Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

लॉकडाउन के दौरान घर में कैसे करें पूजा आरती, जानिए 4 खास बातें

webdunia

अनिरुद्ध जोशी

सोमवार, 13 अप्रैल 2020 (14:26 IST)
तीज त्योहार पर मंदिरों में पूजा, आरती, हवन, अनुष्ठान आदि धर्म कर्म के कार्य किए जाते हैं, लेकिन लॉकडान के चलते लोगों ने घर में ही नवरात्रि, रामनवमी, हनुमान जयंती आदि मनाई है। आगे आने वाले समस्त दिवस, पर्व और उत्सव सीमित संसाधन के साथ कैसे मनाएं और इस दौरान कैसे करें पूजा आरती जानिए इसकी सामान्य जानकारी।
 
 
घर में वैसे आप नित्य पूजा तो करते ही होंगे। बस उसी पूजा को थोड़ा-बहुत व्यवस्थित तरीके से करना है। जब भी कोई तीज त्योहार आए तो पूजा, आरती आदि करें। हवन करने की जरूरत हो तो ही हवन करें। हवन के लिए किसी पंडित स से ही सलाह लें।
 
 
1. घर में पूजा करने के नियम : घर के ईशान कोण में ही पूजा करें। पूजा के समय हमारा मुंह ईशान, पूर्व या उत्तर में होना चाहिए। पूजा कर उचित मुहूर्त देखें या दोपहर 12 से शाम 4, रात्रि 12 से प्रात: 3 बजे के बीच का समय छोड़कर पूजा करें। पूजन के समय पंचदेव की स्थापना जरूर करें। सूर्यदेव, श्रीगणेश, दुर्गा, शिव और विष्णु को पंचदेव कहा गया है। पूजा के समय सभी एकत्रित होकर पूजा करें। पूजा के दौरान किसी भी प्रकार शोर न करें।

 
2. पूजा सामग्री : पूजा या हवन के लिए सबसे पहले पूजा सामग्री जुटाएं। जैसे- हवन कुंड, काष्ठ, समिधा नवग्रह की नौ समिधा (आक, ढाक, कत्था, चिरचिटा, पीपल, गूलर, जांड, दूब, कुशा) और घी आम या ढाक की सूखी लकड़ी, कूष्माण्ड (पेठा), 15 पान, 15 सुपारी, लौंग 15 जोड़े, छोटी इलायची 15, कमल गट्ठे 15, जायफल 2, मैनफल 2, पीली सरसों, पंच मेवा, सिन्दूर, उड़द मोटा, शहद 50 ग्राम, ऋतु फल 5, केले, नारियल 1, गोला 2, गूगल 10 ग्राम, लाल कपड़ा, चुन्नी, गिलोय, सराईं 5, आम के पत्ते, सरसों का तेल, कपूर, पंचरंग, केसर, लाल चंदन, सफेद चंदन, सितावर, कत्था, भोजपत्र, काली मिर्च, मिश्री, अनारदाना। चावल 1.5 किलो, घी एक किलो, जौ 1.5 किलो, तिल 2 किलो, बूरा तथा सामग्री श्रद्धा के अनुसार। अगर, तगर, नागर मोथा, बालछड़, छाड़छबीला, कपूर कचरी, भोजपत्र, इन्द जौ, सितावर, सफेद चन्दन बराबर मात्रा में थोड़ ही सामग्री में मिलावें।

 
उपरोक्त में से जितना एकत्रित हो सके ठीक है। नहीं हो सके तो हल्दी, कुंकू, चंदन, चावल, तुलसी, दूध, प्रसाद, अगरबत्ती, पांच फल, मिठाई, दीपक, घी, फूल, माला और लाल कपड़ा ही पर्याप्त है। इसके अलावा गंगाजल, शंख, गरुड़ घंटी, शालिग्राम, शिवलिंग और पीतल की गणेश मूर्ति भी रखें। गंगाजल, तुलसी के पत्ते, बिल्वपत्र और कमल, ये चारों किसी भी अवस्था में बासी नहीं माने जाते हैं। इसलिए इनका उपयोग पूजन में कभी भी किया जा सकता है। 

 
3. कैसे करें पूजा : 
1. पूजन में शुद्धता व सात्विकता का विशेष महत्व है, इस दिन प्रात:काल स्नान-ध्यान से निवृत हो भगवान का स्मरण करते हुए भक्त व्रत एवं उपवास का पालन करते हुए भगवान का भजन व पूजन करते हैं।
 
2. नित्य कर्म से निवृत्त होने के बाद अपने ईष्ट देव या जिसका भी पूजन कर रहे हैं उन देव या भगवान की मूर्ति या चि‍त्र को लाल या पीला कपड़ा बिछाकर लकड़ी के पाट पर रखें। मूर्ति को स्नान कराएं और यदि चित्र है तो उसे अच्छे से साफ करें।
 
3. पूजन में देवताओं के सामने धूप, दीप अवश्य जलाना चाहिए। देवताओं के लिए जलाए गए दीपक को स्वयं कभी नहीं बुझाना चाहिए।
 
4. फिर देवताओं के मस्तक पर हलदी कुंकू, चंदन और चावल लगाएं। फिर उन्हें हार और फूल चढ़ाएं। फिर उनकी आरती उतारें। पूजन में अनामिका अंगुली (छोटी उंगली के पास वाली यानी रिंग फिंगर) से गंध (चंदन, कुमकुम, अबीर, गुलाल, हल्दी, मेहंदी) लगाना चाहिए।
 
5. पूजा करने के बाद प्रसाद या नैवेद्य (भोग) चढ़ाएं। ध्यान रखें कि नमक, मिर्च और तेल का प्रयोग नैवेद्य में नहीं किया जाता है। प्रत्येक पकवान पर तुलसी का एक पत्ता रखा जाता है।
 
6.अंत में आरती करें। जिस भी देवी या देवता के तीज त्योहार पर या नित्य उनकी पूजा की जा रही है तो अंत में उनकी आरती करने नैवेद्य चढ़ाकर पूजा का समापन किया जाता है।
 
7. घर में या मंदिर में जब भी कोई विशेष पूजा करें तो अपने इष्टदेव के साथ ही स्वस्तिक, कलश, नवग्रह देवता, पंच लोकपाल, षोडश मातृका, सप्त मातृका का पूजन भी किया जाता। लेकिन विस्तृत पूजा तो पंडित ही करता है अत: आप ऑनलाइन भी किसी पंडित की मदद से विशेष पूजा कर सकते हैं। विशेष पूजन पंडित की मदद से ही करवाने चाहिए, ताकि पूजा विधिवत हो सके।

 
4. हवन विधि :
हवन करने के लिए आपके पास हवन कुंड होना चाहिए। आजकल ये पतरे का मिलता है। यह नहीं है तो 8 ईंट जमाकर भी आप हवन कुंड बना सकते हैं। हवन कुंड को गोबर या मिट्टी से लेप लें। कुंड इस प्रकार बनने चाहिए कि वे बाहर से चौकोर रहें। लंबाई, चौड़ाई व गहराई समान हो। इसके चारों और नाड़ा बांध दें। फिर इस पर स्वास्तिक बनाकर इसकी पूजा करें। हवन कुंड में आम की लकड़ी से अग्नि प्रज्वलित करते हैं। अग्नि प्रज्वलित करने के पश्चात इस पवित्र अग्नि में फल, शहद, घी, काष्ठ इत्यादि पदार्थों की आहुति दी जाती है।
 
हवन करने से पूर्व स्वच्छता का ख्याल रखें। सबसे पहले रोज की पूजा करने के बाद अग्नि स्थापना करें फिर आम की चौकोर लकड़ी लगाकर, कपूर रखकर जला दें। उसके बाद नवग्रह के नाम या मंत्र से आहुति देने के बाद उन मंत्रों से आहुति देते हुए हवन शुरू करें जिन देव के निमित्त यह हवन किया जा रहा है। आपको प्रत्येक देव के हवन मंत्र मिल जाएंगे।
  
पूर्ण आहुति के बाद यथाशक्ति दक्षिणा रख दें, फिर परिवार सहित आरती करके हवन संपन्न करें और जिन देव के निमित्त हवन किया गया है उनसे क्षमा मांगते हुए मंगलकामना करें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

पश्चिम दिशा का मकान है तो वास्तुदोष होने से होंगे ये 5 नुकसान