Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Fact Check: रात के अंधेरे में छुपकर मुस्लिमों से मिलने पहुंचीं ममता बनर्जी? जानिए वायरल दावे का सच

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
सोमवार, 22 मार्च 2021 (12:56 IST)
सोशल मीडिया पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी नेता ममता बनर्जी का एक वीडियो वायरल हो रहा है। इस वीडियो में ममता मुस्लिम समुदाय के लोगों के बीच नजर आ रही हैं, जिनके साथ मिलकर वो प्रेयर कर रही हैं। वीडियो शेयर कर दावा किया जा रहा है कि ममता बनर्जी हिंदुओं को धोखा देने के लिए दिन के बजाय अब रात के अंधेरे में मुस्लिमों से मिलने जा रही हैं।

क्या है वायरल-

वीडियो को शेयर करते हुए एक ट्विटर यूजर ने लिखा, “रात के अंधेरे में ममता बनर्जी मुस्लिमों से मिलने का काम कर रही हैं। अब दिन के उजाले में हिंदुओं को बेवकूफ बनाया जा रहा है! हिडन कैमरे से सारी हरकतें रिकॉर्ड हो गई। इसे इतना फैला दो कि पश्चिम बंगाल का हर आदमी इस बात को समझ जाए।”



फेसबुक पर भी यूजर्स इसी तरह का दावा कर रहे हैं।



क्या है सच-

हमने गूगल क्रोम के InVID टूल की मदद से वायरल वीडियो के कुछ कीफ्रेम्स निकाले। जिन्हें हमने गूगल रिवर्स इमेज के जरिए सर्च किया। सर्च रिजल्ट में हमें एबीपी न्यूज की 9 मार्च की एक रिपोर्ट मिली। इस रिपोर्ट के मुताबिक, ममता बनर्जी नंदीग्राम सीट से नामांकन दाखिल करने से एक दिन पहले मंदिर और दरगाह गई थीं। इस रिपोर्ट में लगी एक तस्वीर में ममता बनर्जी दरगाह में फूल चढ़ाती नजर आ रही हैं और इस फोटो में वो वायरल वीडियो वाले कपड़े पहने, मास्क लगाए और सिर पर गुलाबी रंग का स्कार्फ पहने नजर आ रही हैं।

पड़ताल जारी रखते हुए हमने कुछ कीवर्ड्स की मदद से इंटरनेट पर सर्च किया। हमें टाइम्स नाउ के यूट्यूब चैनल पर 9 मार्च को अपलोड किया गया एक वीडियो मिला। इस वीडियो में भी नामांकन भरने से पहले ममता बनर्जी के मजार जाने की बात कही गई है।



कई अन्य मीडिया हाउस ने भी ममता बनर्जी के मजार जाने की खबर पब्लिश की थी।

वेबदुनिया की पड़ताल में सामने आया कि आगामी विधानसभा चुनाव के लिए नंदीग्राम से नामांकन भरने से पहले ममता बनर्जी मंदिर और मजार दोनों जगह गई थीं। उसी दौरान के मजार जाने के वीडियो को अब भ्रामक दावे के साथ शेयर किया जा रहा है।

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
म्यांमार में तख्तापलट से पहले सेना ने जातीय समूह कैरन पर शुरू कर दिए थे अत्याचार