Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

राम नवमी पर कविता : मेरे राम...

हमें फॉलो करें webdunia
webdunia

प्रीति दुबे

राम तुम्हें अब आना होगा
मैं शबरी बन जाऊंगी
ध्यान तुम्हारा नित मैं धरूंगी
रघुपति राघव गाऊंगी
 
राम तुम्हें अब आना होगा
बलिहारी राम मैं जाऊंगी
अधरों से झरा रज चरणों की
पलकों से पग सहलाऊंगी
 
राम तुम्हें अब आना होगा
नैनों की ज्योत जलाऊंगी
लोचन जल अमृत धारा से
पद प्रच्छालन रीत निभाऊंगी
 
राम तुम्हें अब आना होगा
श्रद्धा के सुमन बरसाऊंगी
पुष्पों से सजा' रघुनन्दन' पथ
आतिथ्य की प्रथा निभाऊंगी
 
राम तुम्हें अब आना होगा
'प्रीति' के भजन मैं गाऊंगी
मीठे बेरों को चुन चख कर
प्रभु तुमको भोग लगाऊंगी
 
राम तुम्हें अब आना होगा
दर्शन पा मैं तर जाऊंगी
पाकर' राजीव नयन' आशीष
एक ज्योति पुंज हो जाऊंगी
 
राम तुम्हें अब आना होगा
मैं शबरी बन जाऊंगी
मेरी भक्ति की शक्ति से 
परिशुद्ध' प्रीत'को निभाऊंगी
मैं शबरी बन जाऊंगी
सत्कार की' 'रीत' निभाऊंगी

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

चैत्र नवरात्रि 2021: उपवास और Work life कैसे करें मैनेज, जानिए 7 बिंदु