जम्मू में लगा ‘दरबार’, राज्यपाल बोले- आतंकी पंचायत चुनावों में खलल नहीं डाल पाएंगे

जम्मू। शीतकालीन राजधानी जम्मू में सोमवार से सरकार का ‘दरबार’ लग गया है। इस मौके पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बताया कि किश्तवाड़ में भाजपा नेता को मारने वाले आतंकवादियों की पहचान कर ली गई है। उन्होंने कहा कि निगम चुनाव आसानी से पूरा हो जाने को लेकर आतंकवादी निराश थे।
 
सुरक्षाबलों का मनोबल काफी ऊंचा है, उनका कहना है कि आतंकवादी पंचायत चुनाव में भी किसी तरह की गड़बड़ी नहीं कर पाएंगे। इस बीच आतंकियों ने डोडा में पोस्टरों से लोगों को पंचायत चुनाव से दूर रहने की चेतावनी दी है।
 
सोमवार से नागरिक सचिवालय, राजभवन समेत पुलिस मुख्यालय, हाईकोर्ट, आयोगों के कार्यालय अगले 6 महीनों तक जम्मू से काम करेंगे। दरबार मूव की परंपरा के तहत छह महीने के लिए जम्मू ही रियासत की राजधानी रहेगी। रियासत में राज्यपाल शासन लागू होने के चलते नागरिक सचिवालय में राज्यपाल सत्यपाल मलिक का गार्ड ऑफ ऑनर से स्वागत किया गया। इसके बाद राज्यपाल  ने सचिवालय की विभिन्न सेक्शनों का दौरा कर अधिकारियों व मुलाजिमों के लिए उपलब्ध करवाई गईं सुविधाओं का जायजा लिया।
 
जम्मू कश्मीर में पंचायत चुनाव की सरगर्मियों के बीच आतंकियों ने जम्मू के किश्तवाड़ जिले में गुरुवार रात भाजपा के राज्य सचिव अनिल परिहार व उनके भाई अजीत परिहार की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी थी। किश्तवाड़ में भाजपा नेता को मारने वाले आतंकवादियों की पहचान की गई है। इस हमले के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह सहित कई लोगों ने कड़ी निंदा की थी। उमर अब्दुल्ला ने इसे दुखद करार देते हुए परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की थी। एक दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है। 
 
जानकारी हो कि भाजपा के प्रदेश सचिव व उनके भाई की हत्या के मामले में आतंकियों की धरपकड़ के लिए गठित सीट ने कई इलाकों में छापेमारी की। एक दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की है। इसके अलावा अनिल परिहार की दुकान पर काम करने वाले दोनों नौकरों से भी पूछताछ की है। पुलिस अधिकारी जांच को लेकर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।
 
सीट ने घटनास्थल को अच्छी तरह से खंगालकर सबूत जुटाने का प्रयास किया था। इसके अलावा तापल गली के आसपास के इलाके में लोगों से पूछताछ की गई थी। रविवार को जांच को आगे बढ़ाते हुए पुलिस ने किश्तवाड़ के कई इलाकों में छापेमारी की और एक दर्जन से अधिक लोगों को शक के आधार पर हिरासत में लेकर पूछताछ के लिए पुलिस स्टेशन लाया। पुलिस हिरासत में लिए गए लोगों से पता लगाने का प्रयास कर रही है कि क्या इनको आतंकी हमले के बारे में कोई जानकारी है कि नहीं।
 
अनिल परिहार ने दुकान पर काम करने के लिए दो नौकर रखे थे, जो अनिल परिहार की गतिविधियों की पूरी जानकारी रखते थे। पुलिस इनसे पूछताछ करके भी जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही है। इसके अलावा सीट ने किश्तवाड़ के आसपास के ग्रामीण इलाकों में भी छापेमारी की है। 
 
इस बीच कश्मीर घाटी के बाद अब चिनाब वैली के डोडा जिले में हिजबुल मुजाहिदीन के धमकी भरे पोस्टर चस्पा पाए गए हैं। आतंकी संगठन ने लोगों को पंचायत चुनाव से दूर रहने की चेतावनी दी है। इस मामले में पुलिस ने तत्काल पोस्टर को जब्त करते हुए 13 संदिग्धों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। चिनाब वैली में लगातार आतंकी गतिविधियां बढ़ रही हैं।
 
किश्तवाड़ में पिछले सप्ताह आतंकियों ने भाजपा के राज्य सचिव अनिल परिहार व उनके भाई अजीत परिहार की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जिले के काश्तीगढ़ ब्लाक के धंढाल व गुरमाल इलाके में पोस्टर चस्पा पाए गए। पंचायत चुनाव में खलल डालने संबंधी पोस्टर की सूचना पर सक्रिय पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्थानीय लोगों से पूछताछ की। लोगों में विश्वास बनाए रखने के लिए गश्त तेज कर दी। साथ ही आश्वस्त किया कि पोस्टर चिपकाने वाले जल्द धरे जाएंगे। पोस्टर चस्पा होने की सूचना से ग्रामीणों में दहशत है।  ज्ञात हो कि पंच व सरपंच की 88 सीटों के लिए 232 लोगों ने नामांकन किया है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING