लोकसभा चुनाव 2019: हिंदुत्व पर आक्रामक होते मोदी-योगी-शाह

मंगलवार, 2 अप्रैल 2019 (17:30 IST)
लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान ज़ोर पकड़ता जा रहा है और अपनी रैलियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने जो कुछ कहा है उसकी काफ़ी चर्चा हो रही है. एक नज़र पिछले तीन दिनों में इन नेताओं की कुछ ऐसी ही टिप्पणियों पर-
 
 
'मोदी की सेना'
दिल्ली से सटे ग्रेटर नोएडा में एक चुनावी रैली को संबोधित करते यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भारतीय सेना को 'मोदी की सेना' कहा था। योगी ने कहा था, "कांग्रेस के लोग आतंकवादियों को बिरयानी खिलाते थे और मोदी जी की सेना आतंकवादियों को गोली और गोला देती है, यही अंतर है।"
 
 
योगी ने कहा, "कांग्रेस के लोग अजहर मसूद जैसे दुर्दांत आतंकवादी के नाम के साथ जी लगाकर आतंकवाद को प्रोत्साहित करने का काम करते हैं। तो प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व में आज आतंकवाद के ठिकानों को नष्ट और ध्वस्त करके आतंकवाद की ही नहीं पाकिस्तान की कमर तोड़ने का काम भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर रही है।"
 
 
इस पर विपक्षी दलों ने तीखी प्रतिक्रिया ज़ाहिर की है। दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने इसे 'भारतीय सेना का अपमान' बताया है।
 
 
'हिंदू आतंकवाद'
योगी आदित्यनाथ ने 'हिंदू आतंकवाद' के शब्द को लेकर भी कांग्रेस पर निशाना साधा, "2007 में समझौता एक्सप्रेस ट्रेन धमाके के बाद कांग्रेस ने एक शब्द दिया था, हिंदू आतंकवाद। ये शब्द आया कहां से और कैसे कांग्रेस ने उस हिंदू समाज को आतंकवादी ठहरा दिया जो हिंदू अपनी सहिष्णुता के लिए, विश्वबंधुत्व के लिए दुनिया भर में जाना जाता है।"
 
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी महाराष्ट्र के वर्धा में सोमवार को एक चुनावी रैली में कांग्रेस पर हिंदू समाज को बदनाम करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, "भाईचारे की ज़िंदगी जीने वाले और पूरे विश्व को परिवार मानने वाले हिंदू समाज को आतंकी कह दिया। आतंकवाद को हिंदू के साथ जोड़ दिया, इसके कारण जहां मेजॉरिटी (बहुसंख्यक) लोग रहते हैं अब वहां से चुनाव लड़ने की उनकी हिम्मत नहीं पड़ रही है।"
 
 
उन्होंने कहा कि "आतंकवादी हिंदू कहने की सज़ा उन्हें मिल चुकी है और इसलिए भाग कर के, जहां मेजॉरिटी, माइनॉरिटी में है, वहां शरण लेने को वो मज़बूर हो गए।" बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी पश्चिमी यूपी के बिजनौर में हुई चुनावी रैली में हिंदू आतंकवाद को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा।
 
 
'कांग्रेस ने हिंदू धर्म को किया बदनाम'
बीते रविवार को बिजनौर और बागपत में हुई रैलियों में अमित शाह ने कांग्रेस पर हिंदू धर्म को बदनाम करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, "समझौता ब्लास्ट को हिन्दू आतंकवाद बोलकर कांग्रेस ने अपने वोटबैंक के लिए पूरी दुनिया में शांति और सौहार्द के प्रतीक हिन्दू धर्म को बदनाम किया। आतंकवाद को हिंदू धर्म के साथ जोड़ने का पाप कांग्रेस ने किया। राहुल बाबा आपको पता नहीं है हम तो चींटियों को भी आटा खिलाने वाले लोग हैं।"
 
 
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दो सीटों से लड़ने पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, "कांग्रेस की वोटबैंक की राजनीति ने देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ किया है और इसी का नतीजा है कि आज राहुल गांधी को अमेठी छोड़ कर केरल भागना पड़ रहा है, क्योंकि उनको पता चल गया है कि वहां उनका हिसाब किताब होने वाला है। पर आप कहीं भी चले जाओ जनता आपसे हिसाब ज़रूर मांगेगी।"
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

अगला लेख लोकसभा चुनाव 2019: क्या कश्मीर में अलग प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति हो सकता है?