जनकसिंह झाला

धर्मयात्रा की इस बार की कड़ी में हम आपको ले चलते हैं, गुजरात के राजकोट शहर में स्थित रामभक्त हनुमान के मंदिर। राजकोट के...
स्तरीय पत्रकारिता में अभूतपूर्व योगदान देने वाले व्यक्तियों की सूची यासीन दलाल के नाम के बिना अधूरी है। छरहरी काया,...
आज फिर उनसे बात हो गई, एक अनचाही मुलाकात हो गई, आँखे चुराते देखते रहे एक-दूजे को वो घड़ियाँ भी सच में कुछ खास हो गई..।
आखिर क्यों हमें छोड़कर चले गए, रिश्तों की दीवार को तोड़कर चले गए..। सिर्फ अकेला आज मैं नहीं रोया, दिन भी रोया और रात भी...
हर दुआ में हमने उनको शामिल किया, इन धड़कनों ने भी सिर्फ उनका नाम लिया, फिर भी ना मिल पाए वो इस जहाँ में,
मेरा तो एक भी पक्का दोस्त नहीं है' अगर कोई व्यक्ति ऎसा बोल रहा है तो समझ लेना चाहिए कि वह अपनी ज़िंदगी का एक अमूल्य हिस्सा...
जब तुम रोती हो तो दुनिया रोती है, तुम्हारे लिए जो महज एक आँसू है, मेरे लिए तो वह अनमोल मोती है।
मैं चाहता हूँ कि, तुम्हें ढेर सारा प्यार मिले। मनचाही खुशियों भरा एक नया संसार मिले।।
फिल्म शोले में आपने अमिताभ बच्चन को धर्मेन्द्र के साथ एक सिक्के को उछालते हुए जरूर देखा होगा या फिर दीवार फिल्म में...
यूँ तो दुनिया में हर कोई प्यार करता है लेकिन उनमे सें कुछेक ही लोग होते है जिन्हें प्यार में वफा मिलती है, जिनको प्यार...
डैनी बॉयल एक ऐसे फिल्म निर्देशक हैं जिन्होंने फिल्म 'द स्लमडॉग मिलियनेयर' के जरिये 4 कैटेगरी में गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स...
वे एक श्रेष्ठ नाटककार ही नहीं बल्कि अच्छे चित्रकार भी हैं। उनमें असीम उत्साह और प्रतिभा है। दिनभर बैंक के कम्प्यूटर...
कहते हैं ना कि दुनिया का हर शख्स किस्मत के बारे में जानता जरूर है लेकिन किस्मत में क्या लिखा होता है वह कोई भी नहीं जानता।...
साथ तुम्हारा मैंने हर पल निभाया..। अफसोस तेरे दिल को वह ना भाया..। सच कहा कि प्यार करना गुनाह नहीं, लेकिन उसी प्यार से...
पोरबंदर में रहने वाली जागृति नाम की 17 वर्षीय युवती को अखिलेश नाम के एक शादीशुदा युवक से प्यार हो गया। भला वह कौन से माता-पिता...
तुम दूर क्या गए जिंदगी का हर दिन ही हम भूल गए।
एक बार दोस्तों के साथ जादू का खेल देखने गया। वहाँ पर कई सारे करतब देखे जिसमें से एक करतब अभी तक दिलोदिमाग में ताजा है।...
जबलपुर के नौजवान शख्स ने रामायण के श्रवणकुमार के पात्र को इस आधुनिक युग में जीवंत कर दिखाया है। अपनी दृष्टिहीन माता...
देश की सरकार पिछले कई सालों से कन्या भ्रूण हत्या को रोकने और बेटियों को बचाने के लिए कई सारे अभियान चला रही है। जिन पर...
हम अपने भारत देश में चाहकर भी महामानव पैदा नहीं कर सकते। अब वह जमाना नहीं रहा, जब माताओं की गोद से महात्मा गाँधी, सुभाषचंद्र...
अगला लेख Author|जनकसिंह झाला|Webdunia Hindi Page 2