जानिए इस सप्ताह के शुभ मुहूर्त (2 सितंबर से 8 सितंबर 2019 तक)

आज आपका दिन मंगलमयी रहे, यही शुभकामना है। 'वेबदुनिया' प्रस्तुत कर रही है खास आपके लिए सप्ताह के 7 दिन के विशिष्ट मुहूर्त। अगर आप इन 7 दिनों में वाहन खरीदने का विचार कर रहे हैं या कोई नया व्यापार आरंभ करने जा रहे हैं तो इस शुभ मुहूर्त में ही कार्य करें ताकि आपके कार्य सफलतापूर्वक संपन्न हो सकें। ज्योतिष एवं धर्म की दृष्टि से इन मुहूर्तों का विशेष महत्व है। मुहूर्त और चौघड़िए के आधार पर 'वेबदुनिया' आपके लिए इस सप्ताह के अंतर्गत आनेवाले प्रतिदिन के खास मुहूर्त की सौगात लेकर आई है।
 
सोमवार, 2 सितंबर 2019 के शुभ मुहूर्त
 
शुभ विक्रम संवत्- 2076, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन्- 2019। अयन- दक्षिणायन, मास- भाद्रपद, पक्ष- शुक्ल, संवत्सर का नाम- परिधावी, ऋतु- शरद, वार- सोमवार, तिथि (सूर्योदयकालीन)- चतुर्थी, नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)- हस्त, योग (सूर्योदयकालीन)- शुक्ल, करण (सूर्योदयकालीन)- विष्टि, लग्न (सूर्योदयकालीन)- सिंह।
 
शुभ समय- 6.00 से 7.30 तक, 9.00 से 10.30 तक, 3.31 से 6.41 तक।
 
राहुकाल- प्रात: 7.30 से 9.00 बजे तक।
 
दिशाशूल- आग्नेय।
 
योगिनी वास- नैऋत्य।
 
गुरु तारा- उदित।
 
शुक्र तारा- अस्त।
 
चंद्र स्थिति- तुला।
 
व्रत/ मुहूर्त- श्री गणेश चतुर्थी (गणेश स्थापना), चंद्रदर्शन निषेध।
 
यात्रा शकुन- मीठा दूध पीकर यात्रा करें।
 
आज का मंत्र- 'ॐ सौं सोमाय नम:'।
 
आज का उपाय- मंदिर में छैने से बनी मिठाई चढ़ाएं।
 
आज जन्म लिए जातक का नामाक्षर- पू, ष, ण, ठ।
 
वनस्पति तंत्र उपाय- पलाश के वृक्ष में जल चढ़ाएं।
 

 
मंगलवार, 3 सितंबर 2019 के शुभ मुहूर्त
 
शुभ विक्रम संवत्- 2076, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन्- 2019। अयन- दक्षिणायन, मास- भाद्रपद, पक्ष- शुक्ल, संवत्सर का नाम- परिधावी, ऋतु- शरद, वार- मंगलवार, तिथि (सूर्योदयकालीन)- पंचमी, नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)- चित्रा, योग (सूर्योदयकालीन)- ब्रह्म, करण (सूर्योदयकालीन)- बव, लग्न (सूर्योदयकालीन)- सिंह।
 
शुभ समय- 10.46 से 1.55, 3.30 5.05 तक।
 
राहुकाल- दोप. 3.00 से 4.30 बजे तक।
 
दिशाशूल- उत्तर।
 
योगिनी वास- दक्षिण।
 
गुरु तारा- उदित।
 
शुक्र तारा- अस्त।
 
चंद्र स्थिति- तुला।
 
व्रत/ मुहूर्त- ऋषि पंचमी।
 
यात्रा शकुन- दलिया का सेवन कर यात्रा पर निकलें।
 
आज का मंत्र- 'ॐ अं अंगारकाय नम:'।
 
आज का उपाय- मंदिर में गुड़ चढ़ाएं।
 
आज जन्म लिए जातक का नामाक्षर- पे, पो, रा, री।
 
वनस्पति तंत्र उपाय- खैर के वृक्ष में जल चढ़ाएं।
 

 
बुधवार, 4 सितंबर 2019 के शुभ मुहूर्त
 
 
शुभ विक्रम संवत्- 2076, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन्- 2019। अयन- दक्षिणायन, मास- भाद्रपद, पक्ष- शुक्ल, संवत्सर का नाम- परिधावी, ऋतु- शरद, वार- बुधवार, तिथि (सूर्योदयकालीन)- षष्ठी, नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)- विशाखा, योग (सूर्योदयकालीन)- ऐन्द्र, करण (सूर्योदयकालीन)- कौलव, लग्न (सूर्योदयकालीन)- सिंह।
 
शुभ समय- 6.00 से 9.11, 5.00 से 6.30 तक।
 
राहुकाल- दोप. 12.00 से 1.30 बजे तक।
 
दिशाशूल- ईशान।
 
योगिनी वास- पश्चिम।
 
गुरु तारा- उदित।
 
शुक्र तारा- अस्त।
 
चंद्र स्थिति- वृश्चिक।
 
व्रत/ मुहूर्त- श्री बलदेव षष्ठी, श्रीमहालक्ष्मी व्रत प्रारंभ, सर्वार्थ सिद्धि योग।
 
यात्रा शकुन- हरे फल खाकर अथवा दूध पीकर यात्रा पर निकलें।
 
आज का मंत्र- 'ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स. बुधाय नम:'।
 
आज का उपाय- मंदिर में हरे मूंग दान करें।
 
आज जन्म लिए जातक का नामाक्षर- ती, तू, ते, तो।
 
वनस्पति तंत्र उपाय- अपामार्ग के वृक्ष में जल चढ़ाएं।
 

 
गुरुवार, 5 सितंबर 2019 के शुभ मुहूर्त
 
शुभ विक्रम संवत्- 2076, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन्- 2019। अयन- दक्षिणायन, मास- भाद्रपद, पक्ष- कृष्ण, संवत्सर का नाम- परिधावी, ऋतु- शरद, वार- गुरुवार, तिथि (सूर्योदयकालीन)- सप्तमी, नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)- अनुराधा, योग (सूर्योदयकालीन)- वैधृति, करण (सूर्योदयकालीन)- गरज, लग्न (सूर्योदयकालीन)- सिंह।
 
शुभ समय- 6.00 से 7.30, 12.20 से 3.30, 5.00 से 6.30 तक।
 
राहुकाल- दोप. 1.30 से 3.00 बजे तक।
 
दिशाशूल- दक्षिण।
 
योगिनी वास- वायव्य।
 
गुरु तारा- उदित।
 
शुक्र तारा- अस्त।
 
चंद्र स्थिति- वृश्चिक।
 
व्रत/ मुहूर्त- संतान सप्तमी, शिक्षक दिवस।
 
यात्रा शकुन- बेसन से बनी मिठाई खाकर यात्रा पर निकलें।
 
आज का मंत्र- 'ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरुवै नम:'।
 
आज का उपाय- हल्दी मिश्रित जल से स्नान करें।
 
आज जन्म लिए जातक का नामाक्षर- ना, नी, नू, ने।
 
वनस्पति तंत्र उपाय- पीपल के वृक्ष में जल चढ़ाएं।
 

 
शुक्रवार, 6 सितंबर 2019 के शुभ मुहूर्त
 
शुभ विक्रम संवत्- 2076, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन्- 2019। अयन- दक्षिणायन, मास- भाद्रपद, पक्ष- शुक्ल, संवत्सर का नाम- परिधावी, ऋतु- शरद, वार- शुक्रवार, तिथि (सूर्योदयकालीन)- अष्टमी, नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)- ज्येष्ठा, योग (सूर्योदयकालीन)- विषकुंभ, करण (सूर्योदयकालीन)- विष्टि, लग्न (सूर्योदयकालीन)- सिंह।
 
शुभ समय- 7.30 से 10.45, 12.20 से 2.00 तक।
 
राहुकाल- प्रात: 10.30 से 12.00 बजे तक।
 
दिशाशूल- वायव्य।
 
योगिनी वास- ईशान।
 
गुरु तारा- उदित।
 
शुक्र तारा- अस्त।
 
चंद्र स्थिति- धनु।
 
व्रत/ मुहूर्त- श्री राधा अष्टमी, श्री दधीचि जयंती।
 
यात्रा शकुन- शुक्रवार को मीठा दही खाकर यात्रा पर निकलें।
 
आज का मंत्र- 'ॐ द्रां द्रीं द्रौं स. शुक्राय नम:'।
 
आज का उपाय- मंदिर में श्रृंगार सामग्री अर्पित करें।
 
आज जन्म लिए जातक का नामाक्षर- नो, या, यी, यू।
 
वनस्पति तंत्र उपाय- गूलर के वृक्ष में जल चढ़ाएं।


 
शनिवार, 7 सितंबर 2019 के शुभ मुहूर्त
 
शुभ विक्रम संवत्- 2076, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन्- 2019। अयन- दक्षिणायन, मास- भाद्रपद 
पक्ष- शुक्ल। संवत्सर नाम- परिधावी। ऋतु- शरद। वार- शनिवार। तिथि (सूर्योदयकालीन)- नवमी। नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)- मूल। योग (सूर्योदयकालीन)- प्रीति। करण (सूर्योदयकालीन)- बालव। लग्न (सूर्योदयकालीन)- सिंह।
 
शुभ समय- प्रात: 7.35 से 9.11, 1.57 से 5.08 बजे तक।
 
राहुकाल- प्रात: 9.00 से 10.30 तक।
 
दिशाशूल- पूर्व।
 
योगिनी वास- पूर्व।
 
गुरु तारा- उदित।
 
शुक्र तारा- अस्त।
 
चंद्र स्थिति- धनु।
 
व्रत/मुहूर्त- श्रीचंद्र नवमी, श्रीमहालक्ष्मी व्रत पूर्ण।
 
यात्रा शकुन- शर्करा मिश्रित दही खाकर घर से निकलें।
 
आज का मंत्र- 'ॐ प्रां प्रीं प्रौं स. शनयै नम:'।
 
आज का उपाय- शनि मंदिर में काले तिल का दान करें।
 
आज जन्म लिए जातक का नामाक्षर- ये, यो, भा, भी।
 
वनस्पति तंत्र उपाय- शमी के वृक्ष में जल चढ़ाएं।
 

 
रविवार, 8 सितंबर 2019 के शुभ मुहूर्त
 
शुभ विक्रम संवत्- 2076, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन्- 2019। अयन- दक्षिणायन, मास- भाद्रपद, पक्ष- शुक्ल, संवत्सर नाम- परिधावी, ऋतु- शरद, वार- रविवार, तिथि (सूर्योदयकालीन)- दशमी, नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)- मूल योग (सूर्योदयकालीन)- आयुष्मान, करण (सूर्योदयकालीन)- तैतिल, लग्न (सूर्योदयकालीन)- सिंह।
 
शुभ समय- 9.11 से 12.21, 1.56 से 3.32।
 
राहुकाल- सायं 4.30 से 6.00 बजे तक।
 
दिशाशूल- पश्चिम।
 
योगिनी वास- उत्तर।
 
गुरु तारा- उदित।
 
शुक्र तारा- अस्त।
 
चंद्र स्थिति- धनु।
 
व्रत/ मुहूर्त- रामदेवजी मेला, सर्वार्थ सिद्धि योग।
 
यात्रा शकुन- इलायची खाकर यात्रा प्रारंभ करें।
 
आज का मंत्र- 'ॐ घृणि: सूर्याय नम:'।
 
आज का उपाय- सूर्य को कुमकुम मिश्रित जल से अर्घ्य दें।
 
आज क्या करें- मंदिर में केसर दान करें।
 
आज जन्म लिए जातक का नामाक्षर- ये, यो, भा, भी।
 
वनस्पति तंत्र उपाय- बेल के वृक्ष में जल चढ़ाएं।

(निवेदन- उपर्युक्त मुहूर्त पंचांग आधारित है। पंचांग भेद होने पर तिथि/ मुहूर्त/ समय में परिवर्तन होना संभव है।)
 
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
प्रारब्ध ज्योतिष परामर्श केंद्र
संपर्क : [email protected]


ALSO READ: पर्युषण महावर्प : अष्टान्हिका और दशलक्षण में क्या है फर्क?
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख पर्युषण महावर्प : अष्टान्हिका और दशलक्षण में क्या है फर्क?