Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

14 दिसंबर गीता जयंती : कुरुक्षेत्र में गीता, जानिए 21 रोचक बातें

हमें फॉलो करें webdunia
मंगलवार, 14 दिसंबर 2021 (11:20 IST)
14 दिसंबर से गीता जयंती पाक्षिक समारोह प्रारंभ हो चुका है। मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को गीता जयंती का पर्व मनाया जाता है। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहते हैं। इसी दिन भगवान श्रीकृष्ण ने कुरुक्षेत्र के युद्ध में कुंती पुत्र अर्जुन को गीता का ज्ञान दिया था। आओ जानते हैं गीता और कुरुक्षेत्र के संबंध में 21 रोचक बातें।
 
 
1. इस साल 2021 को गीता जयंती की 5158वीं वर्षगांठ मनाई जाएगी।
 
2. गीता महाभारत के शांति पर्व का एक भाग है। 
 
3. भगवान श्रीकृष्ण ने कुरुक्षेत्र के युद्ध में कुंती पुत्र अर्जुन को गीता का ज्ञान दिया था। 
 
4. महाभारत का युद्ध कौरव पांडवों के बीच कुरुक्षेत्र में लड़ा गया था। दोनों ही ओर के कई योद्धा मारे गए थे।
 
5. इस युद्ध में कौरव और पांडवों की सेना ने 18 दिनों तक युद्ध लड़ा था जिसके चलते सर्वनाश हो गया था। कौरव के तो कुल का ही नाश हो गया था और पांडवों के भी लगभग सभी पुत्र मारे गए थे। 
 
6. भगवान श्रीकृष्ण ने युद्ध के पहले दिन अर्जुन को गीता का उपदेश तब दिया था जबकि उसने दोनों सेनाओं के बीच रथ को ले जाकर खड़ा करने को कहा था और तब दोनों सेनाओं की ओर उसने यह देखकर युद्ध करने से इनकार कर दिया था कि दोनों ही ओर मेरे अपने ही लोग है। मैं कैसे अपने पितामह भीष्म और गुरु द्रोण को मार सकता हूं?
 
7. कहते हैं कि भगवान श्रीकृष्ण ने गीता का उपदेश लगभग 45 मिनट दिया था। 
webdunia
Krishna Mantra
8. इस 45 मिनट में उन्होंने अर्जुन को सभी तरह से समझाकर उसका मोह भंग करके यह बताया था कि तू जो युद्ध कर रहा है यह अपने लिए नहीं धर्म के लिए कर रहा है। आज यदि तू युद्ध से विमुख हो जाएगा तो इतिहास तुझे कायरों की गिनति में शामिल करेगा और कहेगा कि तूने धर्म का साथ नहीं देकर अधर्म को ही मजूबत किया।
 
9. गीता को अर्जुन के अलावा संजय ने सुना और उन्होंने धृतराष्ट्र को सुनाया। 
 
10. इस ज्ञान का अर्जुन के रथ पर विराजमान हनुमानजी सहित आकाश में स्थिति सभी देवों ने सुना। 
 
11. यह भी कहा जाता है कि गीता का ज्ञान वहां से गुजर रहे एक पक्षी ने भी सुना था।
 
12. हरियाणा के कुरुक्षे‍त्र में जब यह ज्ञान दिया गया तब मार्गशीर्ष के शुक्ल पक्ष की तिथि एकादशी थी जिसे मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। संभवत: उस दिन रविवार था।
 
13. कलियुग के प्रारंभ होने के मात्र तीस वर्ष पहले, मार्गशीर्ष शुक्ल एकादशी के दिन, कुरुक्षेत्र के मैदान में, अर्जुन के नन्दिघोष नामक रथ पर सारथी के स्थान पर बैठ कर श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश किया था। इसी तिथि को प्रतिवर्ष गीता जयंती का पर्व मनाया जाता है। 
 
14. कहते हैं प्रथम दिन का उपदेश प्रात: 8 से 9 बजे के बीच हुआ था।
 
15. आर्यभट्‍ट के अनुसार महाभारत युद्ध 3137 ईपू में हुआ। इसका मतलब की आर्यभट्ट की गणना अनुसार गीता का ज्ञान आज से 5158 वर्ष पूर्व श्रीकृष्ण ने अर्जुन को दिया था।
 
16. कुरुक्षेत्र में ज्योतिसर नामक एक स्थान है जहां पर श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था। यह स्थान कुरुक्षेत्र-पहावा मार्ग पर थानेसर से 5 किलोमीटर पश्चिम में स्थित है।
 
17. भगवद्गीता के प्रथम श्लोक में कुरुक्षेत्र को धर्मक्षेत्र कहा गया है।
 
18. गीता में श्रीकृष्ण ने 574, अर्जुन ने 85, संजय ने 40 और धृतराष्ट्र ने 1 श्लोक कहा है। गीता के कुल 700 श्लोक 18 अध्याय में विभक्त हैं।
 
19. श्रीमद्भागवत गीता में 18 अध्याय और 700 श्लोक हैं, गीता का दूसरा नाम गीतोपनिषद है। 
 
20. 18 अध्याय में अध्याय विषाद योग में 46, सांख्य योग में 72, कर्म योग में 43, ज्ञान कर्म संन्यास योग में 42, कर्म संन्यास योग में 29, ध्यान योग अथवा आत्मसंयम योग में 47, ज्ञान विज्ञान योग में 30, अक्षर ब्रम्हयोग में 28, राजविद्या राजगुह्य योग में 34, विभूति विस्तार योग में 42, विश्वरूप दर्शन योग में 55, भक्ति योग में 20, क्षेत्र क्षेत्रजन विभाग योग में 35, गुणत्रय विभाग योग में 27, पुरुषोत्तम योग में 20, दैवासुर सम्पद विभाग योग में 24, श्रध्दात्रय विभाग योग में 28, मोक्ष संन्यास योग में 78 श्लोक है।
 
21. अर्जुन के अलावा संजय, परशुराम, वेद व्यास और देवताओं ने अपनी दिव्यदृष्टि के कारण श्रीकृष्ण के विराट स्वरूप या विश्‍व स्वरूप के दर्शन किए थे।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

आज मोक्षदा एकादशी है जानिए 11 बड़ी बातें