर बनने की कोशिश में रोज़ दांव लगाते हैं, लेकिन कभी कुछ हासिल नहीं होता और कर्ज़े में डूब जाते हैं। इस काले कारोबार ने कई युवाओं की जान ले ली है लेकिन पुलिस इन डिब्बा माफियाओं पर आज तक शिकंजा नहीं कस पाई।

आम आदमी पार्टी के जिला संयोजक अशोक सागर का कहना है कि इन डिब्बा माफियाओं ने अकूत धन कमा लिया है और अब ये अपना रुपया जमीनों और डोडा चूरा के धंधे में लगा रहे हैं, ताकि इनके पास मसल्स पॉवर रहे जिसके चलते पूरे अंचल में क़ानून और व्यवस्था के हालात पैदा हो गए हैं। इस पूरे मामले में पुलिस कुछ भी बोलने से बच रही है।

जब हमने नीमच के विधायक दिलीप सिंह परिहार से बात की तो उन्होंने चौंकाने वाला खुलासा किया और कहा कि ये अवैध वायदा कारोबारियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि चलते चुनाव में इन्होंने उन्हें भी धमकाने की कोशिश की उन्होंने इन डिब्बा माफियाओं के नाम भी बताए। उन्होंने कहा कि ये डिब्बा माफिया वो हैं जो राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में लगे हैं। इनको मुझसे ख़तरा नज़र आता है लेकिन जनता के आशीर्वाद से मैं चुनाव जीत चुका हूं और अब ऐसी ताकतों के खिलाफ लड़ाई लड़ूंगा ये हज़ारों बेरोजगार युवाओं को फंसाने का काम कर रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि नीमच जिले की पुलिस दमदारी से इन डिब्बा माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई करे अन्यथा मैं इस पूरे मामले को विधानसभा में उठाऊंगा। नीमच के सीएसपी नरेंद्र सिंह सोलंकी से जब इस बारे में बात की तो उनका कहना था कि अवैध वायदा कारोबार के मामले में यदि कोई सूचना पुलिस को मिलेगी तो पुलिस कड़ी कार्रवाई करेगी। क़ानून से खिलवाड़ की इज़ाज़त किसी को नहीं दी जा सकती। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख राफेल पर अरुण जेटली का कांग्रेस पर हमला, झूठ बोलने वालों की हार हुई