Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मुस्लिम महिला ने रखा करवा चौथ का व्रत, मुस्लिम धर्मगुरु नाराज

webdunia

हिमा अग्रवाल

शुक्रवार, 6 नवंबर 2020 (15:28 IST)
लखनऊ। मुस्लिम महिला ने अपने पति की लंबी आयु के लिए करवाचौथ का व्रत रखा। जिस पर मुस्लिम धर्मगुरु नाराज हो गए और उन्होंने इस्लाम विरोधी बताते हुए तौबा करने की नसीहत दे डाली।
 
देवबंद उलेमा का कहना है कि जो लोग दूसरे धर्म के होते हुए तीसरे धर्म के रिवाज-तौर तरीके अपनाते है, वो ढोंगी होते है, दिखावा करते है। मुस्लिम महिला का करवा चौथ का व्रत रखना दिखावा मात्र है और कुछ नही।
 
लखनऊ के मलीहाबाद में रहने वाली गुलनाज अंजुम ने पति की सहमति से करवा चौथ का व्रत रख लिया। 
गुलनाज ने अपने पति की सलामती और लंबी उम्र की कामना के चलते इस व्रत को रखा। इस मुस्लिम दंपति का मानना है कि हिंदू और मुस्लिम लोगों को प्रेम और भाई चारा बढ़ाने के लिए एक-दूसरे के साथ मिलजुल कर त्योहार मनाना चाहिए। आपसी सौहार्द बढ़ाने के लिए गुलनाज ने अपने पति अंजुम रशीद की सहमति से व्रत रखा।
 
करवा चौथ का व्रत रखने के कारण ये मुस्लिम महिला अब उलेमाओं के निशाने पर आ गई है। सहारनपुर जिले के देवबंद उलेमा नाराज हो गए हैं और उन्होंने इस मुस्लिम महिला को व्रत रखने के गुनाह की माफी मांगने की नसीहत दे डाली है।
 
देवबंद के मुफ़्ती व इत्तेहाद उलेमा ए हिन्द के मुफ़्ती असद कासमी ने कहा कि जो व्यक्ति इस्लाम को जानता और समझता है, वो इस्लाम विरोधी कार्य नही कर सकता। मुसलमान जानते हैं कि इस्लाम क्या है उसके क्या नियम है ये सबको पता है, लेकिन इस्लाम में सिर्फ रोजा रखने की इजाजत है। इसके अलावा यदि कोई मुस्लिम दूसरे धर्म के त्योहार मना रहा है, तो वो उसकी अपनी आजादी है।
 
देवबंद फतवा आन मोबाइल सर्विस के चेयरमैन मुफ्ती अरशद फारूकी का मानना है कि किसी दूसरे धर्म की खास चीजें अपनाने या उनके क्रिया कलापों को करने की इस्लाम इजाजत नहीं देता है। ऐसी इबादत जो दूसरे मजहब से जुड़ाव रखती हो, वह इस्लाम के विरोधी है, यदि कोई ऐसा करता है तो उसे अपने गुनाह गलती के लिए माफी मांगनी चाहिए।
 
वही उलेमा देवबंद मौलाना कारी इसहाक गोरा व अध्यक्ष, जमीयत दावतुल मुस्लिमीन ने कहा कि इस्लाम को जानने वाला दूसरे मजहब के क्रियाकलापों को नही अपनता है। यदि कोई अपने मजहब के अतिरिक्त दूसरे मजहब के त्योहार, व्रत करता है, तो वह मात्र ढोंग और दिखावा करता है। जो लोग करवा चौथ को अपना रहे हैं, उनका मजहबी इस्लाम से ताल्लुक नहीं हो सकता है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

बिडेन के जीतने की उम्मीदों के चलते अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 28 पैसे बढ़कर बंद