गायत्री शर्मा

नवरात्रि रंगीन रातों का त्योहार भी कहा जाता है। नौ दिनों तक गरबा पांडाल व सड़कें दुल्हन की तरह रंगबिरंगी सतरंगी रोशनी...
बचपन की लाडली ननदिया बड़ी होकर भाभी पर हावी हो जाती है और भाभी भी अपने अधिकारों के खातिर अपनी अकड़ दिखाती है, सच है न ......
मुंबई में हुए आतंकवादी हमलों का विरोध अब खुलकर सामने आ रहा है। अपनी चुप्पी तोड़कर जनता अब सड़कों पर आकर ऐलाने-जंग कर...
भक्त और भगवान के बीच आस्था व विश्वास की एक ऐसी डोर होती है जो दूर-दूर से भक्त को भगवान के दर तक खींच लाती है। जब आस्था का...
'ये मत सोचो कि इस देश ने तुम्हें क्या दिया, बल्कि ये सोचो कि तुमने देश को क्या दिया' किसी महान व्यक्ति द्वारा कही गई ये...
योग एक ऐसी चिकित्सा है। जिससे कई लाइलाज बीमारियों का इलाज भी संभव है। युवाओं की आम समस्या मुँहासों पर भी योग से काबू...
आजादी के छ: दशकों में यदि भारत ने विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति की है तो महिलाएँ भी इस उड़ान से अछूती नहीं रही...
जिन हाथों को बुढापे में थरथराते अपने पिता के हाथों को थामकर उनका सहारा बनना था, मगर वे ही हाथ कातिल बनकर अपने ही पिता...
पारंपरिक परिधान हो या वेस्टर्न, दुपट्टा डालने से सभी की ख़ूबसूरती बढ़ जाती है। कपड़े के इस खूबसूरत लंबे रंग-बिरंगे...
आधुनिक युग में शिक्षक की भूमिका महत्वपूर्ण है। शिक्षक वह पथ प्रदर्शक होता है जो हमें किताबी ज्ञान ही नहीं बल्कि जीवन...
चटख रंगों की तो बात ही अलग है। ये आपकी खूबसूरती को और भी अधिक बढ़ा देते हैं। अब गए वो जमाने जब पुराने फीके कपड़े पहने जाते...
बिंदी भारतीय नारी के सौंदर्य व अमर सुहाग का प्रतीक है। माथे पर चाँद सी चमकती लाल, काली बिंदिया भी आज फैशन के कलेवर में...
आज हिंदी दिवस है। आज एक बार पुन: हिंदी की महिमा का स्मृति दिवस आ पहुँचा है। हिंदी आज अपने प्रभाव से पूरे विश्व की नंबर...
हमारे देश में हर छोटे-बड़े त्योहारों व आयोजनों जैसे रक्षाबंधन, दीपावली, गृहप्रवेश, विवाह आदि पर बहू-बेटियों को साड़ी...
अगर मन में कुछ कर गुजरने का ज़ज्बा हो तो कुछ भी असंभव नहीं होता। भारतीय महिलाओं ने भी इसी बात को सच साबित करते हुए आर्थिक...
पश्चिम के रंगों में, रंगी है ये दुनिया। तिरंगे की अर्थी पर, फूलों सी सजी है ये दुनिया। हर दिन आसमाँ की ओर , तकती है ये दुनिया। ...
यूनिसेफ के पोषण संबंधी मामलों के प्रमुख डॉ. विक्यर अनुयाओ के अनुसार वर्ष 2005-06 में भारत में बच्चों के कुपोषण का प्रतिशत...
'महँगाई की मार' का सीधा असर आम आदमी पर पड़ रहा है। दिनभर मेहनत करके दो जून की रोटी कमाने वाला आम आदमी आज भूखा सोने को विवश...
चेहरे पर झुर्रियाँ, लगभग पाँच फुट लंबी, गंभीर व्यक्तित्व वाली यह महिला असाधारण सी थी। पैर में साधारण सी चप्पल पहने तथा...
जिंदगी किसे किस मोड़ पर ले आती है। इसके बारे कोई पूर्वानुमान नहीं किया जा सकता है। यही बात सच साबित हुई है भारतीय मूल...
अगला लेख Author|गायत्री शर्मा|Webdunia Hindi Page 2