युवा और सुकुमार ग्रह है बुध, कुंडली में शुभ बनाना है तो 2 मंत्र और 6 उपाय जरूर पढ़ें

बुध युवा, राजकुमार, आकर्षक और सुकुमार ग्रह माने गए हैं। आइए जानें उन्हें कैसे शुभ बनाया जाए... 
 
एकाक्षरी बीज मंत्र- 'ॐ बुं बुधाय नम:।'
तांत्रिक मंत्र- 'ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:।'
जप संख्या- 9,000 (9 हजार)।
 
(कलियुग में 4 गुना जाप एवं दशांश हवन का विधान है।)
 
दान सामग्री- हरा वस्त्र, मूंग, हरे फल, स्वर्ण, कांस्य पात्र, गजदंत, घी।
 
(उक्त सामग्री को हरे वस्त्र में बांधकर उसकी पोटली बनाएं तत्पश्चात उसे मंदिर में अर्पण करें अथवा बहते जल में प्रवाहित करें।)
 
दान का समय- सूर्योदय से 5 घटी छोड़ शेष पूरा दिन।
 
हवन हेतु समिधा- अपामार्ग।
 
औषधि स्नान- अक्षत, गोरोचन, विधारा की जड़, शहद, जायफल मिश्रित जल से।
 
अशुभ प्रभाव कम करने हेतु अन्य उपयोगी उपाय।
 
* बुधवार को किन्नरों को चूड़ियां दान करें।
* तोते को पिंजरे से मुक्त करें।
* किसी बटुक को शास्त्र पुस्तक दान करें।
* 27 मूंग के दाने और कांसे का टुकड़ा बुधवार को बहते जल में प्रवाहित करें
* छेद वाला तांबे का सिक्का बहते जल में प्रवाहित करें।
* बुध यंत्र को स्वर्ण अथवा पीतल के पत्र पर उत्कीर्ण कर नित्य पूजा करें।
 
--
नोट : इस लेख में व्यक्त विचार/विश्लेषण लेखक के निजी हैं। इसमें शामिल तथ्य तथा विचार/विश्लेषण वेबदुनिया के नहीं हैं और वेबदुनिया इसकी कोई ज़िम्मेदारी नहीं लेती है
 
साभार : ज्योतिष : एक रहस्य

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख कब करें गायत्री मंत्र का जाप, जानिए इसका अर्थ और 8 आश्चर्यजनक फायदे