Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

क्या करतारपुर साहिब गुरुद्वारे की छत पर बना है पाकिस्तानी झंडा...जानिए सच...

webdunia
गुरुवार, 7 नवंबर 2019 (13:15 IST)
करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन से ठीक पहले करतारपुर साहिब गुरुद्वारे की दो तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। दावा किया जा रहा है कि पाकिस्तान ने गुरुद्वारे में सिखों का धार्मिक प्रतीक चिह्न खंडा लगाने की बजाय उसकी छत पर पाकिस्तानी झंडा बना दिया है।
 
क्या है वायरल-
 
फेसबुक यूजर Prasanna Naresh Khakre ने तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा-
 
‘पाकिस्तान ने करतारपुर गुरुद्वारे की छत पर खंडे वाले झंडे की जगह अपना झंडा बना दिया है। अब खालिस्तानी कहां हैं? क्या अब वे डर गए हैं? क्या सिख डर गए हैं या इस्लाम कबूल कर रहे हैं?’


 
ये तस्वीरें ट्विटर पर भी शेयर की जा रही हैं।
 
webdunia
क्या है सच-
 
हमने वायरल तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च के जरिये खोजा, तो हमें पाकिस्तानी वेबसाइट ‘द एक्स्प्रेस ट्रिब्यून’ के एक न्यूज रिपोर्ट की लिंक मिली, जिसमें वायरल तस्वीर लगी थी।
 
इस न्यूज रिपोर्ट के अनुसार वायरल तस्वीर में दिख रही इमारत इमिग्रेशन सेंटर की हैं, न कि करतारपुर गुरुद्वारे की। रिपोर्ट में लिखा गया है कि इमिग्रेशन सेंटर के बाहर 150 फीट ऊंचा पाकिस्तानी झंडा लगाया गया है, जो कि आप वायरल तस्वीर में देख सकते हैं।
 
बता दें कि हाल ही इमरान खान ने दरबार साहिब, करतारपुर गुरुद्वारे की कुछ तस्वीरें ट्वीट की थीं। इन तस्वीरें में साफ देखा जा सकता है कि गुरुद्वारे की इमारत और वायरल हो रही तस्वीर में कोई समानता नहीं है।
 


गूगल मैप्स पर कई यूजर्स ने करतारपर गुरुद्वारे की कुछ तस्वीरें अपलोड की हैं, जिनमें आप देख सकते हैं कि गुरुद्वारे के पास खंडे का निशाना बना हुआ है, जो रात के समय लाइटिंग में बेहद खूबसूरत नजर आ रहा है।
 
webdunia
बता दें कि करतारपुर कॉरिडोर भारत के पंजाब में डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे को करतापुर स्थित दरबार साहिब से जोड़ेगा, जो अंतरराष्ट्रीय सीमा से महज 4 किलोमीटर दूर पाकिस्तान में पंजाब प्रांत के नरोवाल जिले में स्थित है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान श्री नानकदेवजी की 550वीं जयंती से पहले 9 नवंबर को इस गलियारे का औपचारिक उद्घाटन करेंगे।
 
वेबदुनिया की पड़ताल में पाया गया है कि वायरल हो रही तस्वीर करतारपुर साहिब गुरुद्वारे की नहीं बल्कि इमिग्रेशन सेंटर की हैं।

webdunia

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

भगोड़े नीरव मोदी का नया दांव, भारत को सौंपा तो कर लूंगा आत्महत्या