Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

यूक्रेन में युद्ध के बीच 'किराए की कोख' से पैदा बच्चों को अपने मां-बाप का इंतजार

हमें फॉलो करें webdunia
रविवार, 20 मार्च 2022 (14:24 IST)
कीव। यूक्रेन की राजधानी कीव में एक बम रोधी आश्रय स्थल में किराए की कोख से जन्मे कम से कम 20 बच्चे अपने विदेशी माता-पिता के युद्धग्रस्त देश में आने और उन्हें ले जाने का इंतजार कर रहे हैं। कुछ दिन पहले जन्मे इन बच्चों की अच्छी देखभाल हो रही है, लेकिन बेसमेंट में रहने के बावजूद उन्हें समय-समय पर होने वाली गोलाबारी की आवाज साफ सुनाई देती है।

सरोगेसी केंद्रों की कई नर्सें भी आश्रय स्थल में ही रह रही हैं, क्योंकि उनके लिए रोजाना घर आना-जाना बहुत खतरनाक है। कीव पर कब्जे की कोशिशों में जुटे रूसी बलों को यूक्रेनी जवान कड़ी टक्कर दे रहे हैं।

51 वर्षीय नर्स ल्युदमिलिया यशेंको ने कहा, हम यहां अपनी और बच्चों की जिंदगी की रक्षा के लिए रह रहे हैं। हम लगातार जारी बमबारी से बचने के लिए यहां सिर छिपा रहे हैं।

यशेंको के मुताबिक, वह ताजा हवा में सांस लेने के लिए कुछ समय के लिए आश्रय स्थल से जरूर निकलती हैं, लेकिन ज्यादा देर तक बाहर रहने की हिम्मत नहीं जुटा पातीं। वह अपने दोनों बेटों की सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं, जो मुल्क की रक्षा के लिए लड़ रहे हैं।

यशेंको ने कहा, हम न के बराबर नींद ले रहे हैं। हम दिन-रात काम कर रहे हैं। यूक्रेन में सरोगेसी उद्योग तेजी से फलफूल रहा है। यह उन चुनिंदा देशों में शामिल है, जो विदेशी जोड़ों के लिए सरोगेसी की सेवा उपलब्ध कराते हैं। देश में किराए की कोख से जन्मे ज्यादातर बच्चों के माता-पिता यूरोप, लातिन अमेरिका और चीन में रहते हैं।

यशेंको ने यह नहीं बताया कि कितने मां-बाप अपने बच्चों को ले जाने आए हैं, कितने बच्चों को अभी भी अपने माता-पिता के  आने का इंतजार है और कितनी सरोगेट मांओं का हाल-फिलहाल में प्रसव होना है।

उन्होंने कहा कि आश्रय स्थल में खाने और बच्चों से जुड़ी सामग्री पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध होने के बावजूद उन्हें इन बच्चों के  माता-पिता के यूक्रेन आकर उन्हें साथ ले जाने का इंतजार है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Corona India Update : देश में कोरोना के 1761 नए मामले, 2 वर्ष में सबसे कम केस