Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Afghanistan crisis : अब कैसा होगा अफगानिस्तान का भविष्य?

webdunia
मंगलवार, 7 सितम्बर 2021 (23:17 IST)
अफगानिस्तान में नई सरकार का मंगलवार की शाम को गठन कर दिया गया है। मुल्ला हसन अखुंद (Mullah Hassan Akhund) अफगानिस्तान के नए प्रधानमंत्री होंगे। सिराजुद्दीन हक्कानी (Serajuddin Haqqani) गृहमंत्री होंगे। मुल्ला अब्दुल गनी बरादर डिप्टी पीएम बनाए गए। मुल्ला याकूब (Mullah Yaqoub) अफगानिस्तान के नए रक्षामंत्री होंगे। अमीर मुत्तकी को विदेश मंत्री बनाया गया है। 
 
 
अफगानिस्तान पर कब्जे के बाद तालिबान दुनिया को यह जताने की कोशिश कर रहा है कि उसकी नीतियां बदल गई हैं। भले ही तालिबान नेता यह कहने और जताने में लगे हों कि वे बदल गए हैं और उनसे किसी को घबराने या फिर डरने की जरूरत नहीं है, लेकिन उन पर भरोसा करने का कोई कारण नहीं।

सचाई तो यह कि खुद अफगानिस्तान की जनता ही उन पर भरोसा नहीं कर पा रही है और इसीलिए हजारों अफगानी जैसे-तैसे वहां से निकल आना चाहते हैं। अफगानिस्तानी से आतीं कई तस्वीरें तालिबानियों के जुल्म की कहानी को बयां कर रही हैं। महिलाएं खौफ में हैं और सड़कों पर निकलकर प्रदर्शन कर रही हैं।

अपने खिलाफ उठने वाली हर आवाज को तालिबान गोलियों से दबा रहा है। महिलाओं को अधिकारों के लिए आवाज उठाने पर तालिबानी डंडे पड़ रहे हैं। अमेरिका के मोस्ट वॉन्टेड टेरेरिस्ट लिस्ट में शामिल सिराजुद्दीन हक्कानी को होम मिनिस्ट्री दी गई है, तालिबान के आंतक भरे मंसूबों को दिखाता है। सबसे बड़ा सवाल तो यह कि तालिबान की इस 'आतंकी' सरकार को दुनिया के कितने देश अपनी स्वीकार्यता देते हैं?
webdunia
 
तालिबान सरकार के सामने भी अफगानिस्तान को लेकर कई चुनौतियां हैं जिनमें सबसे पहली है देश को पटरी पर लाना। सरकार चलाने के लिए तालिबान को हर क्षेत्र के काबिल लोगों की आवश्यकता होगी। फिर चाहे वो नौकरशाह हों, एक्सपर्ट्स, डॉक्टर्स, कानून के जानकार या फिर कुछ और। यह तो आने वाला समय ही बताएगा कि तालिबान ऐसे अनुभवी लोग कहां से लाता है?
webdunia
तालिबान के खिलाफ अफगानिस्तान में जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं। महिलाएं अपने अधिकारों की मांग को लेकर सड़क पर हैं। अपनी पुरानी छवि को बदलना और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना पाना भी तालिबान के लिए चुनौती है। अपनी अंतरिम सरकार में तालिबान ने किसी महिला को जगह नहीं दी है। इससे यह साबित होता है कि महिलाओं पर पाबंदियों को लेकर उसकी रीति-नीति में कोई बदलाव नहीं आया है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

काबुल में पाक विरोधी रैली में जुटे सैकड़ों प्रदर्शनकारी, 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' के नारे लगे