क्या भाजपा ने करवाया था पुलवामा हमला…जानिए वायरल ऑडियो क्लिप का पूरा सच…

मंगलवार, 5 मार्च 2019 (15:50 IST)
अवि डांडिया नाम के यूजर ने 2 मार्च को एक फेसबुक लाइव किया, जिसमें उन्होंने एक ऑडियो क्लिप के माध्यम से दावा किया कि भाजपा ने पुलवामा हमला करवाया था। इस ऑडियो क्लिप में गृहमंत्री राजनाथ सिंह, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और एक महिला राजनीतिक फायदे के लिए जवानों पर हमले की योजना बनाते सुनाई देते हैं। इस वीडियो को 24 घंटे से भी कम समय में बीस लाख से ज्यादा व्यूज मिले और 1 लाख से ज्यादा बार शेयर किया गया। पाकिस्तानी मीडिया ने भी इस खबर को खूब भुनाया। हालांकि, अब इस वीडियो को अवि डांडिया ने हटा लिया है, लेकिन यूट्यूब पर यह मौजूद है।

ऑडियो क्लिप में क्या है?

ऑडियो क्लिप में अमित शाह और राजनाथ सिंह एक महिला से बात करते सुनाई दे रहे हैं। बातचीत की ट्रांस्क्रिप्ट पढ़िए-

अमित शाह: देश की जनता को गुमराह किया जा सकता है। और हम मानते भी हैं चुनाव के लिए युद्ध कराने की जरूरत है।

महिला: आपके कहने से युद्ध नहीं हो जाएगा, अमितजी। बिना मुद्दे के आप युद्ध कैसे करेंगे? अगर आतंकवादी हमला भी करते हैं, तो आतंकवादी हमले की कार्रवाई हो सकती है।

राजनाथ सिंह: जवानों के सवाल पर हमारी देश बहुत ही सेंसिटिव है। बहुत ही संवेदनशील है। भावना उनके अंदर कूट कूट कर भरी होगी।

महिला: देश के जवानों को शहीद करवाना है?

राजनाथ सिंह: काम की रकम जो हो तय हो।

महिला: एक-दो से कुछ भी नहीं होगा। उरी किया था, कुछ भी नहीं हुआ। अभी चुनाव है, देश की सुरक्षा को लेकर आप बड़ा मुद्दा बना सकते हैं। उसपे राजनीति खेलें।

राजनाथ सिंह: देश की सुरक्षा से जुड़े हुए सवालों पर इस तरह की राजनीति की जानी चाहिए।

महिला: राजनीति के लिए आप युद्ध कराना चाहते हैं? एक काम करते हैं, कश्मीर में या कश्मीर के आस पास...

राजनाथ सिंह: अभी जम्मू और श्रीनगर...

महिला: वहां ब्लास्ट करेंगे। कुछ आर्मी डेड, पैरामिलिटरी फोर्सेज डेड, या CRPF डेड। एक 100-50 जवान मरेंगे तो सारे देश की देशभक्ति एक जगह हो जाएगी। आप कोई इंतजाम करें। देखें फिर क्या राजनीति होती है।

राजनाथ सिंह: इतने बहादुर जवानों की शहादत पर इस तरीके की राजनीति की जानी चाहिए।

महिला: क्या गंदी पॉलिटिक्स है अमित जी?

अमित शाह: नहीं, ये पॉलिटिक्स नहीं है भाई।

महिला: तो फिर है क्या यह? पॉलिटिक्स ही है। गंदी पॉलिटिक्स।

अमित शाह: मुझे सीधा पूछ रहे हो? सुनिए अब, यह क्यों हुआ? कैसे हुआ?

महिला: मुझे नहीं सुनना है अमित जी, वैसे भी मैं नहीं करुंगी तो कोई और कर देगा। बम ब्लास्ट करवाना है बम ब्लास्ट करवा देंगे। आप लोग जैसा चाहते हैं वैसा हो तो जाएगा। देश के जवान शहीद होंगे। उनके घर में.. उनके घर का माहौल क्या होगा.. आपने कभी सोचा है इसके बारे में..

अमित शाह: देश के हर सैनिक घर का वातावरण क्या होगा?

महिला: खौफ बैठ गया है और क्या?

अमित शाह: डर बैठ रहा है, खौफ बैठ रहा है और कोई रास्ते नहीं होते।

महिला: रास्ते तो बहुत होते हैं अमित जी। EVM था न आपके पास। यह सैनिकों को मरवाना, जवानों को मरवाना, यह मुझे समझ में नहीं आ रहा है। फिर भी आप चाहते हैं तो ब्लास्ट करवा देंगे। 100-50 जवान मरेंगे। वैसे भी आप ही कहते हैं न, जवान सेना में भर्ती होते हैं शहीद होने के लिए। लेकिन दुश्मनों के साथ अब आप लोग भी दुश्मन बने हुए हैं सेना के। तो कौन क्या कर सकता है?

अमित शाह: ऐसा ही होता है। हम कैसे बदल सकते हैं इसको?

महिला: मुझे बहस नहीं करनी आपसे, काम कर देंगे, पैसे भिजवा दीजिएगा और 12, 13 फरवरी तक ये सारा कुछ ताम-झाम करके आपको मैं फिर फोन करती हूँ। पैसे भिजवा दीजिएगा।

अमित शाह: मैं बताता हूँ।

ऑडियो क्लिप की सच्चाई क्या है?

वैसे तो कोई भी समझदार व्यक्ति यह क्लिप सुनकर समझ जाएगा कि यह एक फेक क्लिप है। लेकिन जिन लाखों लोगों ने इसे सच मानकर शेयर किया है, उनके लिए और हमारे पाठकों के लिए इस क्लिप का सच हम सामने ले आते हैं।

पुलवामा हमले के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इंडिया टुडे को 22 फरवरी को इंटरव्यू दिया था। इसी इंटरव्यू से राजनाथ सिंह के बयानों को एडिट कर लिया गया है।

इस इंटरव्यू के 4:20वें मिनट में राजनाथ सिंह कहते हैं- ‘इतने बहादुर जवानों की शहादत पर इस तरीके की राजनीति नहीं की जानी चाहिए’। इस वाक्य से ‘नहीं’ हटाकर इसे ऑडियो में जोड़ दिया गया है।

इंटरव्यू के 5:10वें मिनट में राजनाथ सिंह कहते हैं- ‘देश की सुरक्षा से जुड़े सवालों पर इस तरीके की राजनीति नहीं की जानी चाहिए’। इस वाक्य से भी ‘नहीं’ शब्द हटा दिया गया है।

8:20वें मिनट के आस-पास राजनाथ ‘जम्मू और श्रीनगर’ कहते हैं। उसे भी ऑडियो में ले लिया गया है।

8:40वें मिनट पर राजनाथ सिंह ने कहा है- ‘जवानों के सवाल पर हमारी गवर्मेंट बहुत सेंसिटिव है। बहुत संवेदनशील है’। इस बयान में ‘गवर्मेंट’ की जगह ‘देश’ जोड़कर मतलब बदल दिया गया है।

10:41वें पर राजनाथ लेफ्टिनेंट जनरल दीपेंद्र सिंह हुड्डा के बारे में कहते हैं- ‘राष्ट्रभक्ति की भावना उनके अंदर कूट कूट कर भरी होगी’। इस बयान से ‘राष्ट्रभक्ति’ हटाकर इस बयान को भी ऑडियो में ले लिया गया है।

इसी प्रकार 23 नवंबर 2018 को अमित शाह द्वारा जी न्यूज को दिए गए इंटरव्यूह से उनका एक बयान लिया गया है।

इस इंटरव्यूह के 21.32वें मिनट पर अमित शाह कहते हैं- ‘चुनाव के लिए युद्ध कराने की कोई जरूरत नहीं है’। इस बयान से ‘कोई’ और ‘नहीं’ शब्दों को हटाकर ऑडियो क्लिप में ले लिया गया है।

हालांकि, हमें दोनों राजनेताओं के अन्य बयान नहीं मिल सके, लेकिन जो बयान उनके इंटरव्यूहों से मिले हैं, उससे स्पष्ट है कि अवि डांडिया का ऑडियो क्लिप फेक है, एडिटेड है।

हमारी पड़ताल में भाजपा द्वारा पुलवामा हमला करवाने का दावा करने वाला अवि डांडिया का ऑडियो क्लिप झूठा साबित हुआ है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख तनाव के चलते पीएसएल के तीन मैच लाहौर से कराची शिफ्ट