Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

गोलगप्पे के शौकीन हैं नीरज चोपड़ा, उनका कमेंट हो रहा है ट्विटर पर वायरल

हमें फॉलो करें webdunia
सोमवार, 9 अगस्त 2021 (15:52 IST)
खिलाड़ियों को अपने खान पान का बहुत ख्याल रखना पड़ता है। टोक्यो ओलंपिक में भारत के लिए पहला पदक जीतने वाली मीराबाई चानू को ही देख लीजिए। उनको पिज्जा बहुत पसंद था लेकिन कई समय से उन्होंने पिज्जा नहीं खाया था। पदक जीतने के बाद डिनर से लेकर लंच तक उन्होंने पिज्जा खाया। 
 
वैसे तो गोलगप्पे लड़कियों की पसंदीदा डिश मानी जाती है लेकिन भारत के लिए गोल्ड मेडल जीतने वाले नीरज चोपड़ा भी इस डिश के फैन है। हाल ही में इस डिश पर उनके द्वारा दिया गया बयान वायरल हो रहा है। 
 
उन्होंने कहा कि गोलगप्पे खाने से कोई खास नुकसान नहीं होता है। इसमें ज्यादातर पानी होता है और जब आप इसे खाते हैं तो आपका पेट पानी से भर जाता है। 
 
इसमें पपड़ा ज्यादा होती है लेकिन आटे का कम इस्तेमाल होता है। इसमें ज्यादातर हिस्सा पानी का होता है जो आपके शरीर के अंदर जाता है।  हां यह बात अलग है इसमें कुछ मसाले होते हैं जो आपके अंदर जाते है। 
 
अगर गोलगप्पों की बात की जाए तो उसमें उतना ही आटा होता है जितना की 1-2 रोटियों में होता है। अगर आपको यह लगता है कि आपने बहुत गोलगप्पे खा लिए तो सब्र रखिए आपने सिर्फ पानी से ही अपना पेट भरा है।
 
हां यह रोज खाने की मैं किसी को भी सलाह नहीं दे सकता। लेकिन एक एथलीट के लिए कभी कभार गोलगप्पा खा लेने से कुछ नुकसान नहीं होता।
नीरज का गोलगप्पों के बारे मे यह कहना था कि गोलगप्पों के दिवाने लोगों ने ट्विटर पर गोलगप्पे को ही ट्रैंडिंग कर दिया। गोलगप्पे शादी और पार्टियों में कई लोग खाने से पहले खाना पसंद करते हैं। ऐसा कोई चाट कॉर्नर नहीं होगा जहां गोलगप्पे को स्थान नहीं दिया जाता।
 
गोलगप्पे और लड़कियों को लेकर कई तरह के जोक्स बन चुके हैं आज भी कुछ लोगों ने कहा कि वैसे तो नीरज चोपड़ा ने कई प्रेरणादायक बातें कहीं लड़कियों ने वह नजरअंदाज करके सिर्फ गोलगप्पे के बारे में सुना। नीरज और गोलगप्पों को लेकर कुछ ऐसे ट्वीट्स देखने को मिले। (वेबदुनिया डेस्क)


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

चेले से बड़ा गुरु: नीरज चोपड़ा के कोच भी फेंक चुके हैं 100 मीटर तक भाला